तिल के तेल के फायदे- कैसे इस्तेमाल करें (13 Wondrous Benefits Of Sesame Seeds)

तिल के तेल के फायदे- कैसे इस्तेमाल करें (13 Wondrous Benefits Of Sesame Seeds)

तिल के तेल का सेवन करने से मैटाबोल्जिम के साथ- साथ सोचने की क्षमता भी अच्छी होती है। बाकी कुकींग ऑयल के मुकाबले तिल का तेल ज्यादा सेहतमंद है और दिल के लिए भी फायदेमंद है। तिल के तेल के फायदे इन हिंदी में जानकारी यहां से प्राप्त कर सकते हैं।

तिल में स्वस्थ फैट और फाइबर होता है जो हड्डियों को मजबूत करने में मदद करता है। अधिकतर लोग तिल के तेल से होने वाले फायदो से अंजान है। लेकिन हम ऐसा नहीं होने देंगे क्योंकि इस आर्टिकल से आप तिल के तेल के फायदे की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। तिल का तेल ओमेगा 6- फैटी एसिड से भरपूर है और साथ ही इसमें भारी मात्रा में फ्लेवोनोइड फेनोलिक एंटीऑक्सिडेंट पाए जाते हैं जो फ्री रेडिकल से लड़ने में मदद करते हैं। इसके साथ ही इसमें विटामिन के साथ- साथ डायट्री फाइबर भी होता है जो अपने साथ कई सारे फायदे लेकर आता है। पिछले कुछ सालों में तिल का तेल काफी पॉपुलर हो गया है और इसको वेजिटेबल ऑयल की जगह इस्तेमाल कर सकते हैं। अपनी किचन में तिल के तेल को शामिल करने से पहले तिल के तेल के फायदे इन हिंदी में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

इसमें विटामिन के साथ- साथ डायट्री फाइबर भी होता है जो अपने साथ कई सारे फायदे लेकर आता है।

तिल के तेल के फायदे

1. एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर

विटामिन ई और विटामिन के से भरपूर होने के कारण यह एक बहुत अच्छा एंटीऑक्सीडेंट है जो फ्री रेडिकल से लड़ने में मदद करता है। फ्री रेडिकल शरीर में स्वस्थ सेल के मिलकर शरीर को नुकसान देते हैं। लेकिन एंटीऑक्सीडेंट फ्री रेडिकल के साथ मिल जाते हैं और इनसे लड़ते हैं। स्वस्थ सेल के साथ मिलने से पहले एंटीऑक्सीडेंट फ्री रेडिकल के साथ मिल जाते हैं और शरीर की सुरक्षा करते हैं। तिल के तेल में भारी मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट पाए जाते हैं जिससे फ्री रेडिकल का खतरा कम हो जाता है।

2. सेहतमंद दिल

तिल के तेल में फैटी एसिड होता है जो दिल को स्वस्थ रखने में मदद करता है। कई पॉलीअनसेचुरेटेड फैटी एसिड जैसे कि सीसमोल और सेसमिन (दोनों तिल के तेल में मौजूद होते हैं) खराब कोलेस्टॉल को कम करने में मदद करते हैं। कोलेस्टॉल के लेवल को कम रखने से दिल सेहतमंद रहता है जिससे हार्ट अटैक और स्ट्रोक के आसार कम हो जाते हैं।

3. एंटी इंफ्लामेट्री खूबी

तिल के तेल को त्वचा पर लगाने से भी कई सारे फायदे होते हैं। तिल के तेल में कॉपर मौजूद है जो एंटी इंफ्लामेट्री खूबी वाला मिनरल है। गठिया की बीमारी के लिए कॉपर को लाभदायक माना जाता है। गठिया की बीमारी टिश्शू में जलन होने लगती है लेकिन कॉपर के होने से इस बीमारी से आराम मिलता है। तिल के तेल से मसाज करने से सूजन में आराम मिलता है।

4. बेहतर खून का बहाव

एंटी इंफ्लामेट्री की तरह ही तिल के तेल में कॉपर होने के कारण यह शरीर के सभी अंगो में खून का बहाव सामान्य बनाए रखता है। कॉपर सेड ब्लड सेल को प्रोड्यूज करने में मदद करता है जो सेहतमंद जिंदगी जीने के लिए जरुरी है। सही मात्रा में कॉपर होने के कारण शरीर में रेड ब्लड सेल की मात्रा बनी रहती है जो शरीर को सही मात्रा में ऑक्सीजन भी मिलता रहता है। इससे एनिमिया की बीमारी से बचाव रहता है और सोचने की क्षमता भी अच्छी होती है।

सही मात्रा में कॉपर होने के कारण शरीर में रेड ब्लड सेल की मात्रा बनी रहती है जो शरीर को सही मात्रा में ऑक्सीजन भी मिलता रहता है।

5. चिंता को कंट्रोल करता है

तिल के तेल में टायरोसिन नाम का कंपाउंड है जो सेरोटोनिन के लेवल को दिमाग में बढ़ने में मदद करता है। सेरोटोनिन एक होर्मोन है जो खुशी को बढ़ाने में मदद करता है और चिंता से राहत देता है। तिल के तेल के फायदे के बारे में लोगों को ज्यादा पता नहीं है खासकर इस फायदे से लोग अकसर अंजान रहते हैं।

6. लो ब्लड प्रेशर

तिल के तेल में आसानी से मिलने वाले मिनरल्स हैं- ज़िक और कॉपर, दोनों ही ब्लड प्रेशर डाइट में शामिल करने से लाभ देते हैं। क्यों? इसका जवाब उन तथ्यों में से जो बताए नहीं जाते हैं। अधिकतर सभी खाने में कुछ मात्रा में नमक पाया जाता है जिसको कैमिकल रुप में NaCl जाना जाता है। सोडियम की मात्रा शरीर में अधिक होने से ब्लड वेसल्स जकड़ जाती हैं जिससे ब्लड प्रेशर बढ़ जाता है। तभी ज़िक और कॉपर अपना काम करते हैं। यह सोडियम के साथ मिल जाते हैं और ब्लड वेसल्स को जकड़ने से रोकते हैं और ब्लड प्रेशर कंट्रोल करते हैं।

संबंधित आर्टिकल
सूरजमुखी तेल (सनफ्लावर ऑयल) के 12 फायदे और नुकसान।
अजवाइन के तेल (ओरगेनो ऑयल) से फायदे, नुकसान और कैसे करें इस्तेमाल।

7. मेटाबोल्जिम को बढ़ाते हैं

बाकी आहार के मुकाबले डायट्री फाइबर की मात्रा कम होती है लेकिन यह मेटाबोल्जिम को सुधारने में मदद करते हैं। फाइबर को पचने में ज्यादा समय लगता है जिससे शरीर में फैट बर्न होता है औ ज्यादा एनर्जी भी लगती है। इससे प्रोसेस में मेटाबोल्जिम अच्छा हो जाता है।

8. सामान्य शुगर लेवल

ज़िक और कॉपर के अलावा तिल के तेल में मैग्नीशियम होता है जो ब्लड शुगर लेवल को सामान्य बनाए रखने में मदद करता है। मैग्नीशियम के होने से इंसूलिन बनने में मदद मिलती है। इसलिए मैग्नीशियम का सेवन करने से ब्लड शुगर लेवल को सामान्य बनाए रखने में मदद मिलती है।

मैग्नीशियम का सेवन करने से ब्लड शुगर लेवल को सामान्य बनाए रखने में मदद मिलती है।

9. स्वस्थ त्वचा

तिल के तेल में विटामिन ई और एंटीऑक्सीडेंट होने के कारण यह त्वचा को फ्री रेडिकल से बचाकर रखने में मदद करते हैं। इसके अलावा तिल के तेल को त्वचा पर लगाने से यह ज़िक को अब्जॉर्ब करने में मदद करती है। ऐसा करने से त्वचा को फ्री रेडिकल के नुकसान से बचाव मिलता है। तिल का तेल त्वचा पर लगाने से सुरक्षा की परत आ जाती है जो त्वचा को नमी देती है।

10. हड्डियों की डेंसिटी को सुधारने में मदद

कैल्शियम को हड्डियों को मजबूत करने के लिए जाना जाता है। तिल के तेल में भरपूर मात्रा में कैल्शियम पाया जाता है। जब शरीर से एक्सट्रा पानी निकलता है तो साथ में कैल्शियम की कुछ मात्रा भी निकलती है। इस निकाले गए कैल्शियम की जगह खून में मौजूद कैल्शियम के कण आ जाते हैं। इस बात का ध्यान रखना जरुरी है कि जितनी मात्रा में कैल्शियम शरीर से बाहर निकलता है उससे दो गुनी मात्रा में कैल्शियम शरीर में होना चाहिए नहीं तो हड्डियां कमजोर हो जाएगी। तिल के तेल में भारी मात्रा में कैल्शियम पाया जाता है जो शरीर में इसकी कमी नहीं होने देती है।

11. मजबूत बालों की जड़ें

आर्युवेद के समय से तिल के तेल को बालों को स्ट्रोंग और सेहतमंद बनाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। तिल के तेल से बालों का प्राकृतिक रंग बरकरार रहता है। एंटी बैक्टीरियल खूबी होने के कारण बालों में रूसी नहीं होती है और त्वचा में नमी बनी रहती है।

12. स्वस्थ मुंह

तिल के तेल से कुल्ला करने दांत सफेद रहते हैं। एंटी बैक्टीरिया की खूबी होने के कारण यह दातों में सड़न और परत बनने नहीं देते हैं। यह बैक्टीरिया को भी पैदा नहीं होने देते हैं जिससे आप बीमार हो सकते हैं।

तिल के तेल को कैसे इस्तेमाल करें

तिल के तेल के फायदे जानने के साथ- साथ जरुरी है कि आप इसको कैसे इस्तेमाल कर सकते हैं कि भी जानकारी प्राप्त कर लें। नीचे से आप यह जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

तिल के तेल को कई तरह से इस्तेमाल कर सकते हैं।

1. तेल को पीना

तिल के तेल को इस्तेमाल करने का यह तरीका सबसे पॉपुलर है। वेजिटेबल ऑयल की जगह आप तिल के तेल को इस्तेमाल कर सकते हैं। पॉलीअनसेचुरेटेड फैट होने के कारण यह दिल के लिए लाभदायक है जो इसको इस्तेमाल करने का मुख्य कारण है।

2. त्वचा पर लगाने के लिए

तिल के तेल में एंटी इंफ्लामेट्री और एंटी बैक्टीरियल खूबी होती है। इन दोनों खूबी के कारण आपको इससे मसाज कर सकते हैं खासकर गठिया के मरीज तिल के तेल से मसाज करने से जोड़ो में आराम मिलता है। और साथ ही इसमें कॉपर भी होता है जो सूजन में आराम देता है।

आखिर में

वेजिटेबल ऑयल की जगह तिल के तेल को इस्तेमाल करने का फैसला कभी गलत नहीं हो सकता है। यह तेल आपको हर जगह से फायदे देता है जैसे कि सेहत, त्वचा आदि। तिल के तेल में विटामिन और मिनरल्स होने के कारण यह आपको बहुत सारे फायदे देता है। इस आर्टिकल में भी हम आपको यही सलाद देते हैं कि किसी भी चीज़ को अपनी डाइट में उसके फायदे और नुकसान के बारे में जानने के बाद ही अपनी डाइट में शामिल करें। और साथ ही अपने शरीर को भी ध्यान में रखते हुए अपनी डाइट में बदलाव करें।

FAQs

  1. क्या तिल का तेल सेहत के लिए अच्छा है? (is sesame oil good for health?)

    एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होने के कारण तिल के तेल के फायदे कई सारे हैं। और यह एक सेहतमंद फैट भी है जिसको डाइट में शामिल किया जा सकता है।

  2. क्या तिल का तेल बालों में लगा सकते हैं? (Can we apply sesame oil to hair daily?)

    तिल का तेल बालों में गुनगुना कर लाग सकते हैं। बालों की जड़ों में तिल का तेल लगाएं और हल्के हाथ से मालिश करें और लगभग 20 से 25 मिनट के बाद पानी से धो लें। ऐसा करने से बाल सेहतमंद और मजबूत बनते हैं।

  3. क्या तिल के तेल खाना बनाने के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं? (Can sesame oil be used for cooking?)

    लाइट तिल के तेल का इस्तेमाल डीप फ्राई के लिए कर सकते हैं वहीं डार्क तिल के तेल का इस्तेमाल सोते, रोस्ट करने के लिए कर सकते हैं।

  4. क्या जोड़ों के दर्द के लिए तिल के तेल का इस्तेमाल कर सकते हैं? (Is sesame oil good for joint pains?)

    जोड़ों के दर्द के लिए तिल के तेल को बहुत अच्छा माना जाता है। जोड़ों में दर्द होने पर तिल के तेल से हल्के हाथ से मालिश करें। दिन में 2-3 बार मालिश कर सकते हैं।

  5. क्या तिल का तेल त्वचा पर इस्तेमाल कर सकते हैं? (Is sesame seed oil good for skin?)

    तिल का तेल त्वचा पर लगाने से खराब सेल सही हो जाती हैं और बैक्टीरिया, सूरज की हानिकारक किरणों से बचाव करने में भी मदद करता है।

Subscribe to our Newsletter

0 0 votes
User Rating
Notify of
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments