हल्दी और करक्यूमिन के वास्तविक अंतर और फायदे – मिश्री
हल्दी और करक्यूमिन के वास्तविक अंतर और फायदे

हल्दी और करक्यूमिन के अंतर और फायदे – आयुर्वेद की प्राचीन औषधी

कभी आपने सोचा है कि हल्दी और करक्यूमिन में क्या अंतर है? अकसर दोनों साथ में ही होते हैं। करक्यूमिन को हल्दी में सबसे एक्टिव सामग्री के तौर पर जाना जाता है। हल्दी के फायदे अधिकतर इसमें मौजूद करक्यूमिन से ही आते हैं।

दक्षिण एशियाई में खाना बनाने के लिए हल्दी का इस्तेमाल बहुत ज्यादा किया जाता है। हल्दी को इसके रंग, फ्लेवर और खुशबू के लिए इस्तेमाल किया जाता है। हल्दी के फायदे होने के कारण इसे आयुर्वेद में प्राचीन औषधीय परंपराओं में इस्तेमाल किया जाता था। लेकिन जब आप हल्दी के बारे में और गहराई से जानेंगे तो आप यह जरुर सोचेंगे कि हल्दी का पीला रंग और खुशबी किस कारण होती है। क्या इसके पीले रंग और तीखी खुशबू के पीछे कोई कंपाउंड है?

हां, ऐसा है। हल्दी के फायदे, रंग और खुशबू करक्यूमिन नाम के कंपाउंड के कारण मौजूद हैं। इस बात का ध्यान रखते हुए बता दें कि हल्दी और करक्यूमिन एक दूसरे से बिल्कुल अलग हैं। हल्दी से आप करक्यूमिन ले सकते हैं और करक्यूमिन लेने के आधार में अदरक दूसरे नंबर पर आता है। करक्यूमिन प्राकृतिक रूप से आता है और वहीं दूसरी तरफ हल्दी, पौधे की जड़ है जिसको करकुमा लोंगा (Curcuma longa) कहा जाता है। हल्दी की जड़ में 2 से 5% तक करक्यूमिन होता है। आइए इस आर्टिकल से पता लगाते हैं कि करक्यूमिन क्या है? इसके अलावा हल्दी और करक्यूमिन में क्या अंतर है से जुड़ी जानकारी भी यहां से प्राप्त कर सकते हैं।

मिट्टी के बर्तन में हल्दी
हल्दी और करक्यूमिन में क्या अंतर है

करक्यूमिन क्या है? करक्यूमिन को सबसे महत्वपूर्ण और एक्टिव सामग्री माना जाता है जो हल्दी के चमकदार पीले रंग और तीखी खुशबू का कारण है। इसके अलावा हल्दी के फायदे अधिकतर इसके कारण ही हैं। लेकिन इससे यह नहीं कहा जा सकता है कि हल्दी के खुद के फायदे नहीं हैं। इसके अलावा हल्दी में कई और पौधों के गुण होते हैं जो बहुत लाभदायक है।

करक्यूमिन, फंगल का जन्म नहीं होने देता है और साथ ही टिशू में सूजन को भी कम करने में मदद करता है। इसकी खूबी के कारण यह बढ़ती उम्र की बीमारी जैसे कि गठिया, भूलने की बीमारी, पागलपन से बचाव करता है।

संबंधित आर्टिकल: हल्दी के फायदे

कांच के जार से बाहर गिरती हुई हल्दी
करक्यूमिन कितना फायदेमंद है

क्या करक्यूमिन, हल्दी के मुकाबले ज्यादा फायदेमंद है?

हल्दी और करक्यूमिन में अंतर समझने के बाद आप यह जरूर सोच रहे होंगे कि क्या करक्यूमिन हल्दी से ज्यादा लाभदायक है? या फिर हल्दी करक्यूमिन से ज्यादा फायदेमंद है। इन सभी सवालों के जवाब आप नीचे से प्राप्त कर सकते हैं।

संबंधित आर्टिकल: अधिक मात्रा में हल्दी खाने से ऐसा हो सकता है

1. हल्दी और करक्यूमिन के फायदे

हल्दी और करक्यूमिन में क्या अंतर है के बारे में यहां से जानें। हल्दी के फायदे अधिकतर इसमें मौजूद करक्यूमिन के कारण हैं। इसको देखते हुए हम यह कह सकते हैं कि करक्यूमिन के अपने ही कई सारे फायदे हैं। करक्यूमिन में एंटी- इंफ्लामेट्री, एंटी- फंगल और ब्लड शुगर लेवल को कम रखने की खूबी है। यह उन लोगों के लाभदायक है जो टाइप- 2 डायबिटीज से गुजर रहे हैं।

संबंधित आर्टिकल: भारत में टॉप हल्दी दूध मिक्स ब्रांड – स्वादिष्ट और सेहतमंद

2. हल्दी और करक्यूमिन – क्या है ज्यादा फायदेमंद

सही कहा जाए तो ऐसा कोई भी अध्ययन नहीं है जिसमें हल्दी को करक्यूमिन से या फिर करक्यूमिन को हल्दी से ऊपर रखा गया है। हालांकि हल्दी में करक्यूमिन पाए जाने से यह फायदे बहुत लाभदायक हैं। सही मात्रा में अगर हल्दी को खाया जाए तो इसमें 1 ग्राम करक्यूमिन होता है जो अपने फायदे 8 से 12 हफ्तों के बीच दिखाना शुरु कर देता है।

करक्यूमिन के नुकसान

वहीं दूसरी तरफ देखा जाए तो ज्यादा मात्रा में करक्यूमिन का सेवन करने से पाचन शक्ति से जुड़ी परेशानी हो सकती है जैसे कि अपच, सूजन, दस्त आदि। इसलिए करक्यूमिन का सेवन करने की मात्रा का खास ध्यान रखना चाहिए।

सफेद कटोरी में चम्मच के साथ हल्दी
करक्यूमिन के नुकसान भी हो सकते हैं

FAQs

1. हल्दी और करक्यूमिन में क्या अंतर है?

हल्दी में कई कंपाउंड पाए जाते हैं जिनमें से एक का नाम करक्यूमिन है। हल्दी में बाकी कंपाउंड लगभग 2% से 9% होते हैं वहीं हल्दी में लगभग 75% करक्यूमिन पाया जाता है।

2. ज्यादा हल्दी और करक्यूमिन खाने से क्या नुकसान होता है?

आमतौर पर हल्दी और करक्यूमिन से नुकसान नहीं होते हैं लेकिन अधिक मात्रा में हल्दी या करक्यूमिन खाने से दिक्कतें हो सकती हैं जैसे कि पेट में परेशानी, चक्कर आना, मितली, दस्त आदि। हल्दी और करक्यूमिन के फायदे लेने के लिए इनका सेवन सही मात्रा में ही करें।

3. दूध में करक्यूमिन मिलाकर पीने से क्या लाभ मिलता है?

दूध में करक्यूमिन मिलाकर पीने से फायदे मिल सकते हैं क्योंकि करक्यूमिन हमारे शरीर के फैट और टिश्शू में आसानी से अब्जॉर्ब हो जाता है। दूध में करक्यूमिन मिलाकर पीने से करक्यूमिन शरीर में तेज़ रफ़तार से इन टिश्शू और फैट में पहुंच जाता है जिससे कई फायदे मिल सकते हैं।

4. हल्दी पानी पीने के क्या फायदे हैं?

हल्दी पानी के फायदे कई सारे हैं जैसे कि सेहतमंद दिल, सामान्य कोलेस्ट्रॉल, नसों में जमाव नहीं होने में मदद मिल सकती है।

आखिर में

इस आर्टिकल के आखिर में यह कहा जा सकता है कि हल्दी और करक्यूमिन के अलग- अलग फायदे बताना थोड़ा मुश्किल है क्योंकि यह दोनों अधिकतर एक साथ ही होते हैं। अगर आपको हल्दी का स्वाद नहीं चाहिए है तो आप सिर्फ करक्यूमिन के अर्क को भी खा सकते हैं। लेकिन ऐसा करने से पहले एक बार डॉक्टर से सलाह जरुरी लें।

करक्यूमिन एंटीऑक्सीडेंट और एंटी- इंफ्लामेट्री की खूबी के साथ आता है जिसको साबित भी किया गया है, यह फ्री रेडिकल से लड़ने में मदद करता है। लेकिन करक्यूमिन के फायदे तभी आपको ज्यादा मिलेंगे जब आपको इसका सेवन हल्दी के साथ करेंगे।

*अगर आप हमारे रिव्यू से सेहमत हैं तो लाइक करें और अगर नहीं तो बताएं क्यों।

*अगर आप कोई प्रोडक्ट रिव्यू करवाना चाहते हैं तो यहां बताएं

*फूड एंड बेवरेज में रोज़ाना कुछ न कुछ नया आता रहता है। हमारे रिव्यू आपको किचन का सामान खरीदनें में मदद करेंगे।

*हमारे रिव्यू निष्पक्ष हैं और रिव्यू के लिए सभी प्रोडक्ट हमारे द्वारा खरीदें गए हैं। इससे जुड़ी सारी जानकारी आप यहां से पढ़ सकते हैं

*इस रिव्यू के लिए किसी भी ब्रांड ने स्पान्सर नहीं किया है। सभी खर्चा हमारे द्वारा किया गया है।

Subscribe to our Newsletter

4.5 2 votes
User Rating
Notify of
Notify of
guest
2 Comments
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments