आम का अचार- भारत में अलग- अलग फ्लेवर
mango pickle-mishry

आम का अचार- भारत में अलग- अलग फ्लेवर

भारतीय लोगों को मसालेदार खाना बेहद पसंद है। इसलिए भारत में अचार को बहुत सारे फ्लेवर में बनाया जाता है। इसका स्वाद और टैक्शर लाजवाब होता है और हर बाइट मसालेदार होती है। यहां से आप आम का अचार बनाने की विधि के बारे में भी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

पूरी दुनिया में जो आचार मिलते हैं उसके मुकाबले भारत में मिलने वाले अचार बहुत अलग हैं। सामान्य भाषा में अचार का मतलब है कि किसी सब्जी या फल को खारा समाधान, सिरका या नमकीन तरल पदार्थ में भिगाकर रखना। यहां पर अचार, सब्जी और फल के अलावा कई सारी चीज़ो से बनाया जाता है। भारतीय अचार में कई सारे मसाले और हर्ब डाले जाते हैं।

भारतीय अचार में लाल मिर्च पाउडर, धनिया पाउडर, अदरक, लहसुन, हल्दी, सरसों, जीरा, सौंफ आदि डाले जाते हैं। भारतीय लोगों को मसाले बहुत पसंद हैं इसलिए अचार में कई मसाले डाले जाते हैं जो कई फ्लेवर में उपलब्ध हैं।

भारत में सबसे पॉपुलर और सबसे पसंदीदा अचार है- आम का अचार। आम का अचार कई तरीके से बनाया जा सकता है। भारत के अलग- अलग हिस्सों में आम का अचार अलग- अलग तरीके से बनाया जाता है। हर बाइट में इसका स्वाद और टैक्शर लाजवाब होता है। आम का अपना मौसम होता है इसलिए यह और भी ज्यादा पॉपुलर है क्योंकि इनको अपने मौसम में बनाया जाता है। भारी मात्रा में बनाए जाने वाला आम का अचार पूरे साल उपलब्ध रहता है।

आम के आचार को कच्चे आम से बनाया जाता है।

भारत में आम के अचार के प्रकार

जैसा कि आपको पहले ही बताया गया है कि भारत में आम का अचार कई तरीको से बनाया जाता है। हर एक राज्य में आम का अचार अलग- अलग मसालो के साथ बनाया जाता है। इनके लाजवाब स्वाद के कारण आम का अचार देखते ही मुंह में पानी आ जाता है। नीचे से आप आम के अचार के प्रकार से जुड़ी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

1. सिंपल और बेसिक आम का अचार

सबसे साधारण आम का अचार सिंपल और बेसिक है। इसमें कच्चे आम के छोटे- छोटे तुकड़े किए जाते हैं और फिर इन टुकड़ो को खारा समाधान में भिगाकर कुछ समय के लिए रखा जाता है। जब तक कटे हुए टुकड़े भीग रहे हैं तब तक फ्राई पैन में तेल को गर्म करें और सरसों के दाने तेल में रोस्ट करें। इसके बाद तेल में करी पत्ता भी डालें। सरसों के दाने फूटने के बाद, भिगोए हुए आम के टुकड़ो को डाले। अब समय मसालो को डालने का समय है- मिर्च पाउडर, हल्दी पाउडर और नमक डालें। सभी मसालों को कच्चे आम के टुकड़ो में अच्छे से मिलाएं और इसके बाद सिरका डालें। अचार को लंबे समय के लिए ताजा बनाए रखने के लिए सिरका का इस्तेमाल किया जाता है। आपका स्वादिष्ट और सिंपल आम का अचार तैयार है।

2. आंध्र अवकाया अचार

यह अचार ज्यादा मसालेदार होता है और इसको आंध्र प्रदेश में बनाया जाता है। इस अचार को बनाने के लिए कच्चा आम, सरसों के बीज, लाल मिर्च पाउडर, सौंफ, नमक, चना पाउर, हल्दी पाउडर और तिल के तेल की जरुरत होती है। कच्चे आम के टुकड़े करने से पहले इनको 1 घंटे के लिए पानी में भिगा दें।

कच्चे आम में मसाले डालने से पहले सभी मसालों को धूप में अच्छे से सुखा लें उसके बाद ही अचार में इस्तेमाल करें। सभी मसालों को अच्छे से एक साथ मिला लें और फिर तिल के तेल में डालें। अब मसालो के मिश्रण में तेल को डालें और फिर इस मिश्रण को कच्चे आम में डालें और अच्छे से मिलाएं। मिश्रण को इतने अच्छे से मिलाएं कि हर एक टुकड़े में मसाला अच्छे से चला जाए। अचार को साफ- सुधरे जार में रखें जिससे यह लंबे समय तक खाया जा सके।

