नवरात्रि शॉपिंग लिस्ट
Navratri Shopping List

नवरात्रि शॉपिंग लिस्ट

नवरात्रि फूड शॉपिंग लिस्ट (Navratri 2022 Shopping List) में सभी व्रत में खाने वाली चीजें हैं जिन्हें आप नवरात्रि के लिए खरीद सकते हैं। प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट से भरपूर, इस लिस्ट में आपके लिए सब कुछ है।

नवरात्रि साल में दो बार आते हैं जिसमें नौ दिनों के लिए नौ देवियों की पूजा की जाती है। दुर्गा मां को शक्ति, पार्वती और शेरावाली मां भी कहते हैं जिन्हें बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक माना जाता है।

त्योहार और खाना, ऐसा लगता है दोनों एक दूसरे के लिए बने हैं। त्योहार के समय घरों में नए- नए पकवान बनाने का उत्साह अलग होता है। अगर आपको लगता है कि नवरात्रि में खाने के लिए सीमित चीजें हैं या फिर ज्यादा खाने के ऑप्शन नहीं मिल सकते हैं तो आप गलत हैं।

इस आर्टिकल में दी गई नवरात्रि फूड लिस्ट की मदद से आप व्रत के समय में आनंद ले सकते हैं। इस नवरात्रि लिस्ट में रेडी-टू-ईट फूड से लेकर स्वादिष्ट मील्स उपलब्ध हैं। इस नवरात्रि फूड लिस्ट को देखकर आपके मुंह में जरूर पानी आ जाएगा। 

जैसा कि सभी को पता है कि नवरात्रि साल में दो बार आते हैं। पौराणिक और आध्यात्मिक कारण के अलावा महत्वपूर्ण प्राकृतिक कारण भी हैं।

नवरात्रि, एक मौसम के अंत और नए मौसम के शुरुआत का प्रतीक है। इस दिन से दिन बड़े हो जाते हैं और ज्यादा देर के लिए सूरज की रोशनी रहती है।

नवरात्रि 2022 के पहले दिन को चैत्र नवरात्रि कहते हैं जो 26 सितंबर, 2022 से शुरू है और आखिर नवरात्रि 5 अक्टूबर 2022 को है। सर्दियों में आने वाले नवरात्रि को आश्विन नवरात्रि कहते हैं।

नवरात्रि का महत्व

  • जब मौसम में बदलाव आता है तब नवरात्रि के दिन आते हैं जिससे शरीर लो इम्यूनिटी की बुरी एनर्जी से दूर रहे।
  • व्रत की मदद से शरीर में सहनशक्ति बढ़ती है और शांति प्राप्त होती है।
  • नवरात्रि, बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है।
  • देवी दुर्गा ने राक्षस महिषासुर को हराया था जिसकी खुशी में नवरात्रि (सर्दियों में आने वाले नवरात्रि) मनाए जाते हैं।
  • ऐसा कहा जाता है कि नौ दिन और रात पूजा करने से जीवन में मौजूद 9 बुरी शक्तियों से लड़ने की शक्ति मिलती है।
  • नौ बुरी शक्तियां हैं – क्रोध, लालच, वासना, मोह, अहंकार, भय, ईर्ष्या, द्वेष और पाप।

नवरात्रि व्रत के लिए फूड शॉपिंग लिस्ट

व्रत में इस्तेमाल होने वाले अनाज, आटे और फल तक, यहां से आप अपनी नवरात्रि फूड शॉपिंग लिस्ट बना सकते हैं। 

इस लिस्ट में कुछ ऐसी चीजें भी हैं जो हो सकता है कि आपकी किचन में पहले से उपलब्ध हो। इनके साथ ही नवरात्रि में नट्स, बीज, ड्राई फ्रूट्स भी नवरात्रि फूड लिस्ट का अहम हिस्सा हैं।

आखिर में आप नवरात्रि की पूजा में सुविधा के मिलने वाले सामान के बारे में जानकारी ले सकते हैं।

नवरात्रि फूड लिस्ट में हमने नवरात्रि में आसानी से बनने वाली मीठी और नमकीन रेसिपी के बारे में भी बात की है।

1. कुट्टू

कुट्टू का आटा आंत स्वास्थ्य के लिए सेहतमंद माना जाता है जो कैल्शियम और मैग्नीशियम से भरपूर होता है। कुट्टू का आटा हड्डियां मजबूत बनाने में भी मदद करता है।

कुट्टू मिनरल्स से भरपूर होता है जिससे यह नवरात्रि के लिए महत्वपूर्ण आटा बन जाता है। 

नवरात्रि में कुट्टू क्यों महत्वपूर्ण है?

  • कुट्टू का आटा फल के बीजों से बनाया जाता है।
  • कुट्टू खाने से पेट लंबे समय के लिए भरा रहता है जिससे यह बेस्ट नवरात्रि खाना बन सकता है।
कटोरी में कुट्टू का आटा
नवरात्रि में कुट्टू के आटे से स्वादिष्ट डिश बनाएं

2. अमरनाथ

अमरनाथ पोषण से भरपूर है। यह फाइबर और विटामिन से भरपूर होता है। इसके साथ ही अमरनाथ को व्रत के अलावा रेगुलर डाइट में शामिल किया जाता है। अमरनाथ का सेवन करने से शरीर में आयरन की कमी नहीं होती है और मांसपेशियां स्वस्थ बन रहती हैं। इससे कोलेजन लेवल भी सामान्य बना रहता है।

नवरात्रि में अमरनाथ क्यों महत्वपूर्ण है?

  • व्रत के लिए उपलब्ध कई खाने की चीजें प्रोटीन से भरपूर नहीं होती हैं लेकिन अमरनाथ एक ऐसी चीज है जो प्रोटीन से भरपूर होती है और इसका सेवन व्रत के समय किया जा सकता है।
  • अमरनाथ अमीनो एसिड से भरपूर होता है और इसके साथ ही और ऐसे एसिड भी प्रोड्यूस करता है जो हमारा शरीर प्राकृतिक तरीके से भी नहीं कर पाता है।
  • अमरनाथ में मौजूद फाइबर पाचन शक्ति को स्वस्थ बनाए रखने में मदद करता है।

3. सामक के चावल

व्रत में चावल खाने का मन कर रहा है? व्रत में सामक के चावल कॉफी पॉपुलर हैं जो आयरन और मैग्नीशियम से भरपूर होते हैं। इस प्रकार के चावल से आप मीठी या नमकीन डिश बना सकते हैं।

नवरात्रि में सामक के चावल क्यों महत्वपूर्ण है?

  • सामक के चावल टूटे हुए होते हैं।
  • इनमें जरूरी माइक्रोन्यूट्रिएंट्स होते हैं जो रोजाना की जरूरत को पूरा करने में मदद करते हैं।
  • सामक के चावल में सोडियम की मात्रा कम होती है जो पानी की कमी नहीं होने देने में मदद करते हैं।

4. सेंधा नमक

हर तरीके से सेंधा नमक सुपरफूड है। सेंधा नमक में सोडियम क्लोराइड का प्योर फोम है जिसके अनेक फायदे हैं। मांसपेशियों के खिंचाव से लेकर सामान्य ब्लड प्रेशर और स्वस्थ पाचन शक्ति में मदद करते हैं।

नवरात्रि में सेंधा नमक क्यों महत्वपूर्ण है?

  • स्वाद बढ़ाने के लिए सेंधा नमक फलों के ऊपर डालकर खा सकते हैं।
  • काजू या भुने हुए मखाने के ऊपर सेंधा नमक डालकर खाने से फ्राइड फूड खाने की इच्छा पूरी होने में मदद मिल सकती है।
  • सेंधा नमक से मिनरल्स अब्जॉर्ब होने में मदद मिलती है।
कटोरी में सेंधा नमक
नवरात्रि डिश में सेंधा नमक डालें

5. जीरा

फ्लेवर और स्वाद के अलावा जीरा एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होता है। व्रत के समय जीरा शुगर लेवल सामान्य बनाए रखने में मदद कर सकता है। इसके साथ ही जीरा के फायदे स्वस्थ पाचन शक्ति और त्वचा का ख्याल रखने में भी लाभदायक साबित होता है।

नवरात्रि में जीरा क्यों महत्वपूर्ण है?

  • व्रत के समय कार्बोहाइड्रेट का सेवन कम हो जाता है जिस वजह से नींद आने में दिक्कत हो सकती है। ऐसे में जीरे के फायदे मदद कर सकते हैं।
  • जीरे को इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए भी जाना जाता है। 
  • व्रत रखने से शरीर से टॉक्सिन बाहर निकल जाता है और इसमें जीरा भी मदद करता है।
पीली प्लेट में जीरा
जीरा स्वस्थ डाइजेशन में मदद करता है।

6. काली मिर्च

काली मिर्च में पिपरमाइन पाया जाता है जिसे एंटीऑक्सीडेंट, एंटीमाइक्रोबियल और गैस्ट्रो-संभावित मॉड्यूल के लिए जाना जाता है। काली मिर्च का पानी पीने से भूख कम लगती है जो कुछ लोगों के लिए फायदेमंद हो सकता है।

नवरात्रि में काली मिर्च महत्वपूर्ण क्यों है?

  • जहां लाल मिर्च से शरीर का तापमान बढ़ता है वहीं काली मिर्च का उपयोग लाल मिर्च की जगह किया जा सकता है।
  • फल, नट्स या स्नैक्स पर काली मिर्च डालकर खा सकते हैं।
  • काली मिर्च साबूदाना की डिश में डालकर खा सकते हैं।
काली मिर्च
काली मिर्च

7. शुगर

सही से काम करने के लिए हमारे दिमाग को शुगर की जरूरत होती है। मनुष्य को कितनी मात्रा में शुगर की जरूरत है यह उम्र, लिंग, शारीरिक गतिविधियों आदि पर निर्भर करता है। नवरात्रि में शुगर का सेवन करने से एनर्जी और कार्बोहाइड्रेट मिलता है।

नवरात्रि में शुगर महत्वपूर्ण क्यों है?

  • शुगर खाने से डेजर्ट खाने की इच्छा पूरी हो सकती है।
  • चीनी की मदद से खीर बना सकते हैं।
  • शुगर से इंस्टेंट एनर्जी मिलती है।

8. बिना नमक वाली मूंगफली

मूंगफली माइक्रोन्यूट्रिएंट्स से भरपूर होती है। मूंगफली नवरात्रि स्नैक्स के लिए अच्छा ऑप्शन है क्योंकि इनमें हाई फैट, मीडियम प्रोटीन और कम कार्ब्स होते हैं। मिड-डे मील की तरह इन्हें खाया जा सकता है। इससे आप नवरात्रि के खाने में टैक्शर शामिल कर सकते हैं।

नवरात्रि में मूंगफली क्यों महत्वपूर्ण है?

  • बिना नमक वाली मूंगफली फैट से भरपूर होती हैं।
  • बिना नमक वाली मूंगफली खाने से फ्राइड फूड खाने की इच्छा पूरी हो सकती है।
  • नवरात्रि के व्रत में बिना नमक वाली मूंगफली का पेस्ट बनाकर केले के साथ खा सकते हैं।
  • कच्ची मूंगफली साबूदाना खिचड़ी के साथ खा सकते हैं।
कटोरी में मूंगफली
नवरात्रि में बिना नमक वाली मूंगफली खाएं।

9. साबूदाना

साबूदाना के फायदे कई सारे हैं जो नवरात्रि में लिए जा सकते हैं। साबूदाना प्राकृतिक रूप से ठंडा होता है जो व्रत में लाभदायक साबित हो सकता है। साबूदाना ग्लूटेन फ्री होते हैं और इंस्टेंट एनर्जी मिलती है। साबूदाना के फायदे हड्डियों को मजबूत बनाने में मदद करते हैं।

नवरात्रि में साबूदाना महत्वपूर्ण क्यों है?

  • साबूदाना से आप मीठी खीर या नमकीन खिचड़ी बना सकते हैं। 
  • साबूदाना का डोसा बनाने के लिए भिगोए हुए साबूदाना का पेस्ट बना लें। साबूदाना का पेस्ट बनाने के लिए इसमें दही डालें जिससे स्थिरता सही बने रहे। इसके साथ ही सामक के चावल और कुट्टू के आटे से डोसा का आकार सही बनाए रखने में सहायता मिलती है।
  • साबूदाना में कैलोरी की मात्रा ज्यादा होती है और इससे पेट भी जल्दी भर जाता है।
साबूदाना
साबूदाना

10. आलू के चिप्स

फ्राइड और नमकीन खाने का मन कर रहा है? आलू के चिप्स हाज़िर हैं। नवरात्रि में व्रत के लिए खाने की चीजों की डिमांड बढ़ जाती हैं इसलिए अधिकतर ब्रांड व्रत के लिए प्रोडक्ट बनाने में काफी मेहनत करती है। इन पैक्ड स्नैक्स पर लिखा होता है कि इसमें किस तरह के नमक का उपयोग किया जाता है।

नवरात्रि में आलू के चिप्स महत्वपूर्ण क्यों है?

  • आलू के चिप्स खाने से जंक फूड खाने की इच्छा पूरी होने में मदद मिल सकती है।
  • व्रत के लिए आलू की चिप्स ऑनलाइन और ऑफलाइन माध्यम पर आसानी से उपलब्ध हैं।
  • यह घर बनाना आसान है क्योंकि कुछ ही सामग्री की जरूरत पड़ती है।
  • आलू पोषण से भरपूर होते हैं।

11. साबूदाना पापड़

कई लोगों को खाना खाने के बाद पापड़ की आदत होती है। व्रत के समय आप रेगुलर उड़द दाल के पापड़ नहीं खा सकते हैं लेकिन साबूदाना के पापड़ खा सकते हैं। साबूदाना पापड़ खाने से तुरंत एनर्जी मिलती है। पापड़ का फ्लेवर बढ़ाने के लिए आप जीरे का उपयोग कर सकते हैं।

नवरात्रि के लिए साबूदाना पापड़ क्यों महत्वपूर्ण है?

  • साबूदाना, एनर्जी लेने का अच्छा आधार है।
  • इन से खाने में टैक्शर और स्वाद शामिल हो जाता है।
  • साबूदाना पापड़ आसानी से उपलब्ध हैं।

12. लड्डू/ चिक्की 

व्रत में डेजर्ट? व्रत में खाने वाला खाना जरूरी नहीं है कि सिंपल हो। व्रत में आप डेजर्ट खाने की इच्छा पूरी कर सकते हैं।

  • मूंगफली के लड्डू
  • राजगिरा लड्डू
  • काजू चिक्की
  • मिक्स्ड फ्रूट चिक्की
  • तिल गुड़ के लड्डू

ऊपर दी गई सभी डिश व्रत के अनुसार बनाई जाती हैं। लड्डू और चिक्की के लिए गुड़ को मुख्य सामग्री के रूप में इस्तेमाल किया जाता है जिससे डिश को आकार देने में आसानी हो।

13. आलू

आलू से हमें एक चीज सीखनी चाहिए है कि आलू का उपयोग कई तरह से किया जा सकता है। आलू के फायदे फाइबर और कार्बोहाइड्रेट से भरपूर होते हैं और अधिकतर हर सब्जी में इस्तेमाल कर सकते हैं।

आलू को फ्राई, रोस्ट, साबूदाना या सामक के चावल में मिक्स करें, खिचड़ी बनाकर इस्तेमाल कर सकते हैं।

नवरात्रि में आलू क्यों महत्वपूर्ण है?

  • आलू के फायदे कार्बोहाइड्रेट और फाइबर से भरपूर होते हैं जो एनर्जी देने में मदद करते हैं।
  • आलू का उपयोग कई तरह की डिश बनाने के लिए किया जा सकता है।
  • आलू ग्लूटेन फ्री है।
उबले हुए आलू
उबले हुए आलू

14. कच्चा पपीता

पपीता जब हरा होता है उसे कच्चा पपीता कहते हैं।

हमें पपीते के फायदे के बारे में पता है लेकिन क्या आपको कच्चे पपीते के फायदे के बारे में पता है?

कच्चे पपीते में काइमोपापेन और पापेन पाया जाता है। यह एंजाइम थायराइड के मरीजों के लिए लाभदायक होते हैं और इसके साथ ही पाचन शक्ति को स्वस्थ बनाए रखने में भी मदद करते हैं।

नवरात्रि में कच्चा पपीता क्यों महत्वपूर्ण है?

  • कच्चा पपीता फाइबर से भरपूर होता है जो शरीर को ठंडा रखने में मदद करता है।
  • कच्चे पपीते को कसकर या सलाद की तरह खाया जा सकता है। कच्चे पपीते के ऊपर सेंधा नमक और भुनी हुई मूंगफली डालें और नवरात्रि स्नैक्स तैयार है।
  • कच्चे पपीते को नवरात्रि स्नैक्स के अलावा हलवा बनाकर भी खा सकते हैं।

15. शकरकंद

शकरकंद के फायदे विटामिन ए से भरपूर होते हैं। आलू की तरह ही शकरकंद एक अच्छा नवरात्रि स्नैक्स ऑप्शन बन सकता है। 

शकरकंद प्राकृतिक रूप से मीठे होते हैं और साथ ही कार्बोहाइड्रेट और फाइबर से भरपूर होते हैं। इससे शुगर की मात्रा सामान्य बने रहने में मदद मिलती है।

नवरात्रि में शकरकंद क्यों महत्वपूर्ण है?

  • शकरकंद से आप चाट या पेटिस बना सकते हैं।
  • शकरकंद फाइबर और मिनरल्स से भरपूर होती हैं।
  • नवरात्रि में पोटेशियम से भरपूर शकरकंद खाना सेहतमंद साबित हो सकता है।
शकरकंद
शकरकंद

16. कद्दू

कद्दू के फायदे ब्लड शुगर लेवल सामान्य बनाए रखने में मदद कर सकते हैं। इसके साथ ही कद्दू में फाइबर भरपूर मात्रा में पाया जाता है। 

नवरात्रि के लिए कद्दू क्यों महत्वपूर्ण है?

  • कद्दू का हलवा बनाया जा सकता है।
  • कद्दू की सब्जी भी बना सकते हैं जो फ्लेवर से भरपूर होती है।
  • यह लो कैलोरी फूड है।

17. कच्चा केला

कच्चे केले में ऐसे विटामिन और मिनरल्स पाए जाते हैं जो आमतौर पर रोजाना के खाने में नहीं पाए जाते हैं। उदाहरण के लिए कच्चे केले में विटामिन सी और बी 6 भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं। यह स्टार्च लेने का अच्छा आधार है खासतौर पर नवरात्रि के लिए।

नवरात्रि में कच्चे केले महत्वपूर्ण क्यों है?

  • कच्चे केले में पेक्टिन पाया जाता है जिसे सात्विक प्रभाव (satiating effect) के लिए जाने जाते हैं।
  • व्रत के समय ब्लड शुगर लेवल सामान्य बनाए रखने के लिए कच्चे केले का सेवन किया जा सकता है।
  • कच्चे केले खाने से पेट से जुड़ी दिक्कतें जैसे कि गैस, एसिडिटी कम होने में मदद मिल सकती है।
नवरात्रि में फल खाएं
नवरात्रि में फल खाएं

18. घीया

घीया पानी से भरपूर होती है। आमतौर पर घीया का सेवन गर्मियों में करना लाभदायक साबित हो सकता है। घीया के फायदे चिंता कम करने में मदद, खराब कोलेस्ट्रॉल के लेवल कम बनाए रखने के लिए जाने जाते हैं। इसके साथ ही घीया के फायदे विटामिन सी, के और कैल्शियम से भरपूर होते हैं।

नवरात्रि में घीया क्यों महत्वपूर्ण है?

  • घीया की मदद से स्वादिष्ट खीर बना सकते हैं।
  • इससे आप स्वादिष्ट ड्रिंक भी बना सकते हैं।
  • घीया खाने से अच्छी नींद आने में मदद मिलती है।

19. नारियल पानी

नवरात्रि में नारियल पानी को बेस्ट माना जाता है। नारियल पानी के फायदे पोटेशियम से भरपूर होते हैं जो स्वस्थ रखने में मदद करते हैं। नारियल पानी प्राकृतिक रूप से मीठा होता है। यह मैग्नीशियम और अमीनो एसिड से भरपूर होता है।

नवरात्रि में नारियल पानी क्यों महत्वपूर्ण है?

  • व्रत में खाने कम खाते हैं लेकिन नारियल पानी की मदद से शरीर में पानी की कमी नहीं होती है। 
  • कैफीन ड्रिंक के मुकाबले नारियल पानी के फायदे कई सारे हैं।
  • नारियल के अंदर वाली मलाई जरूरी फैट और प्रोटीन से भरपूर होती है।
नारियल पानी
नारियल पानी

20. खीरा

खीरा में 95% पानी होता है। इसमें कैलोरी की मात्रा कम होती है लेकिन यह जरूरी पोषण से भरपूर है। खीरा के ऊपर सेंधा नमक डालकर खाना व्रत में लाभदायक भी साबित हो सकता है। 

नवरात्रि में खीरा महत्वपूर्ण क्यों है?

  • खीरा पानी से भरपूर होती है जो शरीर में पानी की कमी नहीं देती है।
  • दिन के बीच में भूख लगने पर खीरा खा सकते हैं।
  • खीरा का रायता भी घर में आसानी से बनाकर खा सकते हैं।

21. टमाटर

नवरात्रि के लिए टमाटर सुपरफूड होते हैं। टमाटर एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होते हैं। इसके साथ ही टमाटर में कई विटामिन पाए जाते हैं जैसे कि विटामिन के, ए, बी1, बी3, बी5, बी6, बी और सी। टमाटर में मिनरल्स भी पाए जाते हैं जैसे कि पोटेशियम, फोलेट और आयरन।

नवरात्रि के लिए टमाटर क्यों महत्वपूर्ण है?

  • सेंधा नमक और काली मिर्च डालकर टमाटर का जूस बना सकते हैं।
  • गर्मियों में आने वाले नवरात्रि में टमाटर के फायदे धूप से बचाव करने में मदद करते हैं।
  • टमाटर की ग्रेवी में केले के कोफ्ते या आलू की सब्जी बना सकते हैं।
कटोरी में टमाटर
टमाटर शामिल करें

22. अरबी

अरबी नवरात्रि का खाना है जो आंत के स्वास्थ्य के लिए बेहद जरूरी होता है। अरबी फाइबर से भरपूर होती है। यह स्टार्च लेने का भी अच्छा आधार है।

नवरात्रि में अरबी महत्वपूर्ण क्यों है?

  • अरबी को फ्राई करने के बाद सेंधा नमक और काली मिर्च डालकर खा सकते हैं।
  • सलाद के लिए अरबी को हरी मिर्च के साथ पका सकते हैं।
  • अरबी में 17 जरूरी अमीनो एसिड पाए जाते हैं।

23. नींबू

खासतौर से नवरात्रि के समय नींबू के फायदे विटामिन सी से भरपूर होते हैं। नवरात्रि डिश में नींबू डालने से स्वाद तो बढ़ ही जाता है इसके साथ ही शरीर में पानी की कमी नहीं होती है।

नवरात्रि में नींबू महत्वपूर्ण क्यों है?

  • नींबू जरूरी पोषण से भरपूर होते हैं जैसे कि आयरन, कैल्शियम और मैग्नीशियम।
  • नींबू का सेवन करने से इम्यूनिटी बढ़ाने में मदद मिलती है।
  • नींबू पोषक तत्वों को बेहतर तरीके से आत्मसात (assimilation) करने में मदद करता है।
नींबू
नींबू

24. हरी मिर्च

मसाले की कमी लग रही है? अब नहीं लगेगी। हरी मिर्च में स्ट्रांग स्पाइसी फ्लेवर होता है। इसके साथ ही आप छौंक कर मिर्च खा सकते हैं। हरी मिर्च को बीच से काटे और गैस पर थोड़ी पकाएं और मिर्च खाने के लिए तैयार है।

नवरात्रि के लिए हरी मिर्च क्यों महत्वपूर्ण है?

  • हरी मिर्च प्राकृतिक रूप से कोलेस्ट्रॉल फ्री होती हैं।
  • हरी मिर्च बेहतर डाइजेशन में मदद करती हैं।
  • हरी मिर्च विटामिन सी से भरपूर होती हैं जिससे त्वचा में निखार आता है।

25. अदरक

व्रत में अदरक भी खाई जा सकती है। चाय से लेकर खाने तक, अदरक का स्वाद और फ्लेवर शामिल किया जा सकता है। 

नवरात्रि में अदरक महत्वपूर्ण क्यों है?

  • अदरक से नवरात्रि के खाने में फ्लेवर और स्वाद शामिल कर सकते हैं।
  • कुछ लोगों को व्रत के समय मितली का अनुभव हो सकता है जिससे राहत दिलाने में अदरक मदद कर सकती है।
  • अपच से आराम देने में अदरक लाभदायक साबित हो सकती है।
अदरक
अदरक

26. सिंघाड़ा

आमतौर पर व्रत में सिंघाड़े के आटे का सेवन किया जाता है। सिंघाड़े फल खाना भी लाभदायक होता है। इसमें कैलोरी की मात्रा बहुत कम होती है। सिंघाड़ा फाइबर, प्रोटीन, पोटेशियम, कैल्शियम, मैग्नीज, कॉपर से भरपूर होता है।

नवरात्रि में सिंघाड़ा क्यों महत्वपूर्ण है?

  • सिंघाड़ा फाइबर से भरपूर होता है जो लंबे समय के लिए पेट भरा रखने में मदद करता है।
  • सिंघाड़ा पानी में उगता है जिससे यह प्राकृतिक रूप से शरीर के लिए ठंडा होता है।
  • इस फल, आटे या स्नैक्स के तौर पर नवरात्रि में खा सकते हैं।

27. दही, दूध, पनीर, लस्सी

नवरात्रि व्रत में डेयरी प्रोडक्ट का सेवन किया जा सकता है। दही और पनीर को दूध से बनाया जाता है वहीं लस्सी को दही के उपयोग से बनाया जाता है। जिन लोगों को लैक्टोज असहिष्णुता है वो लोग लस्सी और दही का सेवन कर सकते हैं क्योंकि इन्हें बनाने के प्रोसेस के दौरान बैक्टीरिया का जन्म होता है जो लैक्टिक एसिड के डाइजेशन में मदद करता है।

नवरात्रि में दही, दूध, पनीर, लस्सी क्यों महत्वपूर्ण है?

  • नवरात्रि में इन सभी चीजों का सेवन किया जा सकता है जो प्रोटीन और कैल्शियम लेने के अच्छे माध्यम हैं।
  • कार्बोहाइड्रेट की मात्रा कम होने के कारण इन सभी का सेवन करने से शरीर में आलस नहीं आता है।
  • नवरात्रि के व्रत के दौरान आप दूध से डेजर्ट भी बना सकते हैं।
डेयरी प्रोडक्ट
डेयरी प्रोडक्ट

28. फल

जब बात फलों की है तो आप हर तरह के फल व्रत में खा सकते हैं। नवरात्रि के मौसम में मिलने वाले फल जैसे कि केला, आम, सेब आदि खा सकते हैं। फल फाइबर और प्राकृतिक शुगर से भरपूर होते हैं जिससे पेट भरा रहे सकता है।

नवरात्रि में फल क्यों महत्वपूर्ण है?

  • फलों का स्वाद तो अच्छा होता ही है इसके साथ ही यह माइक्रोन्यूट्रियंस से भरपूर होते हैं
  • फलों को डेजर्ट में इस्तेमाल किया जा सकता है।
  • फल एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होते हैं।
  • फलों से कई टैक्शर मिलते हैं।

29. काजू

नवरात्रि फूड लिस्ट में काजू सबसे स्वादिष्ट होते हैं। काजू विटामिन सी, प्रोटीन और अच्छे फैट से भरपूर होते हैं। इसके साथ ही रोजाना काजू खाने से कॉपर, मैंगनीज और मैग्नीशियम की मात्रा सामान्य बनी रहती है। काजू के फायदे इम्यूनिटी स्ट्रांग, मजबूत हड्डियां और दिमाग की सेहत बनाए रखने में मदद करते हैं।

नवरात्रि में काजू क्यों महत्वपूर्ण है?

  • नवरात्रि की खीर में काजू डालकर खा सकते हैं।
  • काजू और किशमिश अच्छा स्नैक्स बन सकता है।
  • काजू से काजू कतली और काजू की बर्फी घर में बना सकते हैं।
काजू
काजू

32. मखाना

नवरात्रि व्रत की खाने की चीजों में सिर्फ मखाना ही ऐसा फूड है जिसमें फैट के मुकाबले कार्बोहाइड्रेट और प्रोटीन की मात्रा ज्यादा है। नवरात्रि व्रत में आप मखाने स्वाद लेकर खा सकते हैं।

नवरात्रि में मखाने क्यों महत्वपूर्ण है?

  • मखाने पेट के लिए हल्के होते हैं।
  • मखाने के ऊपर सेंधा नमक और काली मिर्च डालें और नवरात्रि स्नैक्स तैयार है।
  • मखाने को रोस्ट कर भी खाया जा सकता है।

33. खजूर

खजूर के फायदे इंस्टेंट एनर्जी के लिए जाने जाते हैं। यह प्राकृतिक रूप से मीठे होते हैं और कार्बोहाइड्रेट से भरपूर होते हैं। खजूर फाइबर के अलावा कई सारे पोषण से भरपूर होते हैं।

नवरात्रि के लिए खजूर क्यों महत्वपूर्ण है?

  • नवरात्रि के समय मौसम में बदलाव आते हैं और इस समय में खजूर का सेवन करना लाभदायक साबित हो सकता है।
  • खजूर का उपयोग प्राकृतिक स्वीटनर के रूप में किया जा सकता है।
  • खजूर का पेस्ट बनाकर। इसमें कटे हुए नट्स डालकर फ्रीजर में रख दें और स्वादिष्ट डेजर्ट तैयार है।
खजूर
खजूर

30. बादाम

बादाम सुपरफूड है। बादाम के फायदे त्वचा से लेकर बालों के लिए कई सारे हैं। बादाम में सेहतमंद फैट, प्रोटीन, फाइबर, मैग्नीशियम और विटामिन ई पाए जाते हैं। सही मात्रा में बादाम का सेवन करने से कई फायदे मिल सकते हैं।

नवरात्रि में बादाम क्यों महत्वपूर्ण है?

  • बादाम में नटी टैक्शर होता है जो नवरात्रि के डेजर्ट को और भी अच्छा बना सकता है।
  • रात भर भिगोए हुए बादाम खाने से पोषण अच्छे से अब्जॉर्ब होते हैं।
  • बादाम दिल की सेहत बनाए रखने में मदद करते हैं।

31. अखरोट

अखरोट, प्लांट बेस्ड ओमेगा- 3 का स्त्रोत है। अखरोट खाने के फायदे दिमाग की सेहत को अच्छा बनाए रखने के लिए खासतौर पर जाने जाते हैं।

नवरात्रि के लिए अखरोट महत्वपूर्ण क्यों है?

  • अखरोट खाने से जलन कम होने में मदद मिलती है।
  • 4-5 अखरोट खाने से पेट भर सकता है।
अखरोट
अखरोट

34. किशमिश

किशमिश का साइज छोटा होता है लेकिन यह पोषण से भरपूर होती हैं। किशमिश के फायदे स्वस्थ डाइजेशन और आयरन की मात्रा बढ़ाने में मदद करते हैं। किशमिश फाइबर, मिनरल्स और विटामिन से भरपूर होती हैं।

नवरात्रि के लिए किशमिश क्यों महत्वपूर्ण है?

  • किशमिश और काजू का सेवन सेहतमंद स्नैक्स के तौर पर किया जा सकता है।
  • नवरात्रि में खाने वाले डेजर्ट में किशमिश का उपयोग कर सकते हैं।
  • रात भर भिगोए हुई किशमिश खाने से एनीमिया जैसी बीमारी होने के आसार कम हो जाते हैं।
किशमिश
किशमिश

35. नारियल

किसी भी नए काम की शुरुआत करने से पहले नारियल फोड़ा जाता है। नई कार, नया घर, नया बिजनेस शुरू करने से पहले नारियल फोड़कर शुभारंभ किया जाता है।

वैसे ही नारियल को पूजा की थाली में भी रखा जाता है। नवरात्रि पूजा के लिए पानी वाले नारियल को लाल कपड़े और लाल धागे से बांधा जाता है।

36. कपूर

पूजा थाली में कपूर भी रखा जाता है। मंदिर में अखंड ज्योति को बाई तरफ रखा जाता है वही कपूर को पूजा थाली में जलाया जाता है।

पूजा के समय कपूर को बुरी शक्तियों को दूर रखने के लिए और खुशबू फैलाने के लिए जलाया जाता है।

37. घी

आमतौर पर दीया जलाने के लिए घी का उपयोग किया जाता है। शुद्ध गाय के घी से दीया जलाकर पूजा की जाती है। यह पर्यावरण में सत्व घटकों को बढ़ावा देने के लिए जाना जाता है। सत्व में धैर्य, क्षमा करने की क्षमता और आध्यात्मिक भावना होती है।

ऐसा कहा जाता है कि घी का दीया जलाने से बीमारियां दूर रहती हैं।

38. अगरबत्ती

अगरबत्ती का उपयोग पूजा में किया जाता है जो बलिदान का प्रतीक है। अगरबत्ती जलाने के बाद राख में बदल जाती है लेकिन अपनी खुशबू छोड़ जाती है। धार्मिक स्थानों पर पूजा के लिए अगरबत्ती का उपयोग किया जाता है। 

सारांश

नवरात्रि शुरु होने वाले हैं और हमने आपका काम आसान करने की कोशिश की है। हमने आपके लिए नवरात्रि शॉपिंग लिस्ट बनाई है जिससे आपको शॉपिंग करने में मदद मिलेगी। आशा करते हैं यह नवरात्रि शापिंग लिस्ट आपकी मदद करेगी।

क्या आप ऊपर दी गई नवरात्रि शॉपिंग लिस्ट कुछ शामिल करना चाहेंगे?

Subscribe to our Newsletter

0 0 votes
User Rating
Notify of
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments