बेल के फायदे और नुकसान (Bael (Wood Apple) Benefits & Side Effects In Hindi)

बेल के फायदे (Wood Apple Benefits) गर्मियों में बढ़ जाते हैं। बेलपत्र (Bael Fruit) से जूस, चटनी, जेली आदि बना सकते हैं। बेल के फायदे (Bael Benefits) जानने के लिए यह आर्टिकल पढ़ सकते हैं।

बेल को बेलपत्र और अंग्रेज़ी में वुड एप्पल (Wood Apple) के नाम से जाना जाता है। भारत में बेल पत्र की खेती करीब 4000 साल से ज्यादा समय से की जा रही है। बेल को आयुर्वेद में जड़ी बूटी के रुप में इस्तेमाल किया जाता है। भारत में बेल पत्र के पत्तों का इस्तेमाल पूजा के लिए भी किया जाता है। आपको बता दें कि बेल पत्र में ऐसे कई पौष्टिक तत्व पाए जाते हैं जो सेहत के लिए लाभदायक होते हैं। बेल के फायदे (wood apple benefits) कई सारे हैं जैसे कि कब्ज से राहत, कोलेस्ट्रॉल, डायबिटीज कंट्रोल करने में मदद, लिवर की बीमारी दूर करने में मदद आदि। गर्मियों में बेल पत्र के जूस का सेवन गर्मी से राहत पाने के लिए किया जाता है। बेल के फायदे और नुकसान (benefits and side effects of bael fruit in hindi) से जुड़ी जानकारी इस आर्टिकल से विस्तार से प्राप्त कर सकते हैं।

बेल के फायदे गर्मियों में बढ़ जाते हैं।
विषय सूची

बेल के पौष्टिक तत्व (Bael (WoodApple) Nutritional Value in Hindi)

बेल के फायदे (wood apple benefits) कई सारे हैं अगर इसका सेवन सही तरीके से किया जाए। आपको बता दें कि बेल पत्र के फायदे सेहत से जुड़े सबसे ज्यादा हैं। इसमें मौजूद पौष्टिक तत्व के कारण बेल पत्र के फायदे (wood apple benefits) बढ़ जाते हैं। बेल के पौष्टिक तत्व की जानकारी नीचे दी गई टेबल से प्राप्त कर सकते हैं।

पोषणमात्रा – 100 ग्राम
एनर्जी134
नमी64 ग्राम
प्रोटीन7 ग्राम
फैट4 ग्राम
मिनरल2 ग्राम
कार्बोहाइड्रेट18 ग्राम
कैल्शियम130 ग्राम
फॉस्फोरस110 एमजी
आयरन0 एमजी

बेल के फायदे (Benefits Of Bael Fruit (Wood Apple))

बेल के फायदे (wood apple benefits) सेहत से जुड़े कई सारे हैं जैसे कि स्वस्थ पेट, कोलेस्ट्रॉल, डायबिटीज कंट्रोल में रहते हैं, एनर्जी बढ़ाने में मदद, स्वस्थ डाइजेशन आदि। इसके अलावा भी बेल पत्र के फायदे (wood apple benefits) कई सारे हैं जिससे जुड़ी सारी जानकारी नीचे से प्राप्त कर सकते हैं।

1) बेल के फायदे एनर्जी बढ़ाने के लिए (Wood Apple Benefits For Increasing Energy)

बेल के फायदे (wood apple benefits) गर्मियों में खासतौर पर जाने जाते हैं। गर्मियों में अकसर आपको सड़क किनारे बेल पत्र जूस की रेढ़ी जरुर मिलेगी। लू भरे दिन में बेल पत्र का जूस (wood apple juice) पीने से शरीर को एनर्जी मिलती है जिससे गर्मी सहन करने की क्षमता बढ़ने में मदद मिलती है। अगर आप गर्मी में बाहर हैं तो साफ और सेहतमंद बेल पत्र जूस का सेवन अवश्य करें। इसके अलावा नींबू पानी, गन्ने का जूस, नारियल पानी का भी सेवन कर सकते हैं।

गर्मियों में डाइट में जूस जरुर शामिल करें।

2) बेल पत्र के फायदे कब्ज से दिलाएं राहत (Bael Fruit Helps In Get Rid Of Constipation)

बेल पत्र को कब्ज से राहत पाने के लिए भी जाना जाता है। सामान्य कब्ज से राहत पाने के लिए घरेलू उपाय अपनाने की सलाह दी जाती है। इसके अलावा कब्ज से छुटकारा पाने के लिए बेल पत्र का जूस (wood apple juice) बहुत लाभदायक होता है। बेल पत्र का जूस (wood apple juice) सही मात्रा और सही तरीके से लेने से कब्ज की परेशानी दूर होने में मदद मिलती है। बेल पत्र का जूस 2 से 3 महीने तक रोजाना पीने से कब्ज से राहत पाने में मदद मिल सकती है।

3) बेल के पत्ते का उपयोग छालों से राहत देने में मदद (Benefits Of Wood Apple For Curing Ulcers)

अगर आपको अकसर छालें होते रहते हैं तो शायद बेल के फायदे (wood apple benefits) आपके काम आ सकते हैं। आपको बता दें कि बेल में सही मात्रा में थानिन पाया जाता है जो छालों को सही करने में मदद करता है। छालों के लिए बेल के पत्तों का उपयोग किया जाता है। बेल पत्र के लाभ पाने के लिए बेल के पत्तों को रातभर के लिए पानी में भिगा दें और फिर अगली सुबह पानी का सेवन करें। इसके अलावा आप बेल पत्र के जूस का सेवन भी कर सकते हैं। छालें ठीक होने तक बेल पत्र के जूस या बेल पत्र के पत्तों के पानी का सेवन कर सकते हैं।

बेलपत्र के फायदे छालों में आरामदेने के लिए।

4) बेल के लाभ कोलेस्ट्रॉल कंट्रोल करने के लिए (Wood Apple Benefits For Regulating Cholesterol)

बेल के फायदे (wood apple benefits) कोलेस्ट्रोल कंट्रोल करने में भी मदद करते हैं। आपको बता दें कि बेल के पत्तों में मिथनॉल की खूबियां पाई जाती हैं जो कोलेस्ट्रॉल लेवल को कम करने में मदद करती हैं। बेल के फायदे (wood apple benefits) प्राप्त करने के लिए आप इसका सेवन चाय, शरबत या पानी के रूप में कर सकते हैं।

5) बेल के फायदे स्वस्थ लिवर के लिए (Bael Fruit For Healthy Liver)

बेल के फायदे (wood apple benefits) लिवर के लिए भी कई सारे हैं। आपको बता दें कि बेल पत्र में बीटा कैरोटीन पाया जाता है जो लिवर को स्वस्थ रखने में मदद करता है। यह तत्व लिवर को अच्छे से काम करने में मदद करता है।

6) बेल पत्र के फायदे बुखार में लाभदायक (Benefits Of Wood Apple In Fever)

आयुर्वेद में बेल पत्र को बुखार के दौरान इस्तेमाल किया जाता है। बेल पत्र की जड़ों को बुखार में उपयोग किया जाता है। बुखार होने पर बेल पत्र के पत्तों का काढ़ा बनाकर सेवन किया जाता है। ऐसा करने से बुखान उतरने में मदद मिलती है। इसके अलावा बुखार में बेल पत्र का जूस (wood apple juice) का भी सेवन करना लाभदायक होता है।

बेलपत्र को बुखार में इस्तेमाल किया जाता है।

7) बेल के लाभ सेहतमंद दिल के लिए (Benefits Of Wood Apple For Healthy Heart)

बेल पत्र के फायदे (wood apple benefits) दिल को सेहतमंद बनाने के लिए भी जाने जाते हैं। बेल पत्र का सेवन करने से दिल की बीमारियां होने के आसार कम हो जाते हैं। दिल की बीमारी से गुजर रहे लोगों को बेल पत्र का काढ़ा या फिर बेल का जूस (wood apple juice) पीने की सलाह दी जाती है।

8) बेलपत्र के फायदे डायबिटीज में (Bael Fruit Benefits In Diabetes)

बेल के फायदे (wood apple benefits) डायबिटीज कंट्रोल करने में सहायक होते हैं। बेल पत्र का सेवन करने से शुगर और इंसुलिन का लेवल सामान्य बना रहता है जिससे डायबिटीज की बीमारी होने या फिर बढ़ने के आसार कम होने में मदद मिलती है। बेल में फेरोनिया नाम का तत्व पाया जाता है जो शुगर और इंसुलिन के लेवल को कम करने में मदद करता है। डायबिटीज के दौरान बेल पत्र को डाइट में शामिल कर सकते हैं। लेकिन इससे पहले डॉक्टर से सलाह जरुर लें।

9) बेल के फायदे स्वस्थ डाइजेशन के लिए (Benefits Of Wood Apple For Good Digestion)

अगर आपको आमतौर पर पाचन में परेशानी होती है जो शायद बेल के फायदे (wood apple benefits) आपके काम आ सकते हैं। बेल के फायदे स्वस्थ तरीके से पाचन प्रक्रिया पूरी करने में मदद करते हैं। जैसा कि आपको पहले भी बताया है कि बेल में फेरिया नामक तत्व पाया जाता है जो स्वस्थ डाइजेशन करने में मदद करता है। बेल को डाइट में शामिल करने से पेट से जुड़ी बीमारी दूर रहती है।

बेल के फायदे स्वस्थ पाचन शक्ति रखने में मदद करते हैं।

10) बेल पत्र के गुण एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होते हैं (Wood Apple Benefits Are Full Of Antioxidants)

बेल पत्र के फायदे (wood apple benefits) एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होते हैं। एंटीऑक्सीडेंट फ्री रेडिकल से लड़ने में मदद करते हैं। फ्री रेडिकल शरीर में प्रवेश करते हैं जो स्वस्थ सेल के साथ मिल जाते हैं और इन्हें खराब कर देते हैं। अगर शरीर में सही मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट मौजूद हैं तो यह फ्री रेडिकल से लड़ने में मदद करते हैं और स्वस्थ सेल को किसी भी तरह के नुकसान से बचाकर रखने में मदद करते हैं। बेल में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट शरीर को कई हानिकारक बीमारी से बचाव रखने में मदद करते हैं।

11) बेल के फायदे त्वचा के लिए (Benefits Of Wood Apple For Skin)

बेल के फायदे (wood apple benefits) त्वचा के लिए भी कई सारे हैं। बेल पत्र के फायदे (wood apple benefits) त्वचा के लिए प्राप्त करने के लिए बेल पत्र जूस का सेवन रोजाना करना चाहिए। इसके अलावा बेल पत्र जूस में शहद डालकर पीने से भी त्वचा स्वस्थ रहती है। बेल में सोरलिन नाम का तत्व पाया जाता है जो त्वचा को सूरज की किरणों से बचाकर रखता है। इसलिए बेल पत्र के जूस को डाइट में जरुर शामिल करें।

12) बेल के फायदे बालों के लिए (Wood Apple Benefits For Hair)

बेल के फायदे (wood apple benefits) बालों के लिए भी बहुत सारे हैं। बेल के पत्तों का सेवन करने से बालों की जड़ें मजबूत होती हैं जिससे बालों का झड़ना कम होने में मदद मिलती है।

बेल पत्र से बनने वाली डिश (Wood Apple Dishes In Hindi)

बेल पत्र के फायदे (wood apple benefits) जानने के बाद जरुर है कि आप इसे अपनी डाइट में अवश्य शामिल करें। बेलपत्र का जूस (wood apple juice) बहुत पॉपलुर है। गर्मियों में सड़क किनारे आपको बेल के जूस की रेढ़ी आसानी से मिल जाएगी। लेकिन क्या आपको बता दें कि बेलपत्र का जूस (wood apple juice) आप घर में भी आसानी से बना सकते हैं। इसके साथ ही बेल की अन्य डिश की जानकारी भी आप यहां से ले सकते हैं।

1) बेल का जूस (Wood Apple Juice)

बेलपत्र का जूस (wood apple juice) घर में आसानी से बनाया जा सकता है। अगर आप भी बेल पत्र का जूस (wood apple juice) सेहतमंद तरीके से घर की सुविधा में बनाना चाहते हैं तो यहां से पूरी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

बेलपत्र जूस बनाने की विधि

  • बेलपत्र जूस बनाने के लिए सबसे पहले बेलपत्र छीलें।
  • आपको बता दें कि बेलपत्र में जो बीज होते हैं वो बहुत कड़वे होते हैं इसलिए इनको इस्तेमाल ना करें।
  • बेलपत्र छीलें और इसका गुद्दा निकाल लें।
  • गुद्दा निकालने के बाद इसमें पानी डालें और सारी गांठ खत्म कर दें।
  • अब दूसरे बर्तन के ऊपर छलनी लगाएं और जूस छान लें।
  • जूस और बीज अलग करने के बाद इस जूस को मिक्सी में डालें।
  • जूस में दूध और चीनी भी डालें।
  • अच्छे से मिक्स करें। आप चाहें तो बर्फ भी डाल सकते हैं।
  • जूस गिलास में निकाल लें और आपका जूस पीने के लिए तैयार है।
गर्मियों में बेलपत्र का जूस रोजाना पिया जा सकता है।
फोटो उदाहरण के लिए

2) बेल की चटनी (Wood Apple Chutney)

बेलपत्र के जूस के अलावा बेल की चटनी भी बना सकते हैं। आपको बता दें कि जूस की तरह बेल की चटनी बनाने की विधि बेहद सिंपल हैं।

बेल की चटनी बनाने की विधि

  • बेल की चटनी बनाने के लिए सबसे पहले बेलपत्र का गुद्दा निकाल लें और इसमें से बीज निकाल लें।
  • अब फ्राई पैन में तेल डालें और तेल में लहसुन, हरी मिर्च और जीरा डालें। तीनों सामग्री को पहले पीस लें और फिर तीनों का मिश्रण एक साथ तेल में डालें।
  • सामग्री पकने के बाद बेलपत्र का गुद्दा डालें और पकने दें।
  • बेलपत्र का गुद्दा पकने के बाद इसमें गुड़ डालें और पकने दें।
  • अब ऊपर से नमक और हरा धनिया डालें।
  • थोड़ी देर पकने दें।
  • चटनी का रंग लाल और सुंदर होने तक पकाएं।
  • आपकी बेलपत्र की चटनी तैयार है।
बेलपत्र चटनी में मीठे के लिए गुड़ डालें।
फोटो उदाहरण के लिए

3) बेलपत्र की जेली (Wood Apple Jelly)

बेलपत्र से जेली भी बनाई जा सकती हैं। बच्चों को जेल बेहद पसंद आती है तो क्यों ना बच्चों को घर में बनी सेहतमंद जेली खिलाई जाए।

बेल पत्र की जेली बनाने की विधि

  • बेल की जेली बनाने के लिए सबसे पहले बेल का गुद्दा निकाल लें और पानी में एक उबाल आने दें।
  • अब दूसरा बर्तन लें और उस पर छलनी रखें और बेल पत्र के पानी को छान लें।
  • एक पैन गैस पर रखें और इसमें छाना हुआ बेलपत्र जूस डालें।
  • इसमें चीनी डालें और 5-7 मिनट के लिए उबलने दें।
  • जब जेली की स्थिति गाढ़ी हो जाए तब गैस बंद कर लें।
  • जेली को ठंडा होने दें।
  • ठंडा होने के बाद जेली को बर्तन से निकालकर प्लेट में रख दें।
  • जेली को अपने पसंद के आकार में काट लें।
बेलपत्र से बच्चों के लिए जेली बना सकते हैं।
फोटो उदाहरण के लिए

बेलपत्र से जुड़ी जरुरी बातें (Important Things Related To Bael (Wood Apple))

बेल को डाइट में शामिल करने से पहले बेल के फायदे (wood apple benefits) के साथ- साथ कुछ अन्य जानकारी भी होनी जरुरी है।

  • बेल को स्वस्थ पेट रखने के लिए जाना जाता है। अधिक मात्रा में बेल पत्र का सेवन करने से पेट से जुड़ी परेशानी बढ़ भी सकती हैं जैसे कि गैस, कब्ज आदि।
  • अगर आप रोजाना बेल के जूस का सेवन कर रहे हैं तो घर में ही जूस बनाने की कोशिश करें। या फिर बाहर जूस पी रहे हैं तो साफ- सफाई का खास ध्यान रखें।
  • बेल को कोलेस्ट्राल और ब्लड शुगर लेवल सामान्य बनाए रखने के लिए जाना जाता है। लेकिन अगर इसका सेवन अधिक मात्रा में कर लिया जाए तो कोलेस्ट्रॉल और ब्लड शुगर लेवल कम या बहुत कम हो सकता है।

आखिर में

बेल पत्र को डाइट में शामिल करने से कई सारे फायदे आपको प्राप्त हो सकते हैं। गर्मियों बेल के फायदे (wood apple benefits) बढ़ जाते हैं। गर्मियों में जूस का सेवन ज्यादा करना चाहिए जिससे शरीर में पानी की कमी ना हो। इसलिए बेल पत्र का जूस (wood apple juice) गर्मियों में बहुत पॉपुलर हो जाता है। अगर बेल पत्र के बारे में आपको अभी पता चला है तो इसका सेवन अवश्य करें और बेल के फायदे (wood apple benefits) लें। लेकिन इस बात का खास ध्यान रखें कि बेल का सेवन सही मात्रा में करने से ही बेल के फायदे प्राप्त होते हैं।

FAQs

  1. बेलपत्र के सेहत से जुड़े फायदे क्या हैं? (What are the health benefits of wood apple?)

    बेल के फायदे (wood apple benefits) सेहत से जुड़े कई सारे हैं जैसे कि कोलेस्ट्रॉल और डायबिटीज कंट्रोल, सेहतमंद दिल, बुखार में लाभदायक, छालों में आराम, निखतरी त्वचा और सेहतमंद बाल आदि।

  2. क्या बेल वजन कम करने में मदद करता है? (Is wood apple good for weight loss?)

    गर्मियों में बेल के फायदे (wood apple benefits) कई सारे हैं। आपको बता दें कि 250 एमएल बेलपत्र जूस में 150 कैलोरी होती हैं। कसरत करने के बाद बेलपत्र के जूस का सेवन करना लाभदायक हो सकता हैं।

  3. क्या डायबिटीज से गुजर रहे लोग बेल का सेवन कर सकते हैं? (Can diabetics eat wood apple?)

    अमेरिकन जर्नल ऑफ क्लीनिकल न्यूट्रीशन के अनुसार डायबिटीज से गुजर रह लोग बेलपत्र का सेवन कर सकते हैं। लेकिन इसके बावजूद डॉक्टर से सलाह जरुर लें।

  4. बेल पत्र को कैसे खाया जा सकता है? (How do you eat wood apples?)

    बेल पत्र को कई तरह से खाया जा सकता है जैसे कि बेलपत्र का जूस (wood apple juice), चटनी, सलाद, जेली आदि। बेल से कोई भी डिश बनाने से पहले इसके बीज अवश्य निकालें क्योंकि इसके बीज बहुत कड़वे होते हैं।

लेखक के बारे में

सुरभि शर्मा मिश्री में हिंदी लेखिका हैं। इ्न्हें सवाल पूछना बहुत पसंद है शायद इसी कारण से इनके आर्टिकल आपको विस्तार जानकारी के साथ मिलेंगे। इनका कहना है कि अपने शौक को करियर में बदलने से अच्छा और क्या हो सकता है। लिखने के साथ- साथ और भी कई शोक रहे हैं लेकिन अब इन्हें लगता है कि यह अपना पसंदीदा काम कर रही हैं। 

इस लेखक द्वारा अधिक लेख
Story Tags :

Leave a Reply on बेल के फायदे और नुकसान (Bael (Wood Apple) Benefits & Side Effects In Hindi)

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*