3. राजस्थानी अचार

राजस्थान में बनाया जाने वाला आम का अचार भी काफी मसालेदार होता है। लेकिन यह आंध्र प्रदेश में बनाए जाने वाले अचार से अलग है। सबसे पहले कच्चे आम को काटना है और जार में नमक के पानी में भिगाकर रखना है। इनको 2 दिन तक भीगे रहने देना है। जिन सूखे मसालों की जरुरत है वो हैं- मिर्च पाउडर, सरसों का पाउडर, सौंफ और चक्र फूल (दिखने में एक तरह का सूखा गरम मसाला है) आदि। 2 दिन बाद कच्चे आम को नमक के पानी से निकाल लें और इन्हें सूखा लें।

कच्चे आम को सूखाने के बाद इनमें जरुरत से आधी मात्रा में तेल को डालें। अब बाकी सारी सामग्री को डालें और इनको एक जार में रख दें और बाकी बचे हुए तेल को भी डाल दें। अचार को लंबे समय के लिए चलाने के लिए जार में अचार को डालने के बाद तेल जरुर डालें। अगर तेल को अच्छे से रखा गया तो अचार एक साल तक खाया जा सकता है।

4. पंजाबी आम का अचार

पंजाबी आम का अचार पूरे भारत में पॉपुलर है। इसमें अचार में सौंफ के दाने, मेथी के दाने, प्याज के दाने, लाल मिर्च पाउडर, हींग, सरसों के बीज और सरसों के तेल को इस्तेमाल किया जाता है। कच्चे आम को अच्छे से साफ करें और छोटे- छोटे टुकड़े कर दें। तेल को फ्राई पैन में डालें और गैस स्टोव पर धीमी आंच पर तेल को गर्म होने दें। अब तेल को ठंडा होने दें।

सभी सूखे मसालों को अच्छे से एक साथ मिलाएं और कच्चे आम में डालें। आखिर में, सरसों के तेल को डालें और सभी मसालों को कच्चे आम के साथ अच्छे से मिल लें। अच्छे से मिक्स करने के बाद अचार को जार में डालें और फिर तेल भी डालें जिससे अचार लंबे समय के लिए खाने लायक रहे।

5. टेंडर आम का अचार

टेंडर आम के अचार को कदुमंगा अचार भी कहा जाता है जिसको कोमल आम से बनाया जाता है। इसको बनाना आसान है और इसको बनाने में कम सामग्री जरुरत होती है। टेंडर आम को अच्छे से साफ करें और 10 से 15 दिन तक नमक के पानी में भिगाकर रखें। 15 दिन बाद आम को नमक के पानी से निकाल लें। अब सरसो का पाउडर, मिर्च पाउडर और हींग को नमक के पानी में मिला लें और दोबारा से आम को कच्चे पानी में डाल लें। फिर से आम को कुछ दिनों तक नमक के पानी में रहने दें और बाद में खाने के लिए निकालें। आप देखेंगे कि आम का अचार सभी फ्लेवर के साथ बहुत रसीला और नमकीन है।

6. भरा हुआ आम का अचार

सभी आम के अचार के मुकाबले भरा हुआ आम का अचार बनाना थोड़ा मुश्किल होता है। सौंफ के दाने, मेथी के दाने, अजवाइन के दाने और सरसो के दाने सभी को अलग- अलग पीस लें। अब तेल गर्म करें और इसमें हल्दी पाउडर, हींग और बाकी सभी मसालों को फ्राई कर लें। बाद में लाल मिर्च को डालें। इस मिश्रण को कच्चे आम में भरें और जार में कुछ दिनों के रख दें। कुछ दिनों बाद आमके अचार में तिल का तेल डालें और दोबारा से कुछ दिन के लिए रख दें और इसके बाद खाएं।

आखिर में

जैसा कि आप देख सकते हैं कि आम का अचार कितने सारे अलग- अलग मसालों के साथ बनाया जाता है। इनका स्वाद लाजवाब होता है। भारत को अचार के लिए भी अनेकता में एकता कहा जा सकता है।

Subscribe to our Newsletter

0 0 votes
User Rating
Notify of
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments