विटामिन सी डाइट के फायदे और नुकसान (Benefits & Side Effects Of A Vitamin C Rich Diet)

विटामिन सी के फायदे और नुकसान के बारे में यहां से पढ़ें। सबसे ज्यादा विटामिन सी किसमें होता है, इसका जवाब इस आर्टिकल से प्राप्त करें।

शरीर के लिए सभी विटामिन बहुत जरुरी होते हैं। लेकिन आज हम इस आर्टिकल में विटामिन सी के बारे में बात करेंगे। विटामिन सी हमारे शरीर, त्वचा और बालों के लिए बेहद लाभदायक होता है। विटामिन सी को 1912 में सबसे ज्यादा सुरक्षित विटामिन माना गया है। आपको बता दें कि विटामिन सी पानी में आसानी से घुलने के कारण हमारे शरीर में नहीं बन पाता है साथ यह हमारे शरीर में स्टोर भी नहीं हो पाता है। विटामिन सी को लेने के लिए हमें फल और सब्जी पर निर्भर रहना पड़ता है। महिला को एक दिन में 70-75 एमजी विटामिन सी का सेवन करना जरुरी होता है। वहीं पुरुष को एक दिन में 90-95 एमजी विटामिन सी का सेवन करना जरुरी है। विटामिन सी हमको आसानी से फल और सब्जी में मिल जाता है। इस आर्टिकल से आप विटामिन सी के फायदे और विटामिन सी के नुकसान की जानकारी विस्तार से प्राप्त कर सकते हैं।

विटामिन सी डाइट के फायदे और नुकसान

विटामिन सी डाइट के 8 फायदे

बाकी विटामिन की तरह विटामिन सी भी हमारे शरीर के लिए बहुत जरुरी होता है। यह हमारे दिमाग को स्वस्थ रखता है साथ ही हमारी त्वचा और बालों का भी ध्यान रखता है। विटामिन सी से जुड़े 8 फायदो की जानकारी आप नीचे से प्राप्त कर सकते हैं।

1. एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर

एंटीऑक्सीडेंट हमारे शरीर के लिए बहुत लाभदायक होता है। एंटीऑक्सीडेंट तनाव और रोज़ाना की तकलीफ से लड़ने में मदद करता है। एंटीऑक्सीडेंट को डाइट में सही मात्रा में लेने से बुढ़ापा जल्दी से नहीं आता है। जिन चीज़ों में विटामिन सी होता है उन सभी में एंटीऑक्सीडेंट होता ही है। रोज़ाना विटामिन सी का सेवन करने से हमारा शरीर आगे के लिए  तंदुरुस्त बन जाता है। विटामिन सी से हमारा दिल स्वस्थ रहता है जिससे की दिल की बीमारी होने का खतरा कम हो जाता है।

2. दिमाग को तेज़ बनाने में मदद

हमारे नर्वस सिस्टम को रोज़ाना विटामिन सी भरपूर मात्रा में चाहिए होता हैं। विटामिन सी को सही मात्रा में लेने से हमारे दिमाग के द्वारा की जाने वाली गतिविधियों में सुधार होता रहता है। जिससे हमारा दिमाग स्वस्थ रहता है।

3. बीमारियों से लड़ना

विटामिन सी बीमारियों से लड़ने में मदद करता है। विटामिन सी के होने से हम खांसी, ज़ुखाम जैसी बीमारियों से बचे रहते हैं और यह बीमारी होने पर उनसे लड़ता भी है। साइंस के द्वारा यह माना गया है कि विटामिन सी ठंड लगने के बाद उससे लड़ने में मदद करता है और ठंड (कोल्ड) के बैक्टीरिया को दूर करता है।

4. आयरन को लेने में मदद

विटामिन सी लेने से हमारा शरीर आयरन को लेने में मदद करता है जिससे हमारे शरीर में आयरन की मात्रा बनी रहती है। आपको यह सलाह दी जाती है कि विटामिन सी और आयरन का सेवन एक साथ करना चाहिए। दोनों का सेवन एक साथ करने से यह दोनों आसानी से पच जाते हैं साथ ही हमारी पाचन शक्ति दोनों को आसानी से पचा भी देती है।

विटामिन सी हमारे शरीर में आयरन लेने की क्षमता
को बढ़ाता है।

5. त्वचा के लिए लाभदायक

विटामिन सी हमारे शरीर के लिए लाभदायक होता है साथ ही साथ हमारी त्वचा के लिए भी उतना ही लाभदायक होता है।  दही को प्राकृतिक स्किन केयर प्रोडक्ट कहा जाता है। अगर हम दही में नंबू की कुछ बूंदे डालेंगे तो यह त्वचा के लिए बहुत अच्छा है। इन दोनों को मिलाने के बाद जो घोल बना है उसको अपनी त्वचा पर 15 मिनट के लिए लगाएं। इस घोल को पानी से धो लें इसके बाद आपको अपनी त्वचा कोमल और निखरी हुई लगेगी।

6. स्कर्वी बीमारी से बचाव

विटामिन सी की कमी से होने वाली बीमारी को स्कर्वी कहा जाता है। स्कर्वी जैसी बीमारी से बचे रहने के लिए आपको विटामिन सी का सेवन सही मात्रा में करना चाहिए। यह बीमारी ज्यादातर बच्चों में पाई जाती है। इसलिए बच्चों की डाइट में विटामिन सी से भरपूर फल और सब्जी होने जरुरी हैं।

7. डिटॉक्सीफिकेशन में मदद

विटामिन सी हमें बाहर की गंदगी से बचाकर रखता है। यह हमें अल्ट्रावायलेट किरणों से भी बचाकर रखता है। इसलिए विटामिन सी की मात्रा हमारी डाइट में जरुर होनी चाहिए।

8. कोलेजन प्रोडक्शन

कोलेजन एक तरह का प्रोटीन है इसमें हमारे शरीर का 1/3 हिस्से का प्रोटीन होता है। अगर आपको निखरती त्वचा, स्वस्थ बाल, नाखून, मजबूत जोड़, हड्डियां चाहिए तो आपको सही मात्रा में कोलेजन प्रोटीन का सेवन करना चाहिए।

विटामिन सी क्यों जरुरी है?

विटामिन सी में एंटीऑक्सीडेंट होता है जो
हमें बीमारियों से बचाता है।
साथ ही यह हमारे शरीर को बाहर और
अंदर से होने वाले नुकसान से बचाता है।

विटामिन सी से भरपूर फल/ सब्जी

विटामिन सी हमारे शरीर के लिए बेहद जरुरी होता है। विटामिन सी का सेवन करने से हमारा दिमाग, त्वचा आदि सभी मजबूत रहते हैं साथ ही यह हमें खांसी और जुखाम से भी बचाकर रखता है। विटामिन सी ज्यादातर कच्चे फल और सब्जी में पाया जाता है। विटामिन सी से भरपूर फल और सब्जी की जानकारी आप नीचे से प्राप्त कर सकते हैं।

1. खट्टे फल

जब भी विटामिन सी की बात होती है तब खट्टे फलों का ज़िक्र जरुर होता है। यह तो सभी को पता है कि खट्टे फलों में जैसे कि संतरे और नंबू में विटामिन सी की मात्रा बहुत अच्छी होती है। लेकिन खट्टे फलों में भी विटामिन सी की मात्रा अलग अलग हो सकती है। खट्टे फलों को उगाने के तरीके में विविधता होने के कारण विटामिन सी की मात्रा कम या ज्यादा हो सकती है। जो फल ऑर्गेनिक तरीके से उगाए जाते हैं उन फलों में विटामिन सी की मात्रा ज्यादा होती है। और जो बाकी तरीके से फल उगाए जाते हैं उन फलों में विटामिन सी की मात्रा कम होती है।

संबंधित आर्टिकल
नारंगी संतरे (मेंडरेन संतरे) के फायदे और नुकसान।
विटामिन डी से भरपूर फूड्स।

2. गोभी

सब्जियों की बात करें तो गोभी में सबसे ज्यादा विटामिन सी की मात्रा होती है। और पूरी दुनिया में गोभी को बाकी सब्जियों के मुकाबले सबसे ज्यादा खाया जाता है। विटामिन सी के साथ साथ गोभी में विटामिन बी और विटामिन के भी पाया जाता है।

3. ब्रोकोली

ब्रोकोली गोभी के परिवार से ही है जिस कारण से इसमें भी भरपूर मात्रा में विटामिन सी होता है। आपको बता दें कि ब्रोकोली में गोभी से ज्यादा मात्रा में विटामिन सी होता है। 100 ग्राम ब्रोकोली खाने से आप रोज़ाना का 20% विटामिन सी ब्रोकोली से ही प्राप्त कर सकते हैं। गोभी की तरह ही ब्रोकोली को भी बाकी की सब्जियों के साथ रोस्ट कर खाया जाता है। इसके अलावा आप ब्रोकोली को उबाल कर भी खा सकते हैं।

4. पालक और बाकी हरी सब्जी

यह तो हम बचपन से सुनते आ रहे हैं कि हरी सब्जियों में सबसे अधिक मात्रा में विटामिन सी होता है। पालक की तरह बाकी की हरी सब्जियों में भी विटामिन सी पाया जाता है। विटामिन सी के अलावा हरी सब्जी में प्रोटीन, फाइबर और विटामिन के भी पाया जाता है। कुछ हरी सब्जियों को कच्चा भी खाया जाता है। भारत में पालक बहुत खाई जाती है जैसे कि पालक पनीर, साग, सरसों का साग आदि।

5. टमाटर

टमाटर हर घर की रसोई में पाया जाता है। टमाटर से ही लगभग सभी सब्जी को बनाने की तैयारी शुरु होती है। टमाटर को विटामिन सी लेने का एक अच्छा आधार माना जाता है। 100 ग्राम टमाटर आपको पूरे दिन का 17% विटामिन सी देता है। टमाटर देश के हर कोने में खाया जाता है। टमाटर हर डिश में सबसे जरुरी चीज़ होती है। इसको हम कच्चा भी खा सकते हैं और सलाद में भी खा सकते हैं।

टमाटर से विटामिन सी भरपूर मात्रा
में प्राप्त कर सकते हैं।

6. पपीता

फलों की बात करें तो पपीते में भी भरपूर मात्रा में विटामिन सी पाया जाता है। 100 ग्राम पपीता खाने से हम रोज़ाना का 75% विटामिन सी का सेवन कर लेते हैं। पपीते को कच्चा ही खाया जाता है या फिर इसको फल सलाद के साथ खाया जाता है।

वैसे तो विटामिन सी का सेवन करने के लिए कई सारे आधार हैं। लेकिन सबसे जरुरी यह है कि हम कितना विटामिन सी का सेवन कर रहे हैं।

विटामिन सी हमारे इम्यून सिस्टम के लिए बहुत जरुरी है।
यह हमें बीमारियों से बचाकर रखता है। विटामिन सी की
कमी होने से हमारे इम्यून सिस्टम पर बुरा असर होता है।

विटामिन सी डाइट के नुकसान

अगर किसी चीज़ का फायदा है तो उसका नुकसान भी होता है। वैसे ही अधिक मात्रा में विटामिन सी का सेवन करने से हमारे शरीर को नुकसान भी हो सकता है। विटामिन सी के नुकसान से जुड़ी सारी जानकारी आप नीचे से प्राप्त कर सकते हैं।

1. आयरन की मात्रा का बढ़ना

विटामिन सी लेने से हमारा शरीर आयरन की मात्रा को लेने लगता है जो हमारे शरीर के लिए अच्छा है। लेकिन अगर विटामिन सी अधिक मात्रा में ले लिया तो आयन की मात्रा भी बढ़ जाएगी। आयरन की मात्रा बढ़ने से हमें कई सारी बीमारी होने का खतरा बढ़ जाता है। आयरन की मात्रा ज्यादा होने से हमें दिल, लीवर और जी मिचलाना जैसी दिक्कतें हो सकती हैं।

2. किडनी पर बुरा असर

विटामिन सी का अधिक मात्रा में सेवन करने से हमारी किडनी पर असर पड़ सकता है। विटामिन सी एक ऐसा एंटीऑक्सीडेंट है जो आसानी से घुल जाता है। विटामिन सी को हमारा शरीर इसे स्टोर नहीं कर पाता है और विटामिन सी यूरीन के माध्यम से हमारे शरीर से बाहर निकलता है। अगर विटामिन सी की मात्रा रोज़ाना की मात्रा से अधिक हो जाती है तो यह एक्ट्रा विटामिन सी हमारी किडनी में जाने लग जाता है जिसकी वजह से हमें पथरी की बीमारी हो सकती है।

इसके अलावा ऐसी कई सारी बीमारी हैं जो हमें विटामिन सी की अधिक मात्रा से हो सकती है। यह बीमारी हमें छोटी लगती है लेकिन इसका बुरा असर बड़ा हो सकता है। ऐसी बीमारी के होने के संकेत की जानकारी आप नीचे से देख सकते हैं।

 विटामिन सी ज्यादा होने के संकेत

  • दस्त
  • चक्कर आना या बेहोशी (केवल इंजेक्शन के साथ)
  • त्वचा का फूलना या लाल होना
  • सरदर्द
  • पेशाब का बढ़ना (हल्का)
  • उलटी या मितली
  • पेट में दर्द

विटामिन सी की कमी होने के संकेत

अगर किसी में विटामिन सी की कमी होती है तो लगभग 8 से 12 हफ्ते बाद आपको इन संकेतो से पता चलेगा।

• भूख में कमी
• वजन घटना
• थकान
• चिड़चिड़ापन
• सुस्ती

अगर किसी में विटामिन सी की कमी होती है तो लगभग 1 से 3 महीने के बाद आपको इन संकेतों से पता चलेगा।

• एनीमिया
• मायगेलिया या दर्द साथ में हड्डी में दर्द
• सूजन या फुलाव
• पेटीचिया या त्वचा के नीचे घून से धब्बे होना
• कॉर्कस्क्रू बाल
• मसूड़ों की बीमारी और दांतों का गिरना
• ख़राब घाव भरना
• साँसों की कमी
• मूड चेंज और डिप्रेशन

इलाज के समय मुंह से या फिर इंजेक्शन के माध्यम से विटामिन सी दिया जाता है।

24 घंटे के अंदर ही बीमार आदमी अपने अंदर सुधार देखने लग जाता है जैसे कि थकान, सुस्ती, आलस्य, दर्द, एनोरेक्सिया, ब्रूसिंग और कमजोरी में सुधार होने लगता है। बीमार व्यक्ति 1 से 2 हफ्ते में ठीक होने लगता है और 3 महीने में विटामिन सी की कमी को पूरी तरह से दूर भी किया जा सकता है।

आखिर में

इस आर्टिकल के माध्यम से आप यह जान सकते हैं कि विटामिन सी के क्या क्या फायदे हैं। साथ ही विटामिन सी के नुकसान क्या है। विटामिन सी किन चीज़ो में पाया जाता है और विटामिन सी की कमी होने से आपको क्या हो सकता है और कमी को कैसे दूर कर सकते हैं। इससे भी ज्यादा जरुरी यह है कि सभी को यह पता होना चाहिए कि उनके शरीर को किस विटामिन की कितनी जरुरत है।

Leave a Reply on विटामिन सी डाइट के फायदे और नुकसान (Benefits & Side Effects Of A Vitamin C Rich Diet)

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*