ग्रीन कॉफी वेट लॉस- फायदे, नुकसान और कैसे बनाए (Green Coffee For Weight Loss: Benefits, Side-Effects & How To Prepare)
green coffee benefitsmishry

ग्रीन कॉफी वेट लॉस- फायदे, नुकसान और कैसे बनाए (Green Coffee For Weight Loss: Benefits, Side-Effects & How To Prepare)

ग्रीन कॉफी के फायदे कई सारे हैं जैसे कि ग्रीन कॉफी वेट लॉस और डायबटीज को सामान्य बनाए रखने में मदद करती है। ग्रीन कॉफी के फायदे और नुकसान की जानकारी यहां से ले सकते हैं।

बाकी सभी खाने की चीजों की तरह, ग्रीन कॉफी भी पिछले कुछ साल से वजन कम करने में फायदे के तौर पर सामने आई है। यह सच है कि ग्रीन कॉफी को वजन कम करने के लिए जानी जाती है और इसका सेवन करने से कुछ किलो जरुर कम हो जाते हैं। लेकिन ग्रीन कॉफी के फायदे सिर्फ यहां तक ही सीमित नहीं हैं। ग्रीन कॉफी एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर है जो अपने साथ कई सारे फायदे लेकर आता है। इस बात की तह तक जाने के लिए हम आपके लिए ग्रीन कॉफी के फायदे और नुकसान के साथ- साथ ग्रीन कॉफी को बनाने की विधि की जानकारी लेकर आए हैं।

 

ग्रीन कॉफी के फायदे (Health Benefits Of Green Coffee)

 

1. ग्रीन कॉफी वेट लॉस (Green Coffee And Weight-Loss Go Hand In Hand)

क्य ग्रीन कॉफी से वेट लॉस होता है का जवाब हम लेकर आ गए हैं। ग्रीन कॉफी वेट लॉस, दोनों को ही एक साथ जोड़ा जाता है। इसको बेहद आसान है। ग्रीन कॉफी बनाने के लिए आपको बस गर्म पानी में ग्रीन कॉफी पाउडर डालना है और वजन कम करने के लिए आपकी ग्रीन कॉफी तैयार है। हालांकि ग्रीन कॉफी से आप वो नहीं पा सकते हैं जिसकी आपको चाह है क्योंकि इसमें कैफेन होता है। कैफेन आपको कसरत करने के लिए एनर्जी दे सकता है जिससे आप कैलोरी बर्न कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें- वजन कम कैसे करें | वजन कैसे बढ़ाए

 

2. ग्रीन कॉफी से ब्लड प्रेशर सामान्य रहता है (Maintains A Healthy Blood Pressure)

ग्रीन कॉफी का यह फायदा इसमें मौजूद क्लोरोजेनिक एसिड आता है। ग्रीन कॉफी एक कॉफी फल का बीज है जिसको रोस्ट नहीं किया जाता है, रोस्ट ना करने के कारण इसमें क्लोरोजेनिक एसिड भरपूर मात्रा में पाया जाता है। एक अध्ययन के अनुसार सही मात्रा में ग्रीन कॉफी का सेवन करने से ब्लड वेसल्स फैलाव सही बना रहता है जिससे शरीर में खून का बहाव सामान्य बना रहता है।

 

3. ग्रीन कॉफी मूड अच्छा करती है (Improves Your Mood)

कई अध्ययन में दावा किया गया है कि ग्रीन कॉफी पीने से मूड अच्छा हो जाता है जिससे पूरा दिन अच्छा जाता है। जो ग्रीन कॉफी पीता है उसकी दिमाग की सेहत ग्रीन कॉफी के अर्क की मदद से स्वस्थ रहती है। ऐसे होने से दिमाग से जुड़ी बीमारी और भूलने की बीमारी होने के आसार कम हो जाते हैं (1)।

 

जो ग्रीन कॉफी पीता है उसकी दिमाग की सेहत ग्रीन कॉफी के अर्क
की मदद से स्वस्थ रहती है।

 

4. ग्रीन कॉफी और एंटी एजिंग (Green Coffee And Anti-Ageing)

ग्रीन कॉफी में भारी मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट पाए जाते हैं जिस कारण यह फ्री रेडिकल से लड़ने में मदद करती है। फ्री रेडिकल हमारे शरीर को नुकसान देने के लिए स्वस्थ सेल के साथ मिल जाते हैं। लेकिन अगर शरीर में एंटीऑक्सीडेंट हैं तो यह एंटीऑक्सीडेंट फ्री रेडिकल के साथ मिल जाते हैं और इन्हें खत्म कर देते हैं। ग्रीन कॉफी पीने से फ्री रेडिकल का खतरा कम हो जाता है। आपको बता दें कि फ्री रेडिकल अधिकतर बढ़ती उम्र के आसार को जल्दी लेकर आते हैं। अगर डाइट में ग्रीन कॉफी शामिल हैं तो बढ़ती उम्र के आसार जल्दी से नहीं आएगें।

 

5. ग्रीन कॉफी से सेहतमंद शुगर लेवल रहता है (Helps In Maintaining A Healthy Sugar Level)

ग्रीन कॉफी के अर्क एंटी- डायबटिक खूबी के लिए बहुत पॉपुलर हैं। कई अध्ययन में यह पाया गया है कि ग्रीन कॉफी के अर्क टाइप- 2 डायबटीज के खतरे को कम करने में मदद करते हैं। और साथ ही उन लोगों के शुगर लेवल को कम रखता है जो टाइप- 2 डायबटीज से गुजर रहे हैं (2)।

 

Buy Green Coffee Online

ग्रीन कॉफी के नुकसान (Side-Effects Of Green Coffee)

कॉफी में कैंमिकल की मात्रा ज्यादा होती है इसलिए कॉफी का सेवन सही मात्रा में ही करना चाहिए। यहां से आप ग्रीन कॉफी के नुकसान की जानकारी ले सकते हैं।

 

कॉफी में कैंमिकल की मात्रा ज्यादा होती है इसलिए कॉफी का सेवन
सही मात्रा में ही करना चाहिए।

 

1. बहुत ज्यादा कैफेन (Too Much Of Caffeine)

हालांकि ग्रीन कॉफी में उतनी मात्रा में कैफेन नहीं होता है जितनी मात्रा में रोस्ट की हुई कॉफी में होता है लेकिन यह फिर भी ज्यादा है। सोने से पहले कॉफी को नहीं पीना चाहिए, ऐसा करने से नींद नहीं आती है। अधिक मात्रा में कैफेन का सेवन करने से दिल की बीमारी जैसे कि कार्डिएक एरिद्मिया (cardiac arrhythmia) होने के आसार बढ़ जाते हैं।

 

2. होमोसिस्टीन का स्तर बढ़ सकता है (May increase Homocysteine Levels)

कई अध्ययन में बताया गया है कि ग्रीन कॉफी पीने से खून में होमोसिस्टीन का स्तर बढ़ जाता है। होमोसिस्टीन, एमीनो एसिड है जो खून में पाया जाता है। इसके बढ़ने से दिल की बीमारी होने के आसार बढ़ जाते हैं।

 

ग्रीन कॉफी बनाने की विधि (Making A Perfect Cup Of Green Coffee)

ग्रीन कॉफी को रोजाना पीने के लिए सबसे जरुरी है कि आप यह जान लें कि इसको फ्लेवर से भरपूर कैसे बनाना है। ग्रीन कॉफी को पाउडर के इस्तेमाल से बनाना बेहद आसान है। यहां से आप ग्रीन कॉफी बनाने की सिंपल विधि की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

 

ग्रीन कॉफी को पाउडर के इस्तेमाल से बनाना बेहद आसान है।

 

  1. सबसे पहले 1 ½ चम्मच ग्रीन कॉफी लें और फिर पानी को बर्तन में डालें और दोनों को गैस स्टोव पर उबलने दें।
  2. इसको अच्छे से उबाल लें।
  3. उबलने के बाद गैस मीडियम कर दें और 10 मिनट तक धीरे- धीरे उबलने दें।
  4. अब गैस से उतार लें और कप में ग्रीन कॉफी को छान लें।
  5. अब आप सेहतमंद ग्रीन कॉफी पी सकते हैं।

 

आखिर में

आखिर में हम यही कहेंगे कि ग्रीन कॉफी सेहतमंद जिंदगी जीने के लिए एक अच्छा ऑप्शन है। जैसा हम हर खाने या पीने की चीज़ के बारे में कहते हैं कि हर चीज़ के फायदे और नुकसान जानने के बाद ही उसे अपनी डाइट में शामिल करें। ग्रीन कॉफी को नियमित रूप और सही मात्रा में सेवन करें और स्वस्थ रहें।

 

Subscribe to our Newsletter

0 0 votes
User Rating
Notify of
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments