कुलथी दाल के 11 अद्भुत फायदे, उपयोग और नुकसान – मिश्री
कुलथी दाल के फायदे

कुलथी दाल के फायदे, उपयोग और नुकसान – सबसे ज्यादा पौष्टिक दाल

कुलथी दाल क्या है, कुलथी दाल के फायदे, उपयोग, नुकसान से जुड़ी जानकारी यहां से प्राप्त करें। और साथ ही कुलथी दाल के फायदे डाइट में कैसे शामिल करें, यहां से जानें।

इस दाल का सेवन आमतौर पर कम किया जाता है लेकिन इसके फायदे जानने के लिए बाद आप इसे अपनी डाइट में जरूर शामिल करना चाहेंगे। क्या आप पहचान सकते हैं?

कुलथी दाल: यह पूरी तरह मुमकिन है कि आपने कुलथी दाल का नाम पहली बार सुना होगा। चाहे आपने कुलथी दाल (horse gram in hindi) का नाम पहले सुना हो या नहीं, कुलथी दाल के फायदे (kulthi ki daal ke fayde) जानने बेहद जरूरी हैं। कुलथी दाल के बारे में कहा जाता है कि यह पृथ्वी पर सबसे ज्यादा पौष्टिक दाल है। यू.एस की राष्ट्रीय विज्ञान अकादमी का मानना है कि भविष्य में कुलथी दाल के फायदे बहुत पॉपुलर और लाभदायक हो सकते हैं।

कुलथी दाल के फायदे प्रोटीन से भरपूर हैं इसलिए इसका सेवन पूरी दुनिया में किया जाता है। इस आर्टिकल से आप कुलथी दाल क्या है (kulthi dal in hindi), पौष्टिक तत्व, फायदे, उपयोग और नुकसान से जुड़ी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

कुलथी दाल गोल आकार में जमी हुए
कुलथी दाल के फायदे (Benefits Of Horse Gram) डाइट में जरुर शामिल करें। इमेज क्रेडिट –commons.wikimedia.org

कुलथी का मतलब (horse gram meaning in hindi) चना होता है। अंग्रेज़ी में कुलथी दाल हॉर्स ग्राम के नाम (horse gram in hindi name) से जाना जाता है और पहले इसका इस्तेमाल इसके नाम के अनुसार ही किया जाता था। कुलथी दाल का उपयोग घोड़े, भेड़, बकरी आदि के खाने के तौर पर किया जाता था। लेकिन कई अध्ययन के बाद यह पाया गया है कि कुलथी दाल प्रोटीन से भरपूर होती है जो मनुष्य के लिए भी लाभदायक है। जैसे की ऊपर भी बताया गया है कि कुलथी दाल के फायदे (kulthi ki daal ke fayde) भविष्य में बहुत पॉपुलर होने वाले हैं इसलिए इस दाल का उपयोग कुपोषण दूर करने के लिए भी किया जाता है। कुलथी दाल की पौष्टिक तत्व से जुड़ी जानकारी नीचे दी गई टेबल से ले सकते हैं।

कुलथी दाल के पौष्टिक तत्व 

कुलथी दाल पौष्टिक तत्व (horse gram nutrition) के कारण सबसे ज्यादा जाना जाता है। कुलथी दाल में प्रोटीन की मात्रा सबसे ज्यादा होती है। इसके अलावा इसमें कई सारे पौष्टिक तत्व पाए जाते हैं और कुलथी दाल हिंदी में (what is horse gram in hindi) से जुड़ी जानकारी नीचे से ले सकते हैं।

पोषण मात्रा – 100 ग्राम
कैलोरी 321 किलो कैलोरी
फाइबर 5.3%
प्रोटीन 22%
कार्बोहाइड्रेट 57.2%
कैल्शियम 287 एमजी
फास्फोरस 311 एमजी
फैट 0.50%
आयरन 6.77 एमजी
थियामिन 0.4 एमजी
राइबोफ्लेविन 0.2 एमजी
नियासिन 1.5 एमजी

कुलथी दाल के फायदे

कुल्थी की दाल का दूसरा नाम हॉर्स ग्राम के नाम से जाना जाता है। कुलथी दाल के पौष्टिक तत्व जानने के बाद आप चाहेंगे कि इसे डाइट में शामिल किया जाए। लेकिन डाइट में शामिल करने से पहले कुलथी दाल के फायदे जरूर जान लें। कुलथी दाल के फायदे (horse gram dal in hindi) आपकी रोजाना की परेशानियों से राहत दिला सकता है। कुलथी दाल के फायदे से जुड़ी विस्तार से जानकारी नीचे से प्राप्त कर सकते हैं।

कुलथी दाल के फायदे कई सारे हैं।

1. कुलथी दाल- एक प्रकार की औषधि

कुलथी दाल का इस्तेमाल सबसे ज्यादा औषधि के रूप में किया जाता है इसलिए हो सकता है कि आपने इसका नाम कम सुना हो। कुलथी दाल का इस्तेमाल अस्थमा, पथरी, पीलिया, बुखार आदि में किया जाता है। बीमारी में कुलथी की दाल, पानी, सूप पीना लाभदायक होता है।

2. वेट लॉस

कुलथी दाल के फायदे (kulthi ki daal ke fayde) सबसे ज्यादा वजन कम करने के लिए जाने जाते हैं। कुलथी दाल में फाइबर भरपूर मात्रा में पाया जाता है जिससे पेट लंबे समय के लिए भरा रहता है। लंबे समय के लिए पेट भरा रहने से आप बार- बार खाना नहीं खाते हैं। इसके साथ ही कुलथी दाल में कैलोरी की मात्रा कम होती है जिससे कैलोरी का सेवन कम किया जाता है। कई अध्ययन में यह पाया गया है कि कुलथी दाल फैटी टिशू पर डायरेक्ट अपना असर दिखाती है जिससे फैट कम होता है और वेट लॉस में मदद मिल सकती है।

डम्बल
कुलथी दाल के फायदे वजन कम करने में मदद करते हैं।

3. सामान्य कोलेस्ट्रॉल

कुलथी दाल में प्राकृतिक रूप से फैट बर्न करने के गुण होते हैं। इसके साथ ही कई अध्ययन में भी यह पाया गया है कि कुलथी दाल के फायदे (kulthi ki daal ke fayde) खराब कोलेस्ट्रॉल लेवल कम और अच्छा कोलेस्ट्रॉल लेवल बढ़ने में मदद करती है। इसलिए कहा जा सकता है कि कुलथी दाल के फायदे कोलेस्ट्रॉल सामान्य बनाए रखने में मदद कर सकते हैं।

4. डायबिटीज 

कुलथी दाल के फायदे डायबिटीज के लिए भी मौजूद हैं। इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ केमिकल टेक्नोलॉजी ने यह पाया है कि दिन में एक बार कुलथी दाल खाने से डायबिटीज में लाभ मिल सकता है। कुलथी दाल डाइट में शामिल करने से इंसूलिन कम रहता है जिससे शुगर लेवल अचानक से बढ़ता या कम नहीं होता है। डायबिटीज में कुलथी दाल डाइट में शामिल कर सकते हैं लेकिन इसके बावजूद डॉक्टर से सलाह जरूर लें।

संबंधित आर्टिकल: सभी दालों के नाम फोटो के साथ

5. पथरी

कुलथी दाल के फायदे पथरी के इलाज के लिए लाभदायक माने जाते हैं। शरीर में कैल्शियम की मात्रा ज्यादा होने से पथरी होने के आसार बढ़ जाते हैं। यहां पर कुलथी की दाल के फायदे काम आते हैं। कुलथी दाल में भरपूर मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट पाए जाते हैं जो कैल्शियम के जमाव को कम करने में मदद करता है। इसके साथ ही यह देखा गया है कि जिन लोगों को पथरी होती है वो लोग कुलथी के पानी का सेवन करते हैं जिसकी रेसिपी की जानकारी आप नीचे से प्राप्त कर सकते हैं। कुलथी का पानी पथरी के लिए डाइट में शामिल करने से पहले डॉक्टर से सलाह जरूर लें।

