एलोवेरा के 16 अनोखे फायदे, उपयोग और नुकसान – मिश्री
एलोवेरा के 16 अनोखे फायदे, उपयोग और नुकसान

एलोवेरा के 16 अनोखे फायदे, उपयोग और नुकसान

एलोवेरा के फायदे कई सदियों से लोगों के पास हैं। प्राकृतिक इलाज के लिए एलोवेरा के फायदे बेहद पॉपुलर हैं। एलोवेरा के फायदे से जुड़ी पूरी जानकारी यहां से प्राप्त कर सकते हैं।

एलोवेरा के फायदे 6000 साल से ज्यादा समय से इस्तेमाल किए जा रहे हैं। प्राचीन मिस्र (इजिप्ट) में इसको त्वचा और सुंदरता के लिए और जखमी जवानों की चोट का इलाज करने के लिए इस्तेमाल किया जाता था। एलोवेरा के फायदे एंटी- इंफ्लामेट्री गुण से भरपूर हैं। इसके साथ ही एलोवेरा के फायदे एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होते हैं जो रोजाना होने वाली दिक्कतों से लड़ने में मदद करता है। इसमें गज़ब की मॉइस्चराइजिंग खूबी भी है जिस कारण एलोवेरा ब्यूटी इंडस्ट्री के लिए महत्वपूर्ण माना जाता है।

एलोवेरा के पौधे की बात की जाए तो इसके परिवार में 500 से ज्यादा रसीले पौधों की प्रजाति हैं। सौंदर्य की दृष्टि से देखा जाए तो यह सजावट का पौधा है जिसको घर के अंदर या फिर बाहर उगाया जा सकता है। इसकी त्रिकोण रसीली पत्तियों में जेल जैसा लिक्विड निकलता है जिसे इलाज के लिए इस्तेमाल किया जाता है। एलोवेरा के फायदे से जुड़ी जानकारी प्राप्त करने से पहले आइए एलोवेरा क्या है, एलोवेरा कहां मिलता और एलोवेरा के पौष्टिक तत्व के बारे में जानकारी प्राप्त करते हैं।

आयुर्वेद में एलोवेरा को घृतकुमारी के नाम से जाना जाता है। एलोवेरा के पौधे में कई सारे पत्ते होते हैं जिनके अंदर जेल होता है। इस जेल का इस्तेमाल सबसे ज्यादा किया जाता है। एलोवेरी ने अपनी जगह औषधि के रूप में भी बनाई हुई है। आपको बता दें कि एलोवेरा की लगभग 200 जातियां हैं जिसमें से इंसान के उपयोग के लिए एलोवेरी की 5 जातियां ही हैं।

एलोवेरा को अरब प्रायद्वीप से उत्पन्न किया जाता है। एलोवेरा के फायदे कई सारे हैं जिस कारण से एलोवेरा के प्रोडक्ट ग्राहकों को उपलब्ध करवाए जाते हैं। एलोवेरा प्रोडक्ट को सबसे मुनाफा देने वाले प्रोडक्ट के रूप में जाना जाता है और आपको बता दें कि इसपर सबसे ज्यादा अध्ययन भी किए जाते हैं। इतने सारे फायदे होने के साथ- साथ कई जगह इसको पूजा के लिए भी इस्तेमाल किया जाता है। किन कारण से पिछले कुछ सदियों से एलोवेरा इतना पॉपुलर हो रहा है? आइए पता लगाते हैं।

इस आर्टिकल से आप एलोवेरा के फायदे, एलोवेरा का उपयोग, एलोवेरा जूस बनाने की विधि, एलोवेरा के नुकसान से जुड़ी सारी जानकारी विस्तार से प्राप्त कर सकते हैं।

एलोवेरा
एलोवेरा के फायदे

एलोवेरा कहां मिलता है? 

एलोवेरा, जीनस एलो प्रजाति का पौधा है। एलोवेरा ट्रोपिकल मौसम में पूरी दुनिया में उगाया जाता है और इसे खासतौर से मेडिकल और कृषि (खेती- बाड़ी) के इस्तेमाल के लिए उगाया जाता है। एलोवेरा कम प्राकृतिक बारिश वाली जगह पर भी उगाया जा सकता है। लेकिन यह वहां नहीं उग सकता है जहां बर्फ होती है।

एलोवेरा के फायदे बेवरेज की तरह भी लिए जा सकते हैं या फिर त्वचा के लिए स्किन लोशन, मलहम की तरह सनबर्न के लिए भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

एलोवेरा कहां पाया जाता है?

एलोवेरा के पौष्टिक तत्व 

पौष्टिक आहार मात्रा
कैलोरी 19 किलो कैलोरी
कार्बोहाइड्रेट 5 ग्राम
प्रोटीन 1 ग्राम
फैट 1 ग्राम
सैचुरेटेड फैट 1 ग्राम
सोडियम 73 एमजी
शुगर 1 ग्राम
विटामिन 5.8 एमजी
कैल्शियम 160 एमजी

एलोवेरा के फायदे 

एलोवेरा के फायदे कई सारे हैं। आपको बता दें कि एलोवेरा के फायदे सेहत से लेकर त्वचा के लिए कई सारे हैं। एलोवेरा के फायदे ब्लड शुगर सामान्य बनाए रखने से लेकर इम्यून सिस्टम स्ट्रोंग बनाने तक हैं। सबसे पहले बात करते हैं एलोवेरा के फायदे सेहत के लिए।

एलोवेरा के फायदे सेहत, त्वचा और बालों से जुड़े हुए हैं।

1. एलोवेरा के फायदे सेहत के लिए 

एलोवेरा के फायदे डाइट में शामिल करने से पहले इसके बारे में विस्तार रूप से जान लें। इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए एलोवेरा के फायदे खासतौर पर जाने जाते हैं। एलोवेरा के फायदे कई सारे हैं लेकिन आइए सबसे पहले एलोवेरा के फायदे सेहत से जुड़ी क्या हैं से जुड़ी जानकारी प्राप्त कर लेते हैं।

1. दर्द में राहत 

एलोवेरा के फायदे कई सारे हैं और आमतौर से एलोवेरा को सदियों से दर्द में राहत देने के लिए इस्तेमाल किया जा रहा है। छोटा कट या फिर त्वचा के जलने पर ताज़ा एलोवेरा को दर्द से राहत पाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। एंटी- इंफ्लामेट्री खूबी होने के कारण होने के कारण एलोवेरा जल दर्द से राहत देता है। भारी मात्रा में एंटीऑक्सीडटें होने के कारण इसमें एंटी- इंफ्लामेट्री के गुण हैं।

एलोवेरा के फायदे दर्द से राहत देने के लिए

2. सामान्य ब्लड शुगर लेवल 

एलोवेरा सबसे पुरानी और प्राकृतिक नुस्खा है जो ब्लड ग्लूकोज लेवल सामान्य बनाए रखने में मदद करता है। जो लोग डायबिटीज- 2 से गुजर रहे हैं उन लोगों के लिए यह फायदेमंद है। जिन लोगों में प्री- डायबिटीज के लक्षण दिख रहे हैं जिसमें ब्लड ग्लूकोज लेवल सामान्य से ज्यादा होता है लेकिन टाइप-2 डायबिटीज नहीं है, उन लोगों को भी अपनी डाइट में एलोवेरा शामिल करने की सलाह दी जाती है। अनियमित रूप से एलोवेरा का सेवन करने से एलोवेरा के नुकसान भी हो सकते हैं।

3. स्ट्रांग इम्यूनिटी 

एलोवेरा के फायदे अपनी डाइट में शामिल करने के कई सारे बेहतर कारण हैं। जो लोग इम्यून सिस्टम से जुड़ी परेशानी से गुजर रहे हैं उन लोगों के लिए एलोवेरा जूस बहुत लाभदायक है क्योंकि यह आपके शरीर को बैक्टीरिया और वायरस से लड़ने में मदद करता है। इम्यून सिस्टम में दिक्कत होने के कारण यह कमजोर हो जाता है जिससे बीमार होने के आसार बढ़ जाते हैं। इम्यून सिस्टम का पीएफ, मैक्रोफेज, यह वायरस से लड़ने में मदद करता है जो अपने आप कमजोर हो जाता है। एलोवेरा जूस मैक्रोफेज को मजबूत बनाए रखने में मदद करता है।

एलोवेरा के फायदे स्ट्रोंग इम्यूनिटी के लिए

4. स्वस्थ मुंह 

एलोवेरा के फायदे कई सारे हैं जिसमें मुंह से जुड़े फायदे भी शामिल हैं। एंटी- इंफ्लामेट्री खूबी होने के कारण यह मुंह को स्वस्थ रखने में मदद करता है। एलोवेरा का सेवन जूस के रूप में कर सकते हैं। एलोवेरा का जूस पीने से मुंह स्वस्थ रहता है और इससे जुड़ी बीमारियां दूर रहने में मदद मिलती है।

5. स्वस्थ पेट 

कब्ज और पेट के परेशानी सबसे आम दिक्कतें हैं। एलोवेरा में एंटी- इंफ्लामेट्री खूबी के कारण जब इसका सेवन किया जाता है तो यह अपच से आराम देने में मदद करता है। एलोवेरा की पत्तियों में मौजूद एलोवेरा लेटेक्स डाइजेशन को अच्छी तरीके से होने में मदद करता है लेकिन इसकी अधिक मात्रा आपको नुकसान भी दे सकती है।

एलोवेरा के फायदे स्वस्थ पेट के लिए

6. सेहतमंद डाइजेशन 

पेट की परेशानी दूर करने के साथ- साथ एलोवेरा के फायदे डाइजेशन में मदद करते हैं। एलोवेरा के फायदे फैट और शुगर तोड़ने में मदद करते हैं जिससे खाना पचने में मदद मिलती है। सेहतमंद सही तरीके से होने पर पूरे शरीर को स्वस्थ रहने में मदद मिलती है।

7. वेट लॉस 

जब भी बात वजन कम करने की आती है तो लोगों की अलग-अलग सलाह आने लगती है। लेकिन सही बात यह है कि वजन कम करना एक चीज पर निर्भर नहीं होना चाहिए। वजन कम करने के दौरान बैलेंस डाइट का होना सबसे ज्यादा जरुरी है। इसमें आप एलोवेरा जूस को शामिल कर सकते हैं। एलोवेरा के फायदे इसमें एंटी-इंफ्लामेट्री गुण के कारण मिलते हैं जो वजन कम करने में मदद करते हैं। एलोवेरा जूस पीने से शरीर में एनर्जी आती है जिससे फैट बर्न होने में मदद मिलती है। इसके साथ ही एलोवेरा का जूस पीने से शरीर अंदर से साफ रहता है और वजन सामान्य बने रहने में मदद मिलती है।

एलोवेरा के फायदे वेट लॉस के लिए

2. एलोवेरा के फायदे त्वचा के लिए 

जैसे एलोवेरा के फायदे सेहत के लिए हैं वैसे ही एलोवेरा के फायदे त्वचा के लिए भी हैं। आपको बता दें कि एलोवेरा को अधिकतर ब्यूटी प्रोडक्ट में इस्तेमाल किया जाता है क्योंकि इसमें ऐसे गुण होते हैं जो त्वचा को स्वस्थ बनाए रखने में मदद करते हैं। इसके साथ ही एलोवेरा जेल को डायरेक्ट त्वचा पर लगा सकते हैं अगर आपकी त्वचा संवेदनशील नहीं है। एलोवेरा के फायदे त्वचा के लिए से जुड़ी जानकारी आप नीचे से प्राप्त कर सकते हैं।

1. छोटे कट और त्वचा पर जलन के लिए 

छोटे घाव के लिए एलोवेरा का उपयोग कई सदियों से किया जा रहा है। एलोवेरा के फायदे इसमें मौजूद एंटी- बैक्टीरियल और एंटी- इंफ्लामेट्री के कारण मौजूद हैं। एलोवेरा जेल त्वचा में नमी बनाए रखने में मदद करता है और साथ ही फाइब्रोब्लास्ट सेल के जन्म को बढ़ाता है जो खराब टिश्शू को नए में बदलने में मदद करता है। एनसीबीआई के अनुसार, एलोवेरा से कई त्वचा से जुड़ी बीमारी का इलाज किया जाता है और यह कई क्लिनिकल परीक्षण की मदद से साबित भी किया गया है। छोटा कट, घाव या जल जाने पर एलोवेरा की परत हटाकर एलोवेरा के अंदर के हिस्से पर लगाकर रखने से घाव जल्दी भरने में मदद मिलती है।

एलोवेरा के फायदे छोटी चोट के लिए

2. प्राकृतिक मॉइस्चराइजर 

एलोवेरा के फायदे त्वचा में नमी बनाए रखने में भी मदद करते हैं। एलोवेरा में प्राकृतिक मॉइस्चराइजर की खूबी होने के कारण इसे कई स्किन केयर प्रोडक्ट में इस्तेमाल किया जाता है। जिनकी त्वचा तेलिए और मुंहासों के खतरे में रहती है उनके लिए एलोवेरा के फायदे कई सारे उपलब्ध हैं। एलोवेरा जेल का उपयोग सीधा त्वचा पर किया जा सकता है और यह प्राकृतिक आहार से भरपूर होता है। एलोवेरा जेल को त्वचा पर लगाने के बाद मालिश करनी चाहिए। जो एलोवेरा बच गया है उसे ठंडी जगह पर रखें और फिर दोबारा इस्तेमाल करें।

3.सनबर्न 

एलोवेरा के फायदे सबसे ज्यादा इसमें मौजूद एंटी- इंफ्लामेट्री के कारण हैं। बाकी फायदो के साथ- साथ एलोवेरा सनबर्न का इलाज करने में भी मदद करता है। सनबर्न होने पर त्वचा पर जलन शुरु हो जाती है। इस जलन से राहत पाने के लिए एलोवेरा जेल लगाना एक अच्छा ऑप्शन है। एलोवेरा में एंटी- इंफ्लामेट्री गुण होते हैं जो जलन कम करने में मदद करते हैं। इसके साथ ही एलोवेरा के फायदे त्वचा को स्वस्थ बनाए रखने में लाभदायक साबित होते हैं।

एलोवेरा के फायदे सनबर्न के लिए

3. एलोवेरा के फायदे बालों के लिए 

एलोवेरा के फायदे सेहत और त्वचा के साथ-साथ बालों के लिए भी कई सारे हैं। बालों की जड़ों को मजबूत बनाने के लिए एलोवेरा का इस्तेमाल किया जा सकता है। अगर आप रूसी से परेशान हैं तो एलोवेरा का इस्तेमाल कर सकते हैं। एलोवेरा के गुण बालों की जड़ों को मजबूत बनाने में मदद करते हैं। एलोवेरा के फायदे बालों के लिए से जुड़ी जानकारी आप नीचे से प्राप्त कर सकते हैं।

1. सेहतमंद बाल 

एलोवेरा के फायदे सेहत, त्वचा के साथ- साथ बालों के लिए भी हैं। एलोवेरा जेल पोषण से भरपूर होता है जो बालों को मजबूत बनाने में मदद करता है जिससे बालों का गिरना कम हो जाता है। एलोवेरा जेल से बालों की मालिश करने से डेड़ सेल निकल जाते हैं जिससे सेहतमंद बाल उगते हैं।

2. रूसी 

आपको बता दें कि तेलिए और सूखी, दोनों तरह की जडों में रूसी होती है। एलोवेरा के फायदे बालों के लिए इसमें मौजूद एंटी- फंगल खूबी के कारण होते हैं। यह साबित किया गया है कि एलोवेरा को बालों में लगाने से रूसी कम हो जाती है। इसके साथ ही यह जडों को मजबूत बनाने में मदद करते हैं।

4. एलोवेरा के अन्य फायदे 

एलोवेरा के फायदे ऊपर दिए फायदो के अलावा भी कई सारे हैं। एलोवेरा के फायदे इसमें मौजूद एंटी- इंफ्लामेट्री और एंटी- फंगल के कारण हैं। एलोवेरा के फायदे और भी हैं जिससे जुड़ी जानकारी आप नीचे से प्राप्त कर सकते हैं।

1. कीड़े काटने पर इलाज 

एलोवेरा के फायदे कई सारे हैं और इनमें से एक यह भी है कि कीड़े काटने पर एलोवेरा लगा सकते हैं। कीड़े काटने के घाव पर एलोवेरा जल लगाकर रखने से जलन और दर्द में आराम मिल सकता है। अगर चोट गंभीर है तो डॉक्टर की सलाह जरुर लें।

2. हल्के दाग 

त्वचा पर किसी तरह के निशान को कम या हल्का करने में एलोवेरा के फायदे मदद कर सकते हैं। एलोवेरा में ऐसे कई गुण होते हैं जो त्वचा को स्वस्थ बनाए रखने में मदद करते हैं। गंभीर निशान होने पर डॉक्टर से सलाह जरुर लें।

3. हल्के खिंचाव के निशान 

स्ट्रेच मार्क किसी को भी हो सकते हैं। इसके कई अलग- अलग कारण हो सकते हैं। इनके लिए प्राकृतिक इलाज किया जा सकता है। जैसे कि आप एलोवेरा के फायदे ले सकते हैं। एलोवेरा जेल लगाने से निशान हल्के होने में मदद मिल सकती है।

4. कंडीशनर

एलोवेरा के फायदे बालों के लिए भी कई सारे हैं। बालों में एलोवेरा जेल लगाने से बाल स्मूद हो जाते हैं और साथ ही मजबूत भी होने में मदद मिलती है।

एलोवेरा के अन्य फायदे कई सारे हैं।

एलोवेरा का उपयोग कैसे करें 

एलोवेरा का उपयोग कई तरीको से किया जा सकता है। एलोवेरा के फायदे जानने के लिए यह जरुरी है कि एलोवेरा का उपयोग कैसे किया जाए। एलोवेरा का उपयोग कई तरीको से किया जा सकता है जिसकी पूरी जानकारी आप नीचे से प्राप्त कर सकते हैं।

1. जलन में आराम 

एलोवेरा को इसकी कूलिंग खूबी के लिए भी जाना जाता है जिस कारण से एलोवेरा का उपयोग जलन से राहत पाने के लिए किया जा सकता है। एक अध्ययन में यह पाया गया है कि जली हुई जगह पर एलोवेरा लगाने से जलन में राहत मिलती है। इसके साथ ही एलोवेरा को आप घर में उगा सकते हैं। अगर आपके घर में एलोवेरा है तो आप एलोवेरा जेल का इस्तेमाल कर सकते हैं। अध्ययनों में भी यह बताया गया है कि जले हुए पर एलोवेरा जेल का इस्तेमाल करने से भी राहत मिलती है। सनबर्न होने पर त्वचा पर एलोवेरा जेल लगाने से आराम मिलता है।

2. मुंहासे 

ताज़ा एलोवेरा का इस्तेमाल त्वचा के लिए करने से त्वचा स्वस्थ रहती है। एलोवेरा के फायदे त्वचा के लिए कई सारे हैं जैसे कि मुंहासों से छुटकारा, साफ त्वचा आदि। मार्किट में अधिकतर स्किन केयर प्रोडक्ट एलोवेरा के इस्तेमाल से बनाए जाते हैं। अगर आपके घर में एलोवेरा है तो आप एलोवेरा जेल निकालकर त्वचा पर सीधे एलोवेरा जेल की हल्की मालिश कर सकते हैं। त्वचा पर एलोवेरा इस्तेमाल करने के बाद आपको त्वचा ताज़ा नज़र आने लगेगी।

एलोवेरा का उपयोग कैसे करें

3. स्वस्थ पाचन शक्ति 

जैसे एलोवेरा को त्वचा की जलन में राहत पाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है वैसे ही पेट की जलन के लिए भी इस्तेमाल किया जा सकता है। एक अध्ययन में यह बताया गया है कि एलोवेरा के फायदे पेट के लिए भी हैं। पेट में जलन होने पर एलोवेरा जूस का सेवन करने से राहत मिल सकती है।

4. स्वस्थ मुंह 

2017 में किए गए अध्ययन में यह साबित हुआ है कि जिन लोगों के टूथ पेस्ट में एलोवेरा है उनमें मुंह से जुड़ी परेशानी कम होने का आसार दिखाई दिए हैं। एक अध्ययन में 40 लोगों को शामिल किया गया जिसको दो ग्रुप में बांटा गया है। पहले ग्रुप मे एलोवेरा वाली टूथपेस्ट का इस्तेमाल किया वहीं दूसरे ग्रूप ने पारंपरिक टूथपेस्ट का इस्तेमाल किया है। 30 दिन बाद यह देखा गया कि एलोवेरा टूथपेस्ट इस्तेमाल करने वाले लोगों में कैंडिडा, पट्टिका और मसूड़े की सूजन का लेवल कम हुआ है।

एलोवेरा जेल का उपयोग 

एलोवेरा जेल का इस्तेमाल सबसे ज्यादा किया जाता है। अगर आपके घर में एलोवेरा का पौधा है तो आप उसमें से एलोवेरा जेल रोजाना निकालकर इस्तेमाल कर सकते हैं। एलोवेरा जेल का इस्तेमाल कई तरीके से किया जा सकता है जैसे कि सेहत, त्वचा आदि के लिए। एलोवेरा जेल के उपयोग से जुड़ी जानकारी आप नीचे से प्राप्त कर सकते हैं।

एलोवेरा जेल का उपयोग कैसे करें [इमेज क्रेडिट – commons.wikimedia.org]

1. सेहत के लिए 

एलोवेरा की मोटी पत्तियों में गाढ़ा जेल मौजूद होता है जो आपको कई सारे फायदे दे सकता है। एलोवेरा जेल पानी से बना होता है जिसको बाकी आहार के साथ एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर करने के लिए मिलाया जाता है। एलोवेरा में एंटी- फंगल और एंटी- बैक्टीरियल खूबी होती है जिस कारण से इसको सेहत के साथ- साथ सुंदरता के लिए भी इस्तेमाल किया जाता है। प्राकृतिक एलोवेरा जेल में विटामिन ए, विटामिन सी, विटामिन ई और विटामिन बी12 पाया जाता है।

2. जलने और छोटे कट के लिए

एलोवेरा जेल को दर्द से राहत पाने के लिए इस्तेमाल करने के लिए सबसे पहले एलोवेरा पत्तियों में से जेल को निकालें और फिर अच्छे से धो लें। एलोवेरा जेल लगाने से पहले इसमें पानी डालें और अच्छे से मिक्स कर लें।

एलोवेरा जूस के फायदे 

एलोवेरा का सेवन आप कई तरीके से कर सकते हैं जिनमें से एक है एलोवेरा जूस। अगर आपके घर में एलोवेरा का पौधा है तो आप पौधे का इस्तेमाल एलोवेरा जूस बनाकर भी कर सकते हैं। नीचे से आप एलोवेरा जूस और एलोवेरा जूस बनाने की विधि से जुड़ी विस्तार से जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

एलोवेरा जूस बनाने की विधि 

यह बात सभी को अच्छे से पता है कि घर में बनाई गई खाने की चीज से बेहतर कुछ नहीं हो सकता है। अगर आप एलोवेरा को अपनी डाइट में शामिल करना चाहते हैं तो बहुत अच्छी बात है। लेकिन इससे भी अच्छी बात यह होगी आप घर में बनाया गया एलोवेरा जूस का इस्तेमाल कर रहे हैं।

सामग्री

एलोवेरा जूस बनाने के लिए आपको इन चीजों की जरुरत है-

  • एलोवेरा के पत्ते
  • पानी
  • नींबू/ अदरक/ जूस (स्वाद के अनुसार)

एलोवेरा जूस बनाने की विधि

  • घर में लगे एलोवेरा में से एक पत्ता काट लें।
  • घर में एलोवेरा जूस बनाते समय आपको बहुत सावधानी रखनी जरुरी है। सबसे पहले एलोवेरा की ऊपर का छिलका छीलें। छिलका उतारते समय इस बात का ध्यान रखें कि पीले रंग की परत अच्छे से निकल जाए।
  • पीले रंग की परत को लैटेक्स कहा जाता है जो हानिकारक होती है। इसलिए पीली परत का इस्तेमाल जूस में बिल्कुल भी ना करें।
  • एलोवेरा का छिलका और पीली परत हटाने के बाद इसमें से एलोवेरा जेल चम्मच की मदद से निकाल लें।
  • एलोवेरा जेल गिलास में निकाल लें और फिर इसमें पानी डालें।
  • अब एलोवेरा जेल और पानी को अच्छे से मिक्स करें।
  • अगर आप बिना कुछ मिलाएं एलोवेरा जूस का सेवन करना चाहते हैं तो कर सकते हैं।
  • इसके अलावा स्वाद के लिए एलोवेरा जूस में नींबू या अदरक या एलोवेरा जूस को आप किसी और जूस में मिला सकते हैं।
  • इसके बाद एलोवेरा जूस का सेवन करें।
एलोवेरा जूस घर में कैसे बनाएं [इमेज क्रेडिट – commons.wikimedia.org]

एलोवेरा के पॉपुलर प्रोडक्ट 

एलोवेरा के फायदे एलोवेरा से बने प्रोडक्ट में पाए जाते हैं जो हमारी सेहत, त्वचा और बालों के लिए लाभदायक होते हैं। ऐसी कई प्रोडक्ट हैं जिनमें एलोवेरा को मुख्य सामग्री के रूप में इस्तेमाल किया जाता है। ऐसे कुछ प्रोडक्ट की जानकारी आप नीचे से प्राप्त कर सकते हैं।

1. एलोवेरा जूस 

सभी प्रोडक्ट में से एलोवेरा जूस का इस्तेमाल सबसे ज्यादा किया जाता है। एलोवेरा जूस के फायदे लेने के लिए जरुरी है कि इसका इस्तेमाल सही तरीके से करें। मार्किट में कई सारे ब्रांड के एलोवेरा जूस मौजूद हैं लेकिन एलोवेरा जूस का घर में भी बना सकते हैं। यहां से आप एलोवेरा जूस बनाने की विधि की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

2. एलोवेरा मॉइस्चराइजिंग क्रीम

एलोवेरी में तेलिए त्वचा, निशानों को हल्का करने में मदद और मुंहासों से बचाव करने के गुण हैं। इसलिए एलोवेरा को स्किन केयर प्रोडक्ट के मॉइस्चराइजिंग क्रीम और सिरम में इस्तेमाल किया जाता है।

3. एलोवेरा शैम्पू 

एलोवेरा के फायदे  त्वचा के लिए होने के साथ- साथ बालों के लिए भी हैं। एलोवेरा में एंटी- माइक्रोबियल और एंटी- इंफ्लामेट्री के गुण होते हैं जो बालों को बढ़ने में मदद करते हैं। मार्किट में आपको एलोवेरा के शैम्पू कई सारे आसानी से मिल जाएंगे।

एलोवेरा शैम्पू

4. एलोवेरा पाउडर 

कई लोगों के पास एलोवेरा का पौधा उगाने का समय नहीम होता है, यह लोग प्राकृतिक एलोवेरा पाउडर का पैकेट खरीद सकते हैं। इस पाउडर को बालों, त्वचा और यहां तक की खाने में भी मिलाया जा सकता है। एलोवेरा पाउडर का सेवन करने से पहले उसमें इस्तेमाल किए गए सभी पदार्थ की जांच अच्छे से कर लें, उसके बाद ही सेवन करें।

एलोवेरा के प्रोडक्ट कई प्रकार और साइज में उपलब्ध हैं। इन प्रोडक्ट ने एलोवेरा के इस्तेमाल को बढ़ा दिया है।

एलोवेरा पौधे घर में कैसे उगाएं 

एलोवेरा का पौधा अच्छे से नमीदार मिट्टी में उगता है, एलोवेरा सबसे ज्यादा ट्रोपिकल मौसम में उगता है। इसके अलावा पौधे को सूरज की किरणें चाहिए होती हैं। पौधे को गमले में रखने से पत्तियां खराब हो सकती हैं अगर गमले से पानी सही मात्रा में नहीं निकाला गया। एलोवेरा की लंबाई कम होती है इसलिए इसको घर के अंदर भी उगाया जा सकता है और सजावट के लिए भी इस्तेमाल किया जा सकता है। एलोवेरा को अंदर उगाने पर ध्यान देना जरुरी है क्योंकि इसको सूरज की किरणें और नमीदार मिट्टी चाहिए जिससे से पोषण से भरपूर उग सके।

एलोवेरा का पौधा घर में कैसे उगाएं

एलोवेरा के नुकसान 

कोई भी दवाई चाहे वो प्राकृतिक है या फिर सिंथेटिक, अनियमित रूप से खाने पर नुकसान दे सकती है। ऐसे ही एलोवेरा का सेवन असामान्य रूप से करने पर इससे नुकसान हो सकते हैं। एलोवेरा के नुकसान की जानकारी आप नीचे से प्राप्त कर सकते हैं।

1. लो ब्लड शुगर लेवल 

एलोवेरा के फायदे में से एक है कि यह ब्लड शुगर लेवल को सामान्य बनाए रखने में मदद करता है। आपको बता दें कि लंबे समय तक एलोवेरा का सेवन करने से ब्लड शुगर लेवल कम भी हो सकता है जो शरीर को नुकसान दे सकता है।

2. अपच 

अधिक मात्रा में एलोवेरा जूस का सेवन करने से पाचन शक्ति में परेशानी हो सकती है। एलोवेरा कब्ज़ में आराम देती है लेकिन अगर इसका सेवन अधिक मात्रा में कर लिया जाए तो पेट में जलन के साथ- साथ अपच भी हो सकती है।

3. टॉक्सिक लिवर 

एलोवेरा में बायो- एक्टिव कंपाउंड होते हैं, अधिक मात्रा में इनका सेवन करने पर यह लिवर को टोक्सिक बना सकते हैं। हालांकि यह लिवर को टोक्सिक बनाने से सीधा नहीं जुड़ा हुआ है लेकिन यह लिवर के डीटोक्सीफिकेशन प्रोसेस को कम कर देता है।

वीडियो- एलोवेरा के फायदे

FAQs

एलोवेरा के फायदे से जुड़े दिलचस्प सवालों के जवाब यहां से प्राप्त कर सकते हैं।

1. एलोवेरा चेहरे पर कैसे लगाया जाता है?

एलोवेरा जेल पत्ती काटे और एलोवेरा जेल चेहरे पर लगाएं। या फिर एलोवेरा के साथ शहद मिलाकर भी चेहरे पर लगा सकते हैं। या फिर एलोवेरा जेल में गुलाब जल मिलाकर भी लगा सकते हैं।

2. एलोवेरा में कौन सा विटामिन होता है?

एलोवेरा में विटामिन ए, विटामिन सी, विटामिन ई, फोलिक एसिड, कोलीन, बी1, बी2, बी3 और बी6 पाएं जाते हैं।

3. एलोवेरा के फायदे क्या हैं?

एलोवेरा एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होता है जिससे त्वचा की दिक्कतें दूर रहती हैं जैसे कि मुंहासें, काले धब्बे, आदि। एलोवेरा में एंटी- माइक्रोबियल गुण होता है जो त्वचा को साफ रखने में मदद करता है।

इसके अलावा एलोवेरा का सेवन करने से ब्लड शुगर लेवल सामान्य रहता है, पेट साफ रहता है, इम्युन सिस्टम मजबूत बनता है, डाइजेशन सही तरीके से होता है आदि।

4. एलोवेरा किसके लिए अच्छा है?

एलोवेरा को पेट के लिए अच्छा माना जाता है। सही मात्रा में और सही तरीके से एलोवेरा का सेवन करने से कब्ज की परेशानी दूर रहने में मदद मिलती है। इसके साथ ही एलोवेरा को ब्यूटी प्रोडक्ट में भी इस्तेमाल किया जाता है।

5. एलोवेरा का उपयोग कैसे करें?

एलोवेरा पौधे से एक पत्ता काट लें और इसमें से एलोवेरा जेल निकाल लें। एलोवेरा जेल चेहरे पर लगभग 10 मिनट तक लागकर रखें। एलोवेरा जेल लगाने से ठंडक महसूस होती है। इसके बाद चेहरा धो लें।

6. एलोवेरा जेल त्वचा पर कब लगाना चाहिए?

एलोवेरा जेल त्वचा पर सीधा लगा सकते हैं। एलोवेरा जेल का इस्तेमाल सनबर्न होने पर किया जा सकता है, त्वचा को साफ करने के लिए एलोवेरा जेल में गुलाब जल डालकर इस्तेमाल कर सकते हैं, मुंहासे होने पर भी एलोवेरा का इस्तेमाल किया जा सकता है।

आखिर में

अब हम यह कह सकते हैं कि एलोवेरा के फायदे के मुकाबले एलोवेरा के नुकसान कम हैं। अगर आपको एलोवेरा के फायदे लेने हैं तो इसका सेवन सही मात्रा में करें। इसके साथ ही ताज़ा एलोवेरा इस्तेमाल करने से आपको इसके फायदे सीधा मिलते हैं।

एलोवेरा आपकी सेहत, त्वचा और बालों के लिए लाभदायक है। लगभग पूरे शरीर के लिए फायदेमंद होने के कारण एलोवेरा को सदियों से इस्तेमाल किया जा रहा है।

आप एलोवेरा का इस्तेमाल कैसे करते हैं? हमें कमेंट में जरूर बताएं।

Subscribe to our Newsletter

0 0 votes
User Rating
Notify of
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments