चावल के प्रकार- रंग, बनावट, आकार और खुशबू

चावल के प्रकार कई सारे होते हैं और इससे जुड़ी विस्तार में जानकारी आप इस आर्टिकल से प्राप्त कर सकते हैं। चावल कितने प्रकार के होते हैं- काला चावल, ब्राउन चावल, लाल चावल आदि।

क्या आपने कभी सोचा है कि चावल कितने प्रकार के होते हैं? चावल, कार्बोहाइड्रेट लेने का एक अच्छा आधार है जिसको दुनिया के अलग- अलग हिस्सों में अलग- अलग तरीके से खाया जाता है। चावल के विभिन्न प्रकार होने के कारण लोग अपनी भौगोलिक क्षेत्र के अनुसार चावल को खा सकते हैं। चावल को पिछले 3500 अधिक सालों से उगाया जा रहा है। चावल में स्वाद के साथ- साथ सेहत से जुड़े फायदे भी हैं। लेकिन दुख की बात यह है कि लोग अब इसको वजन बढ़ाने वाली चीज के नाम से जानने लगे हैं। जब तक आप सेहतमंद जिंदगी जी रहे हैं तब तक चावल का सेवन करने से आपको किसी तरह का नुकसान नहीं होगा। भारत के कुछ हिस्सों में को चावल को मुख्य खाने के रुप में खाया जाता है। जो लोग महंगा खाना नहीं खा सकते हैं उन लोगों के लिए चावल सस्ता होने के साथ- साथ सेहतमंद भी है। इस आर्टिकल से आप चावल के प्रकार की जानकारी विस्तार से प्राप्त कर सकते हैं जिसको आप अपनी सब्जी के साथ मज़े से खा सकते हैं।

चावल के प्रकार के बारे में जानने से पहले आप चावल के हर हिस्से को अच्छे से जान लें। नीचे से आप इसकी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

छिलका- हर अनाज के ऊपर छिलका होता है जिसको खाने से पहले उतारा जाता है।

ब्रान- चावल के छिलके को उतारने के बाद ही ब्रान होता है। ब्रान को खाया जा सकता है जो फाइबर से भरपूर होता है। यह हिस्सा कुछ चावल के विभिन्न प्रकार में नहीं पाया जाता है जिसके कारण यह ब्राउन और लाल दिखाई देते हैं।

पोलिश त्वचा- ब्रान लेयर को हटाने के बाद पोलिश चावल दिखाई देता है। पोलिश चावल या सफेद चावल सबसे अंदर का हिस्सा होता है। इसमें स्टार्च और बाकी के कार्बोहाइड्रेट होते हैं।

बीज- सभी लेयर के अंदर बीज पाया जाता है जो सभी अनाज में पोष्टिक आहार से भरपूर होता है जैसे कि विटामिन, मिनरल्स और प्रोटीन जो कई सारे पोषण त्तव देता है।

चावल के प्रकार (रंग के आधार पर)

1. सफेद चावल

चावल के विभिन्न प्रकार में से सफेद चावल पूरी दुनिया में सबसे ज्यादा पॉपुलर है। अगर आप वजन कम करने के लिए किसी चावल के प्रकार की तलाश में हैं तो सफेद चावल सही ऑप्शन नहीं है क्योंकि इसमें कैलोरी की मात्रा ज्यादा होती है। इसके अलग दिखने का कारण यह है कि इसमें से बीज, भूसा और ब्रान लेयर को हटाया गया है जिस कारण इसका स्वाद और टैक्शर अलग है। ब्रान लेयर के हटने का मतलब है कि डाइट्री फाइबर की मात्रा का कम होना। ब्राउन राइस में ब्रान की मात्रा होती है और यह सफेद चावल के मुकाबले ज्यादा सेहतमंद भी है।

white rice
चावल के विभिन्न प्रकार में से सफेद चावल पूरी दुनिया में सबसे ज्यादा पॉपुलर है।

2. ब्राउन राइस

ब्राउन राइस को सिर्फ बाहर के लेयर को हटाने से ही बनाया जाता है। चावल के विभिन्न प्रकार में से ब्राउन राइस को सबसे सेहतमंद माना जाता है। इनमें ब्रान और बीज का लेयर पाया है जो भूरे रंग का होता है और इसमें फाइबर की मात्रा ज्यादा होती है। हाई फाइबर होने के कारण ही ब्राउन राइस को सफेद चावल के मुकाबले ज्यादा सेहतमंद माना जाता है। ब्राउन राइस विटामिन और मिनरल्स से भरपूर होता है जो इसको होल- ग्रेन फूड बनाता है। ब्राउन राइस की सबसे अच्छी खूबी यह है कि यह ग्लूटेन फ्री है और साथ ही यह लो कैलोरी फूड है साथ ही लो ग्लाइसेमिक इंडेक्स जैसी खूबी भी है।

brown rice
हाई फाइबर होने के कारण ही ब्राउन राइस को सफेद चावल
के मुकाबले ज्यादा सेहतमंद माना जाता है।

3. लाल चावल

ब्रान और बीज के होने के कारण चावल के प्रकार ऐसे कई है जिनका रंग ब्राउन हो जाता है। और अधिक मात्रा में ब्रान और बीज होने के कारण कई बार चावल का रंग लाल हो जाता है जिस कारण ऐसा चावल के प्रकार को लाल चावल कहा जाता है। यह होल- ग्रेन राइस है जिसमें भारी मात्रा में फाइबर और मिनरल्स पाए जाते हैं। लाल चावल में मैग्नीशियम नाम का मिनरल पाया जाता है जिसके कारण लाल चावल में फायदे होते हैं। इस चावल के प्रकार में मैग्नीशियम पाया जाता है जो ब्लड प्रेशर, ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल और हड्डियों को मजबूत करने में मदद करता है। इसके बाद हम कह सकते हैं कि चावल के विभिन्न प्रकार में से लाल चावल सबसे ज्यादा सेहतमंद होते हैं। यहां तक की यह ब्राउन राइस से भी ज्यादा सेहतमंद माने जाते हैं।

red rice
इसमें मैग्नीशियम पाया जाता है जो ब्लड प्रेशर, ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल
और हड्डियों को मजबूत करने में मदद करता है।

4. काले चावल

चावल के विभिन्न प्रकार में से काले चावल भी एक प्रकार है जो मिनरल्स, विटामिन और एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होते हैं। काले चावल को अपने डाइट में शामिल करने से आपको अपने खाने में खुशबू मिलेगी।

black rice
काले चावल मिनरल्स, विटामिन और एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होते हैं।

चावल के प्रकार (साइज के आधार पर)

1. छोटे चावल

आपको इसके नाम से ही पता चल गया होगा कि चावल छोटे होते हैं जिसमें इनकी लंबाई इनकी चौढ़ाई से दोगुना होती है। पकने के बाद यह सोफ्ट और नाजुक हो जाते हैं जो एक साथ चिपक जाते हैं। इस कारण से यह सुशी चावल के लिए अच्छा ऑप्शन है। इसके अलावा इन चावल के प्रकार को पुडिंग और सलाद के लिए भी इस्तेमाल किया जाता है।

संबंधित आर्टिकल
कुट्टू का मतलब क्या है? कुट्टू का आटा घर में कैसे बनाएं और रेसिपी।
क्विनोआ या चावल- इनमें अंतर क्या है और कैसे इस्तेमाल करें।

2. मीडियम चावल

छोटे चावल और मीडियम चावल के प्रकार में देखने में कुछ ज्यादा अंतर नहीं है। यह थोड़े लंबे चावल होते हैं लेकिन कई बार यह दोनों चावल मिक्स होने पर इन दोनों में अंतर बताना मुश्किल हो जाता है। दोनों चावल दिखने में कुछ हद तक एक जैसे हो सकते हैं लेकिन यह एक जैसे नहीं हैं। मीडियम साइज के चावल को पकाने पर यह चबाने लायक, नमी वाले और नाजुक होते हैं। आर्बोरियो और वेलेंसिया- चावल के प्रकार हैं जिनको रिसोट्टो जैसी डिश बनाने के लिए परफेक्ट माना जाता है।

चावल के प्रकार (पकने के बाद के टैक्शर के आधार पर)

1. चिपचिपा चावल

इस तरह के चावल नमी वाले और नाजुक होते हैं इसलिए बिना किसी मेहनत के यह एक- दूसरे से चिपक जाते हैं। इनकी इस खूबी के कारण यह सुशी जैसी डिश के लिए परफेक्ट हैं।

2. आधे पके चावल

इस तरह के चावल के लिए यह बात जाननी जरुरी है कि यह चावल फर्म और अलग- अलग रहते हैं। इन चावल को बनाते समय यह नमी और फल्फी रहते हैं जिससे रेसिपी पूरी तरह से अलग बन जाती है।

rice recipe
चावल के प्रकार- पकने के बाद के टैक्शर के आधार पर

चावल के प्रकार (खुशबू के आधार पर)

यह अलग तरह का विभाजन है। इसमें चावल के विभिन्न प्रकार को उसकी खुशबू और फ्लेवर के आधार पर अलग किया जाता है। खुशबूदार होने का कारण एक तरह के कंपाउंड का होना जरुरी है- 2-एसिटाइल 1-पीरोलाइन (2-acetyl 1-pyrroline)।

1. चमेली चावल

इसको थाई सुगंधित चावल भी कहा जाता है जिनमें थोड़ी कम खुशबू होती है। यह एशियाई डिश में पाए जाते हैं और इनको लंबे अनाज के रुप में पाया जाता है। जिस कारण इनको पकाते समय यह अलग और फल्फी रहते हैं।

2. बासमती चावल

भारत में बासमती चावल बहुत पॉपुलर हैं। पूरी दुनिया में 90% अनाज जो एक्सपोर्ट किया जाता है वो भारत से किया जाता है। बासमती चावल की खुशबू और फ्लेवर चमेली चावल से ज्यादा होता है। पकाने के बाद यह फल्फी और अलग- अलग रहते हैं। बासमती चावल का स्वाद बढ़ाने के लिए इसको बाकी के मसालो और फ्लेवर लाने वाली चीजों के साथ पकाया जाता है।

आखिर में

चावल के प्रकार कई हैं और यह सारे चावल के विभिन्न प्रकार पूरी दुनिया में आसानी से मिल जाते हैं। लेकिन यह आपके लिए जानना जरुरी है कि कौन से प्रकार के चावल आपके डिश के लिए परफेक्ट हैं। और परफेक्ट चावल बनाने के लिए आपको टैक्शर, खुशबू, साइज और सबसे ज्यादा जरुरी है उसके पोषण त्तव के बारे में जानकारी प्राप्त करना। अगर आप इन सभी बातों को ध्यान में रखेंगे तो आपको फ्लेवर से भरपूर के साथ विटामिन और मिनरल्स से भरपूर खाना मिलेगा।

Leave a Reply on चावल के प्रकार- रंग, बनावट, आकार और खुशबू

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*