12 त्रिफला चूर्ण के फायदे- कितन बातों का रखें ध्यान (Triphala Churna: 12 Popular Health Benefits | Precautions Before Consuming)

त्रिफला आयुर्वेद की पारंपरिक दवाई का अहम भाग है। त्रिफला को तीन आयुर्वेद फल से बनाया जाता है जिससे सेहत से जुड़े कई सारे फायदे हैं।त्रिफला चूर्ण के फायदे इन हिंदी में जानकारी यहां से प्राप्त कर सकते हैं।

त्रिफला को आयुर्वेद की रीढ़ की हड्डी कहा जाता है। त्रिफला को तीन अहम सामग्री से बनाया जाता है इसलिए इसका नाम त्रिफला है, जिनको सूखाकर, पाउडर बनाकर और फिर मिक्स किया जाता है। यह सामग्री है- आमला, हरितकी और विभिताकी। इन तीनों को एक साथ मिलाने से यह सेहत से जुड़े फायदे देते हैं जिसके बाद इस मिश्रण को त्रिफला कहा जाता है। त्रिफला के फायदे कई हैं जैसे कि इसको कई सारी बीमारी के इलाज के लिए इस्तेमाल किया जाता है। आज के समय में लोगों को त्रिफला चूर्ण के फायदे के बारे में पता चल रहा है जिसके बाद आधुनिक तकनीक की मदद से त्रिफला काम कैसे करता है के बारे में जानकारी प्राप्त होने में मदद मिल रही है। त्रिफला के फायदे इन हिंदी में जानकारी आप नीचे से प्राप्त कर सकते हैं।

त्रिफला के फायदे (Health Benefits Of Triphala Churna)

1. त्रिफला इम्यूनिटी मजबूत बनाता है (Strengthens Immunity)

त्रिफला के फायदे इसमें मौजूद तीन सामग्री के कारण है। यह सामग्री है- आमला, हरितकी और विभिताकी। इन तीनों का मिश्रण इम्यूनिटी को मजबूत बनाने में मदद करते हैं। इसमें आमला के फायदे कई सारे हैं क्योंकि यह एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर है जिस कारण यह फ्री रेडिकल से लड़ने में मदद करता है और एंटीऑक्सीडेंट इम्यूनिटी को मजबूत बनाकर फ्री रेडिकल से बचाव करते हैं। वहीं दूसरी तरफ हरितकी को सफेद ब्लड सेल प्रोड्यूज करने के लिए जाना जाता है जो बाहर से होनी वाली बीमारी से बचाव करता है। विभिताकी, शरीर में से बैक्टीरिया निकालने का काम करता है।

2. मूत्र पथ के संक्रमण को रोकता है (Prevents Urinary Tract Infections)

कई बैक्टीरिया ऐसे होते हैं जिन पर दवाई का असर भी नहीं होता है और आखिर में इंसान को बीमार कर देते हैं। मूत्र पथ के इंफेक्शन ऐसे बैक्टीरिया के कारण ही होते हैं जिससे ब्लैडर में सूजन हो जाती है। इस स्थिति में त्रिफला चूर्ण के फायदे आपकी मदद कर सकते हैं। इसका सेवन करने से ऐसे बैक्टीरिया ता जन्म नहीं हो पाता है और यह बैक्टीरिया मर जाते हैं।

3. दर्द में आराम (Causes Pain-Relief)

त्रिफला में मौजूद हरितकी का सेवन करने से सूजन में आराम मिलता है। जोडों और मांसपेशियों में सूजन में आराम देता है और शरीर में से यूरिक एसिड को बाहर निकालने में मदद करता है। त्रिफला के फायदे, त्रिफला को पानी में मिलाकर पीने से गठिया, जोडों में दर्द में आराम देता है।

यह भी पढ़ें- सूजन कम करने के लिए खाने की लिस्ट।

4. सामान्य ब्लड प्रेशर (Regulates Blood Pressure)

जैसा कि पहले भी बताया गया है कि त्रिफला खाने से सूजन में आराम मिलता है। इसका मतलब है ब्लड वेसल्स जो नमक के संपर्क में रहती हैं वो ज्यादातर सीकुड़ जाती है जिससे खून का बहाव बढ़ जाता है। ऐसा होने पर त्रिफला के फायदे सूजन कम करने में मदद करते हैं और ब्लड प्रेशर को बी सामान्य बनाए रखने में मदद करते हैं।

5. स्वस्थ पाचन शक्ति (Healthy Digestion)

सदियों के त्रिफला के फायदे स्वस्थ पाचन शक्ति के लिए इस्तेमाल किए जा रहे हैं। यह गैस्ट्रिक जूस को प्रोड्यूज करते हैं जिससे खाना अच्छे से पचता है। इसके रेचक गुण आंत्र को सही से काम करने में मदद करते हैं जिससे बिना पचा हुआ खाना बाहर निकल जाता है। त्रिफला खाने से पेट साफ रहता है और पाचन शक्ति को स्वस्थ बनाए रखने में मदद करता है।

6. दिल की सेहत के लिए लाभदायक (Boosts Cardiovascular Health)

अभी तक यह आपको पता चल गया होगा कि त्रिफला का सेवन करने से खून का बहाव सामान्य बना रहता है। इसके अलावा भी त्रिफला चूर्ण के फायदे कई सारे हैं जैसे कि हाइपर टेंशन को कंट्रोल, कोलेस्टॉल लेवल को बढ़ने से रोकना और साथ ही फैट को जमा ना होने देना। इन सभी को रोकने से दिल में खून का बहाव सही बना रहता है जिससे दिल सेहतमंद रहता है।

यह भी पढ़ें- 9 फूड स्वस्थ दिल के लिए (Top 9 Heart Friendly Foods)

7. गैस्ट्रिक छालों का इलाज (Treats Gastric Ulcers)

जब पेट में एसिड वातावरण खराब हो जाता है और पेट के अंदर जलन होने लग जाती है तब गैस्ट्रिक छालें हो जाते हैं। त्रिफला के फायदे यहां काम आते हैं। त्रिफला में मौजूद तीन सामग्री पेट के एंजाइम को सुधारती है और श्लेष्मा झिल्ली (mucous membrane) को मजबूत बनाने में मदद करती है।

8. आंखों के लिए जरुरी (Vital For Eye Health)

त्रिफला चूर्ण के फायदेआंखों से भी जुड़े हुए हैं। त्रिफला का सही मात्रा में सेवन करने से नेत्रश्लेष्मलाशोथ (conjunctivitis), मोतियाबिंद (cataract) आदि से बचाव रहता है। त्रिफला के फायदे आंखों के लिए भी हैं, इससे आंखें धो सकते हैं। रातभर त्रिफला को पानी में भिगाकर रख दें और सुबह इस पानी से आंखों को धो लें। इसके अलावा एक अध्ययन में यह दावा किया गया है कि त्रिफला चूर्ण कई तरह के कंप्यूटर आई सिड्रोम के खिलाफ काफी असरदार है (1)।

9. सामान्य ब्लड शुगर लेवल (Manages Blood Sugar Level)

त्रिफाल में मौजूद हर सामग्री हाइपरग्लाइकेमिया के खिलाफ लड़ने में मदद करता है। यह एक स्थिती है जिसमें ब्लड प्लाज़मा में बहुत अधिक मात्रा में ब्लड ग्लूकोज लेवल बहता है। आपको पहले भी बताया है कि त्रिफला के फायदे इसमें मौजूद सामग्री के कारण है जो ब्लड ग्लूकोज लेवल को सामान्य बनाए रखने में मदद करते हैं।

10. अच्छे बाल (Good For Hair)

त्रिफला बालों की जडों को नमी और पोषण से भरपूर रखता है जिससे बाल सूखे नहीं होते हैं। अगर बालों के लिए कुछ प्राकृतिक चीज़ ढूंढ रहे हैं तो त्रिफला के फायदे आपको मिलता सकते हैं। बालों को पोषण देने के लिए त्रिफला बहुत अच्छा ऑप्शन है।

11. पोषण से भरपूर त्वचा (Skin Rejuvenation)

त्रिफला चूर्ण के फायदे बालों के साथ- साथ त्वचा के लिए भी हैं। यह त्वचा में नमी बनाए रखने में मदद करते हैं। त्रिफला का सेवन करने से बढ़ती उम्र के आसार जैसे कि झुर्रियां जल्दी से दिखाई नहीं देती हैं।

यह भी पढ़ें- बेस्ट एंटी एजिंग फूड- खाने की लिस्ट।

12. स्वस्थ मुंह (Oral Hygiene)

एंटी- माइक्रोबियल खूबी होने के कारण त्रिफला के फायदे मुंह के लिए बढ़ जाते हैं। मुंह में सड़न, छालें के आसार कम हो जाते हैं। मसूडों में होने वाली दिक्कत के समय त्रिफला चूर्ण एक तरह का टूथ पेस्ट की तरह काम कर सकता है।

त्रिफला का सेवन करने से पहले इन बातों का ध्यान रखें (Consumption of Triphala Churna Precautions)

आपको त्रिफला के फायदे के बारे में जानकारी मिल गई है और अब आप इसका सेवन करने की सोच रहे होंगे। लेकिन इसका सेवन करने से पहले कुछ बातों का ध्यान रखना जरुरी है।

त्रिफला चूर्ण के फायदे ब्लड ग्लूकोज लेवल को कम करने से जुड़े हुए हैं। अगर आप डायबटीज से गुजर रहे हैं तो इसका सेवन ना करें क्योंकि हर सामान्य से कई ज्यादा ब्लड शुगर लेवल को कम कर सकता है।

त्रिफला का सेवन नियमित रूप से ही करें। अधिक मात्रा में इसका सेवन करने से दस्त या फिर पानी की कमी की परेशानी हो सकती है।

आखिर में

हालांकि इसका सेवन करने का कोई नियमित समय नहीं है लेकिन त्रिफला के फायदे लेने के लिए इसका सेवन खाली पेट करें और चाहें तो सोने से कुछ घंटे पहले खाएं। किसी भी खाने की चीज़ का सेवन करने से पहले उससे जुड़े फायदे और नुकसान के बारे में जानकारी प्राप्त करना जरुरी है। आशा करते हैं इस आर्टिकल से आपको मदद मिली होगी।

Leave a Reply on 12 त्रिफला चूर्ण के फायदे- कितन बातों का रखें ध्यान (Triphala Churna: 12 Popular Health Benefits | Precautions Before Consuming)

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*