अजवाइन के तेल के फायदे, नुकसान और कैसे करें इस्तेमाल (Benefits Of Oregano Oil | Side-Effects | How To Use)

अजवाइन के तेल के फायदे, नुकसान और कैसे करें इस्तेमाल (Benefits Of Oregano Oil | Side-Effects | How To Use)

अजवाइन तेल के फायदे बहुत हैं अगर सही से सेवन किया जाए। इसके साथ ही आप इस आर्टिकल से अजवाइन का तेल कैसे बनाये की जानकारी भी प्राप्त कर सकते हैं।

ओरगेनो तेल को हिंदी में अजवाइन का तेल कहा जाता है। अजवाइन सभी घरों में आसानी से मिल जाती है लेकिन क्या आपको पता है अजवाइन का तेल आपके लिए कितने फायदे लेकर आ सकता है। ओरगेनो को पूरी दुनिया में बेचा जाता है क्योंकि इसकी मांग बढ़ती जा रही है। इसका फ्लेवर आपके हर खाने को स्वादिष्ट बना देता है। यह तेल अपने स्वास्थ्य फायदो और स्वाद के लिए पुराने ज़माने से ही काफी चर्चा में है। इसको देसी दवाई की तरह भी इस्तेमाल किया जाता है। अजवाइन की पत्तियों से तेल निकाले का प्रोसेस बेहद आसान है। इसकी पत्तियों को सुखाने के बाद, भाप आसवन (steam distillation) के प्रोसेस की मदद से तेल निकाला जाता है।

यह हामरे पेट के लिए बहुत अच्छा होता है साथ ही वज़न कम करने में ही भी मदद करता है। अजवाइन के तेल में दो बेहद जरुरी चीज़ें होती है- कार्वक्रोल और थाइमोल। कार्वक्रोल एक तरह का एंटीऑक्सीडेंट है, वहीं कार्वक्रोल एंटी बैक्टीरियल है। इस आर्टिकल से आप अजवाइन के तेल से होने वाले फायदे, नुकसान और इसको कैसे इस्तेमाल किया जाता है कि जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

वीडियो- अजवाइन के तेल के फायदे

https://www.youtube.com/watch?v=PEsQbxMv1YI

अजवाइन के तेल (ओरगेनो ऑयल) के फायदे

पैरासाइट का नाश

अजवाइन के तेल एंटी बैक्टीरियल होता है जिससे यह हमारे शरीर के अंदर और बाहर मौजूद बैक्टीरिया को खत्म करने में मदद करता है। यह टेपवर्म, राउंडवॉर्म और अन्य बैक्टीरिया से लड़ने में मदद करता है। यह बैक्टीरिया हमारे शरीर में मुंह से आ जाते हैं। इसके अलावा यह हमारी त्वचा पर भी आ जाते हैं। अजवाइन का तेल हमें इन बैक्टीरिया से सुरक्षा देता है।

एंटी बायोटिक

एंटी बोयोटिक से हम खतरनाक बीमारी से बच सकते हैं। बीमारी से बचने के लिए हम एंटी बोयोटिक खाते हैं और ज्यादा मात्रा में खाने से यह हमारे शरीर को सही की बजाए खराब कर देंगे। लेकिन क्या आपको पता है अजवाइन की पत्तियां एंटी बोयोटिक की तरह काम कर सकती हैं। इनमें कार्वक्रोल और थाइमोल होते हैं- कार्वक्रोल एक तरह का एंटीऑक्सीडेंट है, वहीं कार्वक्रोल एंटी बैक्टीरियल है। यह दोनों ही बैक्टीरिया से लड़ने में मदद करते हैं।

साइड इफेक्ट को दूर रखता है

अजवाइन के तेल के फायदो की लैब में जांच की गई है। एमटीएक्स (methotrexate) एक तरह का ड्रग है जो गठिया की बीमारी के लिए इस्तेमाल किया जाता है। औ इसके साइड इफेक्ट से आंतो को नुकसान हो सकता है। इसको चूहों पर इस्तेमाल किया गया जिसके बाद इनको अजवाइन का तेल दिया गया। जिसके बाद यह असरदार साबित हुआ। अजवाइन का तेल एंटी इंफ्लामेट्री होता है जिस कारण से आंतों पर असर दिखने लगा।

एंटी इंफ्लामेट्री

अजवाइन के तेल को जिन पत्तियों से निकाला जाता है उन पत्तियों में एंटी इंफ्लामेट्री का गुण होता है जिसकी जानकारी आपको पिछले प्वाइंट से हो गई होगी। इस कारण से अजवाइन का तेल गठिया में होने वाले दर्द को कम करने में मदद करता है। साथ ही यह एक प्राकृतिक इलाज भी है।

oregano plant-mishry

अजवाइन का पौधा

एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर

अजवाइन के तेल का सबसे बड़ा फायदा इसके एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होना है। यह बुढ़ापे में होने वाली बीमारीयों से बचाता है। इसके अलावा यह हमारे इम्यून सिस्टम को मजबूत रखता है और बीमारीयों से लड़ने में मदद करता है।

स्वस्थ डाइजेशन

अजवाइन का तेल खाने से हमारे शरीर में एंजाइम की गतिविधि बढ़ जाती है जिससे कम समय में सभी जरुरी आहार हमारे शरीर को मिल जाएं। इससे शरीर में जो बिना पचा हुआ खाना होता है उसको बाहर निकालने में मदद करता है। इसके अलावा जब पेट में खाना पचने में परेशानी होती है तो अजवाइन का तेल मददगार साबित होता है।

वज़न कम करना

अजवाइन के तेल में मौजूद कार्वक्रोल जो एंटी बैक्टीरियल है, यह वज़न कम करने में भी दद करता है। हमारे शरीर में जो फैट सेल होते हैं उनको बनने से रोकते हैं। जिस कारण हमारे शरीर का वज़न नहीं बढ़ता है।

एंटी वायरल गुण

अजवाइन के तेल का सेवन करने से हमारे शरीर में सफेद बल्ड सेल को बढ़ाने में मदद करता है। यह हमारे इम्यून सिस्टम में मौजूद होते हैं जो बीमारी से बचाता है। इसलिए सफेद ब्लड सेल के बढ़ने से शरीर हमेशा बीमारी से दूर रहते है जैसे कि वायरल, पॉक्स आदि।

आंत स्वस्थ बनाने में मदद

अजवाइन का तेल हमारी आंतो को मजबूत करता है। और यह इसके एंटी पैरासिटिक होने के कारण होता है। जिससे यह आंत में मौजूद पैरासाइट को खत्म करने में मदद करता है।

एलर्जी से बचाव

इसके एंटी एलर्जी होने के कारण यह हमें किसी भी तरह की एलर्जी से बचाता है। यह एक प्रकार की प्राकृतिक दवाई है। अजवाइन के तेल का सेवन करने से एलर्जी के कारण गले में हुई सूजन से भी राहत देता है।

अजवाइन के तेल (ओरगेनो ऑयल) के नुकसान

जैसे हर चीज़ के फायदे होते हैं तो उसके नुकसान भी होते हैं। वैसा ही कुछ अजवाइन के तेल के साथ भी है। यह तेल एंजाइम की गतिविधी को बढ़ा देता है। अगर इस तेल का सेवन अधिक मात्रा में कर लिया जाए तो पेट में एंजाइम की गतिविधी बहुत ज्यादा बढ़ जाएगी जिससे पेट खराब हो सकता है। इसलिए हर चीज़ का सेवन सही मात्रा में करने से ही उसके फायदे मिलते हैं। अजवाइन के तेल से जुड़े कुछ नुकसान की जानकारी आप नीचे से प्राप्त कर सकते हैं।

खून पतला करता है

अजवाइन का तेल आपके शरीर में खून को पतला करता है और खून को जमा होने से भी रोकता है। अगर अजवाइन के तेल का सेवन अधिक मात्रा में कर लिया गया तो शरीर में खून का बहाव ज्यादा हो सकता है, जो शरीर के लिए हानिकारक है।

पाचन शक्ति में परेशानी

अजवाइन के तेल को पाचन करने में मददगार माना जाता है। अगर इस तेल का सेवन अधिक मात्रा में कर लिया जाए तो पेट में एंजाइम की गतिविधी बहुत ज्यादा बढ़ जाएगी जिससे पेट खराब हो सकता है।

यह भी पढ़ें- सौंफ खाने से दिल और पाचन शक्ति कैसे रखें स्वस्थ, यहां से पढ़ें।

ज़हर फैलने का डर

जब अजवाइन के तेल को खाया जाता है तब शरीर में मौजूद पैरासाइट को मारने का काम करता है। जिसके बाद यह पैरासाइट अपने अंदर से ज़हर निकालते हैं। अर अजवाइन का तेल अधिक मात्रा में लिया गया तो यह ज्यादा पैरासाइट को मारेगा जिससे ज्यादा मात्रा में ज़हर निकलेगा। और यह शरीर के लिए खतरनाक हो सकता है।

प्रेग्नेंट महिला के लिए सही नहीं है

अजवाइन के तेल से शरीर में खून का बहाव बढ़ जाता है। यह खून का बहाव उस परत को हटा सकता है जो बच्चे को सुरक्षा प्रदान करता है। तेल का सेवन करने से खून का बहाव ज्यादा हो जाता है जो बच्चे को नुकसान पहुंचा सकता है।

ऊपर दिए गए किसी भी नुकसान की आपको चिंता नहीं करनी चाहिए अगर आप सही मात्रा में अजवाइन के तेल का सेवन कर रहें हैं। अगर आप कोई दवाई ले रहें हैं तो तेल को अपनी डाइट में शामिल करने से पहले अपने डॉक्टर से जरुर सलाह लें।

oregano-mishry

यह हमारे इम्यून सिस्टम को मजबूत रखता है।

अजवाइन के तेल कैसे करें इस्तेमाल

अजवाइन के तेल को इस्तेमाल करने से पहले आपको यह पता होना जरुरी है कि इसको इस्तेमाल कैसे किया जाता है। आपको बता दें कि यह तेल गाढ़ा होता है इसलिए इसको त्वचा, शरीर या फिर खाने से पहले इसको पतला कर लें।

किसी और चीज़ में मिलाने से पहले एक बात का खास ध्यान रखना जरुरी है। जिस चीज़ में अजवाइन के तेल को मिला रहें हैं उसके मुकाबले तेल की मात्रा कम होनी चाहिए। उदाहरण के लिए अगर आप अजवाइन के तेल को त्वचा पर लगाने के लिए इस्तेमाल कर रहें हैं तो इसको ओलिव ऑयल के साथ मिक्स कर लें। अगर आप एक चम्मच ओलिव ऑयल डाल रहें हैं तो इसमें अजवाइन के तेल की कुछ बूंदें ही मिलाएं।

साथ ही अगर आप अजवाइन के तेल को खाने में इस्तेमाल कर रहें हैं तो 240 एमएल पानी में कुछ ही बूंदे तेल की डालें। अजवाइन के तेल को इस्तेमाल करने से पहले आपको इन सभी बातों का खास ध्यान रखना जरुरी है। अगर आप इसके फायदे उठाना चाहते हैं तो आज ही अजवाइन के तेल को अपनी डाइट में शामिल करें।

FAQs

  1. अजवाइन के तेल का इस्तेमाल किसमें किया जाता है? (How can we use oregano oil?)

    आमतौर पर अजवाइन के तेल का इस्तेमाल त्वचा, चोट, डेंड्रफ, दांत में दर्द, कीड़ा काटने पर, मांसपेशियों में दर्द आदि के लिए किया जाता है। शरीर में होने वाली बाहरी दर्द के लिए अजवाइन का तेल बहुत लाभदायक है।

  2. अजवाइन के तेल के फायदे क्या हैं? (What are the health benefits of oregano oil?)

    अजवाइन तेल के कई फायदे हैं जैसे कि वजन कम करने में मदद, स्वस्थ डाइजेशन के लिए, एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर, मांसपेशियों में दर्द सही करने के लिए आदि।

  3. क्या अजवाइन के तेल को पी/ खा सकते हैं? (Can you drink oregano oil?)

    अजवाइन का तेल पिया या खाया नहीं जाता है। आमतौर पर अजवाइन के तेल का इस्तेमाल मांसपेशियों में दर्द, त्वचा पर, दांत में दर्द, कीड़ा काटने पर किया जाता है।

  4. अजवाइन के तेल का इस्तेमाल किस बीमारी में किया जा सकता है? (What oregano can cure?)

    अजवाइन के तेल का इस्तेमाल कई बीमारी में किया जाता है जेसे कि अस्थमा, खांसी, मांसपेशियों में दर्द, दांत में दर्द, मासिक धर्म में होने वाला दर्द, एलर्जी आदि। किसी भी बीमारी के लिए अजवाइन का तेल इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर से सलाह जरुर लें।

Subscribe to our Newsletter

0 0 votes
User Rating
Notify of
Notify of
guest
1 Comment
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments