अनानस खाने के 7 फायदे और इससे जुड़ी बातें - मिश्री
अनानस खाने के फायदे और इससे जुड़ी बातें

अनानस खाने के 7 फायदे और इससे जुड़ी बातें

अनानास एक ऐसा फल है जिसके गुणों के बारे में बहुत कम लोगों को पता है जिस कारण आप एक बहुत सेहतमंद फल को नज़रअंदाज कर रहे हैं। अनानास को आप सालद, स्मूदी, डेजर्ट, बर्गर की तरह खा सकते हैं।

प्रकृती का सबसे खूबसूरत तोहफा फल और सब्जी हैं। यह कई सारे फायदे के साथ आते हैं। इनमें से एक ट्रॉपिकल फ्रूट है अनानास जिसको पूरी दुनिया में लोगों के द्वारा पसंद किया जाता है। इसका जन्म साउथ अमेरिका में हुआ है और यह अलग- अलग साइज में पाया जाता है। इसका नाम अनानास (Pineapple) इसलिए रखा गया क्योंकि यह देखने में पाइन कॉर्न की तरह लगता है।

यह फल इतना स्वादिष्ट है कि सिर्फ इसका सेवन कर सकते हैं साथ ही इसकी मदद से कई स्वादिष्ट डेजर्ट और डिश बनाई जा सकती हैं।

अनानास के फायदे से जुड़ी जानकारी यहां से प्राप्त कर सकते हैं।

अनानास के फायदे

अनानास के फायदे महत्वपूर्ण पौष्टिक आहार से भरपूर हैं जिस वजह से इन्हें डाइट में शामिल करना जरूरी हो जाता है। अनानास के फायदे से जुड़ी विस्तार से जानकारी यहां से प्राप्त कर सकते हैं।

1. पौष्टिक आहार से भरपूर

अनानास को सेहतमंद इसलिए कहा जाता है क्योंकि यह पौष्टिक आहार से भरपूर है। एक कप (लगभग 165 ग्राम) ताज़ा कटा हुआ अनानास बहुत लाभदायक होता है-

  • पूरे दिन का 131 विटामिन सी।
  • पूरे दिन का 76 मैंगनीज।
  • पूरे दिन का 10 कोपर, थायमिन, विटामिन बी 6, फोलेट, पोटेशियम, मैग्नीशियम, नियासिन, राइबोफ्लेविन, आयरन और पैन्थॉथिक एसिड।

हालांकि एक कप अनानास में 82 कैलोरी होती है लेकिन इसमें 22 ग्राम कार्बोहाइड्रेट, 2 ग्राम फैट और फाइबर भी पाया जाता है। इतने सारे पौष्टिक आहार होने के कारण इसको पोषण से भरपूर फूड कहा जाता है।

2. एंटीऑक्सीडेंट

अनानास में पाए जाने वाले फ्लेवोनोइड और फेनोलिक एसिड बीमारी से बचाकर रखते हैं और इम्यूनिटी को स्ट्रांग बनाने में भी मदद करते हैं। यह फ्री रेडिकल से भी बचाकर रखते हैं जिसके चलते अनानास खाने से सूजन, गंभीर बीमारी से दूर रहने में मदद करते हैं। इम्यूनिटी को बेहतर करने के लिए सबसे जरूरी विटामिन सी है। अनानास विटामिन सी से भरपूर होते हैं, इसका सेवन रोजाना करने से इम्यूनिटी मजबूत बनाने में मदद मिलती है।

स्कूल के बच्चों पर एक अध्ययन किया गया था जिसमें अनानास और इम्यूनिटी के बीच संबंध ढूंढने की कोशिश की गई थी। कुल 98 बच्चों ने हिस्सा लिया थी जिन्हें 3 ग्रूप में बांटा गया। 9 हफ्तों के अध्ययन के लिए पहले ग्रूप के बच्चों को अनानास नहीं दिया गया। वहीं दूसरे ग्रूप के बच्चों को 140 ग्राम अनानास दिया और तीसके ग्रूप के बच्चों को 280 ग्राम अनानास दिया गया।

9 हफ्तों के अध्ययन के बाद, पहले ग्रूप के मुकाबले दूसरे और तीसरे ग्रूप के बच्चों की इम्यूनिटी स्ट्रांग पाई गई थी। इसके अलावा तीसरे ग्रूप के बच्चों में (जिनको सबसे ज्यादा मात्रा में अनानास दिया गया) व्हाइट ब्लड सेल की मात्रा ज्यादा मिली थी जो बीमारी से लड़ने में मदद करती है।

संबंधित आर्टिकल: विटामिन सी डाइट के फायदे और नुकसान

कटा हुआ अनानास
अनानास के फायदे पौष्टिक आहार से भरपूर

3. स्वस्थ डाइजेशन

ब्रोमेलैन नाम का एंजाइम अनानास में पाया जाता है जो इम्यूनिटी के साथ- साथ डाइजेशन भी स्वस्थ बनाए रखने में मदद करता है। यह प्रोटीन को तोड़ने में मदद करते हैं। अगर अग्न्याशय (pancreas) यह एंजाइम नहीं बना पा रही है तो अनानास का सेवन करना चाहिए।

संबंधित आर्टिकल: स्वस्थ आंत के लिए क्या करें

4. गंभीर बीमारी से बचाव

कैंसर, सेल के खराब और इनमें सूजन होने से होता है। इसके अलावा सेल फ्री रेडिकल के कारण खराब होते हैं। अनानास में ताकतवर एंटीऑक्सीडेंट होते हैं जो फ्री रेडिकल से लड़ने में मदद करते हैं।

कुछ टेस्ट- ट्यूब अध्ययन किए गए यह पता लगाने के लिए कि क्या अनानास कैंसर के सेल का जन्म होने से रोकते हैं। अध्ययन में यह पाया गया कि ब्रोमेलैन, एक एंजाइम जो अनानास में पाया जाता है यह स्तन कैंसर सेल, स्किन कैंसर सेल, गैस्ट्रिक कैंसर सेल और कोलोन कैंसर सेल का जन्म नहीं होने देते हैं। हालांकि इंसानों पर यह अध्ययन नहीं किया गया है।

बहुत सारे अनानास
अनानास के फायदे गंभीर बीमारी से बचाव

5. गठिया

ब्रोमेलैन नाम का एंजाइम अनानास में पाया जाता है, यह बात साबित की गई है कि यह सूजन कम और इम्यूनिटी बढ़ाने में मदद करता है। गठिया जैसी बीमारी बुढ़ापे में होती है जिसमें हड्डियों में जलन होने लगती है। कई सदियों से ब्रोमेलैन को हड्डियों की सूजन से आराम देने के लिए जाना जाता है।

पुराने ऑस्टियोआर्थराइटिस (osteoarthritis) वाले लोगों के दो ग्रूप बनाएं गए यह बात साबित करने के लिए दो ग्रूप बनाए गए। पहले ग्रूप को ब्रोमेलैन एंजाइम दिया गया वहीं दूसरे ग्रूप को गठिया में आमतौर में दी जाने वाली दवाई डिक्लोफेनाक दी गई। अध्ययन में पाया गया कि दोनों ग्रूप के लोगों को एक जैसा आराम मिला है। इससे यह पता चलता है कि डिक्लोफेनाक और ब्रोमेलैन दोनों ही गठिया के दर्द में आराम देते हैं।

6. सर्जरी

सर्जरी और ज्यादा कसरत करने के बाद एंटीऑक्सीडेंट और एंटी इंफ्लामेट्री रिकवरी प्रोसेस को तेज करने में मदद करते हैं। अनानास में सूजन कम करने की खूबी है इसलिए यह रिकवरी के लिए अच्छा माना जाता है। अनानास में ब्रोमेलैन नाम का एंजाइम पाया जाता है जो सूजन, दर्द, रिकवरी में मदद करता है।

अध्ययन के अनुसार, डेंटल सर्जरी से पहले ब्रोमेलैन दिया जाता है तब उन्हें कम दर्द होता है और रिकवरी भी जल्दी हो जाती है। इसके अलावा 45 मिनट के जबरदस्त ट्रेडमिल पर कसरत करने के बाद ब्रोमेलैन सप्लीमेंट लिया जाए तो जल्दी रिकवर हो जाते हैं और इसके साथ ही मांसपेशियां भी जल्दी रिकवर हो जाती हैं।

7. बहुमुखी

अनानास सेहतमंद होने के साथ- साथ बहुत स्वादिष्ट और फ्लेवर से भरपूर है। अनानास रोजाना विभिन्न और स्वादिष्ट तरीके से खा सकते हैं। इससे आप अपनी पसंद की डिश बना सकते हैं। अनानास से सलाद, करी, बर्गर, हेम्स, डेजर्ट, स्मूदी आदि कई तरह से इस्तेमाल कर सकते हैं।

गोल कटा हुआ अनानास
अनानास के फायदे कई तरीके से डाइट में शामिल कर सकते हैं

FAQs

अनानास के फायदे से जुड़े दिलचस्प सवालों के जवाब यहां से प्राप्त कर सकते हैं।

1. अनानास खाने के फायदे क्या हैं?

अनानास खाने के कई फायदे हैं जैसे कि एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर, स्वस्थ डाइजेशन, जोड़ों के दर्द में आराम आदि।

2. क्या रोजाना अनानास खा सकते हैं?

रोजाना सही मात्रा में अनानास खाने के कई फायदे हैं जैसे कि पाचन शक्ति स्वस्थ रहती है, बीमारियों से बचाव और जरूरी पोषण से भरपूर आदि।

3. अनानास खाने के नुकसान क्या हैं?

वैसे तो अनानास के नुकसान कम हैं लेकिन कच्चे अनानास का जूस पीने से उलटी, मितली, पेट खराब जैसा दिक्कतें हो सकती हैं।

4. क्या अनानास से वेट लॉस होता है?

वेट लॉस के लिए अनानास के जूस का सेवन किया जा सकता है। अनानास के जूस के फायदे मेटाबोलिज्म बढ़ाने में मदद करते हैं जो वजन कम करने में मदद करता है।

5. एक दिन में कितनी मात्रा में अनानास खाना चाहिए?

पूरे दिन मेंजो छोटी- छोटी भूख लगती है उस दौरान अस्वस्थ स्नैक खाने से बेहतर है कि आप फल का सेवन करें। एक दिन में एक कप अनानास खाना सही है या फिर अनानास का जूस भी पी सकते हैं।

आखिर में

अगर आप ऐसे फल की तलाश में हैं जो इम्यूनिटी स्ट्रांग और वायरल से बचाकर रखेगा तो अनानास अच्छा ऑप्शन है। छोटे से ही बच्चों को अनानास खिलाने से उनकी हड्डियां मजबूत बनती हैं और इम्यून सिस्टम भी स्ट्रांग रहता है। अगर बच्चों को अनानास फल की तरह पसंद नहीं है तो आप स्मूदी बना सकते हैं जो इन्हें जरूर पसंद आएगी।

अनानास एक ऐसा फल है जो हर उम्र के लोगों के लिए फायदेमंद है। बुढ़ापे में हड्डियों में दर्द होने पर एक कटोरी अनानास खा लें या फिर ब्रोमेलैन का सप्लीमेंट खा लें जिससे आपको दर्द और सूजन में आराम मिलेगा। इसके कोई नुकसान नहीं है क्योंकि यह 100 प्राकृतिक दर्द फ्री टिप है। इन फलों को अपनी डाइट में शामिल करें और इनके फायदे से सेहतमंद जिंदगी की शुरुआत कर सकते हैं।

आप किस तरह से फल अपनी डाइट में शामिल करते हैं?

Subscribe to our Newsletter

0 0 votes
User Rating
Notify of
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments