मखाने के फायदे (Benefits Of Fox Nuts)- मखाने से सेहत को कैसे बेहतर करें

पूरी दुनिया में मखाने आसानी से मिल जाते हैं। घर की सुविधा में मखानों को मज़े से खाया जाता है। मखाने के फायदे लेने के लिए आपको इनको अपनी डाइट में शामिल करना होगा। मखाने के फायदे इन हिंदी में जानकारी यहां से प्राप्त कर सकते हैं।

मखाना को फॉक्स नट्स या फिर लोट्स सीड्स के नाम से भी जाना जाता है। इनको अंग्रेजी में फॉक्स नट्स इसलिए कहा जाता है क्योंकि यह एयायल फॉक्स या एयुरेल फेरॉक्स के परिवार से हैं जो पूर्वी एशिया के निवासी हैं। यह पौधा रुके हुए पानी में पाया जाता है जिसके साथ यह कई सारे फायदे लेकर आता है। आज आपको लग रहा होगा कि मखाने नए हैं लेकिन आपको बता दें कि मखानों का इस्तेमाल चाइनीज दवाई में 3000 साल से किया जा रहा है। मखानों को शुभ अवसर या फिर त्योहार पर बनाया जाता है। यह बहुत हल्के होते हैं क्योंकि इनमें कोई ऑयल, ट्रांस- फैट और अस्वस्थ सामग्री नहीं होती है। हालांकि यह काफी हल्के होते हैं लेकिन इनको खाने के बाद आपको पेट भरा हुआ लगेगा जो आपकी भूख को कम कर देगा।

इनमें कोई ऑयल, ट्रांस- फैट और अस्वस्थ सामग्री नहीं होती है।

मखाने के फायदे (Benefits Of Fox Nuts)

1. सूजन को कम करता है

मखाने खाने के फायदे में से सबसे बड़ा फायदा यह है कि इसमें ताकतवर एंटीऑक्सीडेंट मौजूद हैं जिसको फ्लेवोनोइड्स के नाम से जाना जाता है। फ्लेवोनोइड्स में एंटी- इंफ्लामेट्री खूबी होती है। इस खूबी के कारण यह शरीर को किसी भी प्रकार की सूजन, चोट और इंफेक्शन से बचाकर रखने में मदद करता है। इसके अलावा यह दिल सो स्वस्थ और एक्टिव बनाए रखने में भी मदद करता है।

2. जवान रखने में मदद

झुर्रियां, महीन रेखाएं, त्वचा का ढीला और सूखा होना यह कुछ बढ़ती उम्र के आसार हैं। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि त्वचा के सेल को फ्री रेडिकल के द्वारा नुकसान पहुंचाया जा रहा है। एंटीऑक्सीडेंट का मुख्य रुप से काम इन फ्री रेडिकल से लड़ने का है। मखाने एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होते हैं जो त्वचा को नुकसान पहुंचा रहे फ्री रेडिकल से बचाव करते हैं।

यह त्वचा में कोलेजन को प्रोड्यूज करने में मदद करते हैं जो त्वचा को सूखा औ ढीला नहीं होने देता है। इससे आपकी त्वचा सोफ्ट, जवान और निखरी हुई रहती है। कुछ लोगों का यह भी मानना है कि मखाने से बाल जल्दी से सफेद नहीं होते हैं। अगर आपको लंबे समय के लिए जवान रहना है तो आज ही मखाने को अपनी डाइट में जरुर शामिल करें।

3. अच्छा डिटोक्सिक एजेंट

अगर आप अपने शरीर से टोक्सिक त्तव को बाहर निकालना चाहते हैं तो रोजाना मखाने का सेवन करना शुरु कर दें। अगर आपका इम्यून सिस्टम सही से काम नहीं केरगा तो यह टोक्सिक त्तव आपके शरीर पर हावी हो जाएंगे जिस कारण आप बीमार हो सकते हैं। मखाने का सेवन करने से शरीर में से टोक्सिक त्तव बाहर निकल जाते हैं।

अगर आप अपने शरीर से टोक्सिक त्तव को बाहर निकालना चाहते हैं तो रोजाना मखाने का सेवन करना शुरु कर दें।

4. सामान्य ब्लड प्रेशर लेवल

मखाने में पोटैशियम नाम का मिनरल पाया जाता है जो सोडियम के बैलेंस को शरीर में बनाए रखता है। जब शरीर में सोडियम की मात्रा कम हो जाती है तो मेमोरी लॉस और हाई ब्लड प्रेशर जैसी बीमारी हो सकती है। जब आप मखाने को अपनी डाइट में शामिल करते हैं तो पोटैशियम की मात्रा शरीर में सामान्य बनी रहती है जिससे यह सारी बिमारियां होने के आसार कम हो जाते हैं।

संबंधित आर्टिकल
दालचीनी के फायदे- 12 स्वास्थ्य से जुड़े दालचीनी के फायदे।
जायफल के फायदे- 14 सेहतमंद जयफल के फायदे।

5. पुरुषों और महिलाओं में बांझपन

पानी की मात्रा ज्यादा होने के कारण यह शरीर में नमी को बनाए रखता है जिससे पुरुष और महिलाओं में रिप्रोडक्शन सिस्टम स्वस्थ बना रहता है।

6. हड्डियों के विकास के लिए महत्तवपूर्ण

मखाने में भारी मात्रा में कैल्शियम पाया जाता है जिससे हड्डियों के विकास में मदद मिलती है। मखाने आपकी हड्डियों को हमेशा सेहतमंद और स्ट्रोंग बनाए रखते हैं। बुढ़ापे में गठिया और ऑस्टियोपोरोसिस जैसी बीमारी के भी आसार कम हो जाते हैं। इसके अलावा एंटी- इंफ्लामेट्री होने के कारणयह जोडों और हड्डियों में दर्द से आराम भी देते हैं।

बुढ़ापे में गठिया और ऑस्टियोपोरोसिस जैसी बीमारी के भी आसार कम हो जाते हैं।

7. एनर्जी से भरपूर

मखाने हल्के होते हैं और इनको खाने के बाद भी आप पूरे दिन एनर्जी से भरे रहते हैं। ऐसा क्यों है? ऐसा इसलिए होता है क्योंकि मखाने प्रोटीन से भरपूर होते हैं और इसके साथ ही यह वजन कम करने में भी मदद करते हैं और मांसपेशियों के विकास में भी लाभदायक हैं। इसलिए मखानों को व्रत के समय खाने के लिए कहा जाता है।

8. ब्लड शुगर लेवल कंट्रोल में रहता है

मखाने का ग्लाइसेमिक इंडेक्स बहुत कम होता है जिसका मतलब है कि यह खून में बुहत कम मात्रा में ग्लूकोज को रिलीज करता है। इनमें ट्रांस फैट नहीं होता है। इसके साथ ही सैचुरेटेड फैट भी कम मात्रा में पाया जाता है। मखाने में यह फैट नहीं होते हैं जिस कारण से यह स्नैक्स के लिए बेहतर ऑप्शन है। इनका सेवन रोजाना करने से ब्लड शुगर लेवल कंट्रोल में रहता है।

9. एलर्जी वाले लोगों के लिए बिल्कुल सही

जिन लोगों को नट्स से एलर्जी होता है वो लोग इनका फायदा नहीं ले सकते हैं। लेकिन मखाने के साथ आपको चिंता करने की जरुरत नहीं है क्योंकि मखाने ग्लूटेन फ्री हैं और इसमें भारी मात्रा में प्रोटीन और कॉर्बोहाइड्रेट पाया जाता है। एलर्जी की चिंता किए बिना आप मखाने का सेवन कर सकते हैं। इसलिए गेंहू की एलर्जी से गुजर रहे लोगों के लिए मखाने सुरक्षित हैं।

10. वजन कम करने में मदद

मखाने में हाई प्रोटीन और लो कैलोरी पाई जाती है। इसलिए यह आपका पेट लंबे समय के भरकर रख सकते हैं। लंबे समय तक पेट भरने का मतलब है कि आप खाना बार- बार नहीं खाते हैं जिससे वजन कम होने में मदद मिलती है। अगर आप वजन कम करने की सोच रहे हैं तो मखाने को अपनी डाइट में शामिल कर सकते हैं।

संबंधित आर्टिकल
इंटरमिटेंट डाइट (आईएम)- रुक- रुक कर खाने से क्या वजन कम हो सकता है?
वजन कम करने के उपाय (How To Lose Weight Naturally)।

11. गर्भवति महिलाओं के लिए परफेक्ट

हाई कैल्शियम और आयरन होने के कारण यह स्नैक्स गर्भवति महिलाओं के लिए बहुत अच्छा है। इस समय में कुछ महिलाओं को स्ट्रेस और डायबटीज की शिकायत होती है। मखाने खाने से आप अपना यह समय अच्छा और मज़ेदार बना सकते हैं।

यहां से आप मखाने खाने के तरीके की जानकारी प्राप्त कर सकते है-

  • पैन में थोड़े से घी के साथ मखाने को रोस्ट करें। एक्सट्रा फ्लेवर के लिए मखाने में नमक और काली मिर्च डालें। सेहतमंद मखाने कुछ ही मिनटों में तैयार है।
  • रोस्ट किए गए मखानों में आप शहद और दालचीनी को मिला सकते हैं जिससे आप घर में ही सेहतमंद स्नैक्स बना सकते हैं।
makhana-mishry
हाई कैल्शियम और आयरन होने के कारण यह स्नैक्स गर्भवति महिलाओं के लिए बहुत अच्छा है।

आखिर में

मखाने पूरी दुनिया में आसानी से मिल जाते हैं। इनको घर की सुविधा में आसानी से बनाया जा सकता है। इनमें कैलोरी कम होती है जिस कारण यह वजन कम करने में मदद करते हैं। इसके लिए बस आपको मकाने को अपनी डाइट में शामिल करना है।

Leave a Reply on मखाने के फायदे (Benefits Of Fox Nuts)- मखाने से सेहत को कैसे बेहतर करें

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*