6. स्वस्थ लिवर

कुलथी दाल में दो सेहतमंद कंपाउंड पाए जाते हैं- फ्लेवोनोइड्स और पॉलीफेनोल्स। यह दोनों कंपाउंड लिवर को खतरनाक केमिकल से बाचकर रखते हैं और स्वस्थ तरीके से काम करने में मदद करते हैं।

कुलथीदाल
कुलथी दाल के फायदे लिवर को केमिकल से बचाकर रखने में मदद करता है।

7. छालों में आराम

जैसा कि आपको पहले भी बताया है कि कुलथी दाल में फ्लेवोनोइड्स नाम का कंपाउंड पाया जाता है जो पेट साफ रखने में मदद करता है। पेट साफ रहने से छोले होने के आसार कम हो जाते हैं और अगर छाले हैं तो ठीक करने में मदद करते हैं।

8. बुखार

सर्दी, बुखार होने पर कुलथी दाल के फायदे (kulthi ki daal ke fayde) आपकी मदद कर सकते हैं। सर्दी या बुखार होने पर कुलथी दाल का सेवन किया जा सकता है। जिसके बाद कहा जा सकता है कि कुलथी दाल के फायदे खांसी-जुकाम के घरेलू उपाय की तरह इस्तेमाल किए जा सकते हैं।

कुलथी दाल के फायदे बुखार में लाभदायक होते हैं।

9. स्वस्थ डाइजेशन

कुलथी दाल के फायदे फाइबर से भरपूर होते हैं। स्वस्थ पाचन शक्ति रखने के लिए कुलथी दाल के फायदे काम आते हैं। पाचन शक्ति स्वस्थ रखने के लिए फाइबर का सेवन करना चाहिए और कुलथी दाल में भरपूर मात्रा में फाइबर पाया जाता है। कब्ज, दस्त या पेट से जुड़ी किसी भी परेशानी से राहत पाने के लिए कुलथी दाल के फायदे (kulthi ki daal ke fayde) आपकी मदद कर सकते हैं।

10. सेहतमंद त्वचा 

कुलथी दाल के फायदे त्वचा के लिए कई सारे हैं। कुलथी दाल के गुण त्वचा साफ और पोषण से भरपूर रखने में मदद करते हैं। त्वचा के लिए कुलथी दाल का इस्तेमाल इसे पीसकर त्वचा पर किया जा सकता है। ऐसा करने से डेढ सेल निकल जाते हैं जिससे त्वचा स्वस्थ और साफ हो जाती है। इसके साथ ही सनबर्न से भी बचाव मिलता है।

11. मजबूत बाल

कुलथी दाल के फायदे बालों को मजबूत बनाने में भी मदद करते हैं। कुलथी दाल खाने से बाल मजबूत बनते हैं। कुलथी का सेवन आप दाल, सूप या पानी के रूप में कर सकते हैं। कुलथी से बालों को जरूरी पौष्टिक आहार मिलते हैं।

कुलथी दाल का उपयोग कैसे करें 

कुलथी दाल का उपयोग कई तरह से किया जा सकता है। कुलथी दाल का उपयोग आप पाउडर, पानी, दाल, उबालकर भी कर सकते हैं। और इनको कैसे बनाया जाता है से जुड़ी जानकारी भी आप नीचे से प्राप्त कर सकते हैं।

1. कुलथी पाउडर

कुलथी पाउडर आप घर में भी बना सकते हैं। कुलथी पाउडर का इस्तेमाल वेट लॉस के लिए कर सकते हैं।

कुलथी पाउडर बनाने की विधि

  • कुलथी पाउडर बनाने के लिए सबसे पहले कुलथी दाल पैन में रोस्ट करें।
  • इसके बाद तिल रोस्ट करें।
  • अब सूखी लाल मिर्च, काली मिर्च और जीरा रोस्ट करें।
  • आखिर में इसमें हींग और स्वादानुसार नमक डालें।
  • सभी रोस्ट की गई सामग्री ग्राइंडर में डालें और ग्राइंड करें।
  • कुलथी पाउडर तैयार है।

2. कुलथी का पानी

कुलथी दाल के फायदे आप कुलथी के पानी से भी ले सकते हैं। कुलथी का पानी आप आसानी से बना सकते हैं।

कुलथी पानी बनाने की रेसिपी

  • कुलथी पानी बनाने बनाने के लिए आपको कुलथी का पाउडर और पानी या लस्सी की जरूरत है।
  • एक गिलास पानी या लस्सी लें।
  • अब एक चम्मच कुलथी पाउडर अच्छे से मिक्स करें और रोजाना खाली पेट इसका सेवन करें। ऐसा करने से पेट से जुड़ी कई बीमारियां दूर हो सकती हैं।

3. अंकुरित कुलथी दाल

कुलथी दाल उगाकर भी खा सकते हैं। इसको भी वैसे ही उगाना है जैसे आप बाकी अनाज जैसे कि मूंग, चने उगाते हैं।

  • रातभर के लिए कुलथी दाल में पानी डालकर रखें।
  • अगली सुबह पानी निकाल दें।
  • अब इन्हें बिना पानी के रखें।
  • 2 से 3 दिन में कुलथी दाल अंकुरित हो जाएगी।

4. कुलथी दाल उबालकर खाएं

कुलथी दाल का सेवन उबालकर भी कर सकते हैं। अगर आपके पास सुबह समय कम होता है तो सिर्फ कुलथी दाल को उबालकर खाना भी एक सेहतमंद ऑप्शन है।

  • इसमें आपको सिर्फ कुलथी दाल को पानी में उबालना है।
  • जब तक सोफ्ट ना हो जाए तब तक उबालें।
  • उबलने के बाद नमक और काली मिर्च डालकर खाएं।

कुलथी दाल से बनने वाली डिश

कुलथी दाल जितनी सेहतमंद है उतनी ही खाने में स्वादिष्ट भी लगती है। कुलथी दाल से आप कई सारी स्वादिष्ट डिश बना सकते हैं। कुलथी दाल से बनने वाली डिश की रेसिपी से जुड़ी जानकारी नीचे से ले सकते हैं।

1. कुलथी दाल

कुलथी दाल बनाने की विधि बाकी दाल बनाने की तरह ही है। बस फर्क इतना है कि आपको कुलथी दाल को रातभर भिगाना और फिर प्रेशर कुकर में 8 से 9 सीटी लगानी है।

कुलथी दाल बनाने की रेसिपी

  • कुलथी दाल बनाने के लिए सबसे पहले रातभर दाल पानी में भिगाकर रखें।
  • अगले दिन, प्रेशर कुकर में तेल, हल्दी, नमक डालकर मीडियम गैस पर दाल रख दें और 8 से 9 सीटी आने दें।
  • अब कुलथी दाल के लिए तड़का तैयार करें।

2. कुलथी दाल का सूप

अगर आपको सूप और भी ज्यादा सेहतमंद बनाना है तो इसे कुलथी की दाल से बना सकते हैं। कुलथी की दाल से सूप बनाने की रेसिपी बाकी सूप की तरह ही है।

कुलथी सूप बनाने की रेसिपी

  • कुलथी सूप बनाने के लिए 30 से 45 मिनट के लिए कुलथी दाल पानी में उबालें। या तब तक उबालें जब तक यह सॉफ्ट ना हो जाए।
  • अब पैन में तेल डालें और गर्म होने दें।
  • तेल गर्म होने के बाद इसमें जीरा, लहसुन, अदरक, हरी मिर्च और प्याज डालें।
  • इन सभी को अच्छे से भुने।
  • अब कसा हुआ टमाटर डालें और पकाएं।
  • टमाटर पकने के बाद इसमें उबली हुई कुलथी दाल डालें और पकाएं।
  • कुलथी दाल पकने के बाद जैसी स्थिरता आपको सूप की चाहिए उतना पानी डालें।
  • पानी डालने के बाद सूप पकाएं।
  • पकने के बाद गैस बंद करें और आपका कुलथी दाल का सूप तैयार है।

3. कुलथी दाल के पराठे

कुलथी दाल के पराठे बनाने बेहद आसान हैं। इसके लिए कुलथी दाल रातभर पानी में भिगाकर रखनी है।

  • रातभर भिगाई गई कुलथी दाल ग्राइंडर में ग्राइंड कर लें।
  • लहसुन, अदरक, हरी मिर्च, नमक डालकर अलग से ग्राइंड करें।
  • जैसे आप आलू के पराठे बनाते हैं वैसे ही कुलथी के पराठे बनाए।
  • पराठे में कुलथी की दाल की फिलिंग करें और तवे में सेकें।
  • कुलथी के स्वादिष्ट पराठे तैयार हैं।

4. कुलथी दाल के पकोड़े

अगर आपको पकोड़े में अलग स्वाद लाना है तो कुलथी की दाल का इस्तेमाल कर सकते हैं। इसकी रेसिपी भी आम पकोड़े जैसी है।

  • रातभर पानी में भिगाई गई कुलथी दाल को ग्राइंड कर लें।
  • अब ग्राइंड की दाल में बारी क कटा हुआ लहसुन, अदरक, हरी मिर्च, लाल मिर्च और स्वादानुसार नमक डालें।
  • इस मिश्रण को गूंथने करने के लिए इसमें चावल का आटा डालें और अच्छे से गूंथे।
  • अब कढ़ाई लें और तेल गर्म करें।
  • गर्म तेल में कुलथी दाल के पकोड़े डीप फ्राई करें।
  • कुलथी दाल के पकोड़े सॉस या लाल चटनी के साथ खा सकते हैं।

कुलथी दाल के नुकसान 

कुलथी दाल के फायदे जानने के साथ- साथ जरूरी है कि आप कुलथी दाल के नुकसान (kulthi dal side effects) से जुड़ी जानकारी भी प्राप्त कर लें। कुलथी दाल का सेवन करते समय कुलथी दाल के नुकसान से जुड़ी जानकारी भी होनी जरूरी है।

  • गर्भवति महिलाएं डॉक्टर की सलाह के बाद ही कुलथी दाल का सेवन करें।
  • कुलथी दाल में फाइबर भरपूर मात्रा में पाया जाता है इसलिए सही मात्रा में ही कुलथी दाल खाएं।
  • गैस की परेशानी से गुजर रहे लोग कुलथी दाल का सेवन ना करें।

आखिर में

आमतौर पर कुलथी दाल का सेवन नहीं किया जाता है लेकिन ऐसा नहीं होना चाहिए। कुलथी दाल के फायदे जानने के बाद आप चाहेंगे कि इसे डाइट में शामिल किया जाए। कुलथी दाल डाइट में शामिल करने से शरीर से जुड़े कई फायदे मिल सकते हैं।

इसके साथ ही आप यहां से कुलथी दाल डाइट में शामिल करने के कई ऑप्शन प्राप्त कर सकते हैं। लेकिन इसके साथ ही कुलथी दाल के नुकसान से जुड़ी जानकारी भी होनी चाहिए क्योंकि अधिक मात्रा में कुलथी दाल खाने से नुकसान भी हो सकते हैं।

क्या आप डाइट में कुलथी दाल शामिल करना चाहेंगे? हमें कमेंट में जरूर बताएं।

FAQs

कुलथी दाल के फायदे से जुड़े दिलचस्प सवालों के जवाब यहां से प्राप्त कर सकते हैं।

रोजाना सही मात्रा में कुलथी दाल का सेवन किया जा सकता है। वेट लॉस डाइट में कुलथी दाल शामिल करना एक अच्छा ऑप्शन है।

अधिक मात्रा में कैल्शियम जमा होने से पथरी हो जाती है। कुलथी दाल एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर है जो पथरी से बचाव कर सकती है। लेकिन इसके बावजूद डॉक्टर से सलाह जरूर लें।

कुलथी दाल में फाइबर भरपूर मात्रा में पाया जाता है जिससे पेट लंबे समय के लिए भरा रहता है। इसके साथ ही कुलथी दाल में कैलोरी कम होती है जिससे वेट लॉस में मदद मिलती है।

कुलथी दाल का पानी पीने से कई सारे पौष्टिक तत्व प्राप्त होते हैं जिससे बाल सेहतमंद और मजबूत बनते हैं।

Subscribe to our Newsletter

0 0 votes
User Rating
Notify of
Notify of
guest
7 Comments
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments